जल्द ही हॉस्पिटल से डिस्चार्ज हो सकते हैं 'प्रतिज्ञा' फेम अनुपम श्याम, एक्टर के भाई ने कहा- 'मदद तो मिली पर बिल उससे बहुत ज्यादा है'

By  
on  

टीवी एक्टर अनुपम श्याम, जो कई फेमस फिल्मों और टीवी शोज का हिस्सा रहे हैं, फिलहाल गोरेगांव, मुंबई में अस्पताल में भर्ती हैं. अनुपम को 27 जुलाई को आईसीयू में भर्ती कराया गया था. डायलिसिस के बाद कथित तौर पर बेहोश होने के बाद मुंबई के एक अस्पताल के आईसीयू में भर्ती कराया गया था. हालाँकि वह अभी स्थिर है और उम्मीद है कि उनको जल्द ही अस्पताल से छुट्टी मिल जाएगी. हालाँकि उनके छोटे भाई अनुराग का कहना है कि फाइनेंशियल हेल्प मिलने के बावजूद अस्पताल का बिल पूरा नहीं भऱ पाए है. 
एक लीडिंग वेबसाइट से बात करते हुए अनुपम के भाई ने कहा कि, 'मेरा भाई अभी ठीक है और अब बेहतर महसूस कर रहे है. डॉक्टर्स उन्हे जल्दी ही अस्पताल से छुट्टी दे देंगे. हालांकि डॉक्टर्स ने आने वाले कुछ महिनों के अंदर अनुपम की किडनी ट्रांसप्लांट करने की सलाह दी है, क्योंकि वह अभी किसी भी ऑपरेशन के लिए बहुत कमजोर है, तो अभी किडनी ट्रांसप्लांट के लिए डॉक्टर्स ने मना किया है. वहीं किडनी ट्रांसप्लांट में 40 लाख खर्च होंगे और मुझे नहीं पता कि मैं इतनी बड़ी रकम कैसे जुटाउंगा. डिस्चार्ज के लिए भी मेरे पास पैसे की कमी है और मैं अभी उसे ही मैनेज करने की कोशिश कर रहा हूं.' अनुपम के भाई ने ये भी कहा कि, 'बैंक की डिटेल्स शेयर करने के बाद, कई लोग फाइनेंशियल हेल्प के लिए आगे आए हैं लेकिन जो पैसे जुटे है, वह बिल की रकम की तुलना में बहुत कम है. शुक्र है कि मनोज बाजपेयी सर ने 1 लाख बड़ी मदद की, उससे बहुत राहत मिली है. हमें वास्तव में पैसे की बहुत जरूरत है. मैं आप सभी से निवेदन करता हूं कि प्लीज आगे आकर हमारी मदद करें.'
Recommended Read: अस्पताल में भर्ती 'प्रतिज्ञा' फेम अनुपम श्याम की आर्थिक मदद के लिए आगे आए मनोज बाजपेयी और सोनू सूद

बता दें कि, अभिनेता के भाई अनुराग के अनुसार उत्तरी मुंबई के मलाड इलाके में एपेक्स किडनी केयर में अनुपम का डायलिसिस चल रहा था. अनुपम (62 साल) को डायलिसिस में समस्या आने के बाद गोरेगांव के लाइफलाइन अस्पताल में भर्ती कराया गया था. एक्टर के भाई के मुताबिक, वह पिछले 6 महीने से बीमार हैं. उनकी किडनी में संक्रमण है, जिसके कारण उन्हें हिंदुजा अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां लगभग डेढ़ महीने तक उनका इलाज किया. उस समय उनकी सेहत ठीक रही लेकिन उन्हें समय-समय पर डायलिसिस का सुझाव दिया गया. लेकिन उन्होंने आयुर्वेदिक उपचार के लिए जाने का फैसला किया क्योंकि डायलिसिस में बहुत खर्च होता है. इससे कोई मदद नहीं मिली. हाल ही में डायलिसिस नहीं करवाने के कारण वह बेदम हो गए. उनकी छाती पानी से भर गई थी, इसलिए हमने फिर से उनका डायलिसिस शुरू किया और उन्हें राहत मिलने लगी.'

(Source: Spotboye)

Recommended

Loading...
Share