Hostages 2 Review: रोनित रॉय, दिव्या दत्ता और डिनो मोरिया अपनी थ्रिलर से भरपूर सीरीज के साथ आपको बना लेंगे अपना बंधक

By  
on  

वेब सीरीज: होस्टेजेस सीजन 2 
कास्ट: रोनित रॉय, दिव्या दत्ता, डीनो मोरिया, शिबानी दांडेकर, श्वेता बसु प्रसाद, अमित सियाल, फेज़ेह जलाली, असीम गुलाटी, कंवलजीत सिंह, दलित ताहिल
निर्देशक: सुधीर मिश्रा, सचिन ममता कृष्णन
ओटीटी: डिज्नी + हॉटस्टार
रेटिंग: 3.5 मून्स

(रिव्यू 12 पार्ट वाले सीरीज के पहले 4 एपिसोड पर आधारित है.)

होस्टेजेस के पहले सीजन में दर्शकों को एक गंभीर और आकर्षक कहानी के साथ बांधने के बाद, रोनित रॉय उसके दूसरे सीजन में पृथ्वी सिंह के रूप में वापसी कर चुके हैं. सीरीज डायरेक्टर सुधीर मिश्रा के साथ सचिन कृष्ण द्वारा डायरेक्ट की हुई इस सीजन की कहानी वहां से शुरू होती है, जहां पहले सीजन का अंत हुआ था. 

होस्टेजेस 2 के कहानी की शुरुआत इस रहस्य से खुलने के साथ शुरू होती है कि मुख्यमंत्री खुशवंत लाल हांडा (दलीप ताहिल), जो सेवानिवृत्त पुलिस अधीक्षक पृथ्वी सिंह (रोनित रॉय) के बंधक थे, उन्हें कुछ नहीं हुआ है और वह पृथ्वी के पास जिन्दा और सुरक्षित हैं. कहानी में पृथ्वी के मिशन की जगह हमें पारिवारिक व्यक्ति के रूप में सामने आने वाली उलझनों और समस्याओं से परिचित कराया जाता है. पृथ्वी की गंभीर रूप से बीमार पत्नी सबा सिंह (श्रीश्वर दुबे) को जल्द से जल्द ट्रांसप्लांट की जरुरत होती है. सफेद बालों वाली हांडा उसका संभावित डोनर होता है. पृथ्वी, सबा, उसके भाई अमन (आशिम गुलाटी) के साथ ट्रांसप्लांट के लिए शहर छोड़ने में किसी तरह सफल रहता है. अस्पताल के मुर्दाघर प्रभारी पीटर जॉर्ज (अमित सियाल) और उसकी पत्नी सारा जॉर्ज, सबा की चिकित्सा जरूरतों का ख्याल रखती हैं.

हालांकि, सबा की हालत बिगड़ने के बाद, सभी हाईवे के करीब एक हवेली में रुकते हैं. इसके बीच में, हांडा, जो मानता है कि पृथ्वी उसके जीवन के लिए खतरनाक है, वह भागने की कोशिश करता है लेकिन सभी के लिए गहरी परेशानियों का कारण बन जाता है. क्योंकि वहां हो रही अस्थिर गतिविधियों की खबर लगते ही आतंकवाद-रोधी सेल सभी चीजे अपने हाथ में लेता है और इस तरह से सीरीज में आयशा खान (दिव्या दत्ता) की एंट्री होती है, जो एक बुद्धिमान और अत्यधिक चौकस अधिकारी की भूमिका में हैं.

पुलिस और पृथ्वी की टीम के बीच किये जाने वाले स्मार्ट एक्सचेंज के बीच, सीरीज में फिर से सुब्रमण्यन (मोहन कपूर) से दोबारा मिलवाया जाता है, जिसके पास सीएम हांडा के लिए घातक प्लान होता है. उसके अलावा, एक बिजनेसमैन है जो अपनी महिला एसोसिएट (शिबानी दांडेकर) के साथ मिलकर हांडा से छुटकारा पाने के इच्छुक होता है, ताकि उसके बिज़नेस प्लान पूरे हो सके. इस सबप्लॉट में, रणबीर (डिनो मोरिया) एक कोल्ड ब्लडेड हत्यारा है, जो किसी व्यक्ति को मारने से पहले बिलकुल नहीं सोचता. दूसरी तरफ, शिखा (श्वेता बसु प्रसाद), एक युवा इंटेलिजेंस ऑफिसर है, जो अपने काम को लेकर मेहनती है, लेकिन वह इस बात को ज्यादा सीरीज नहीं लेती की वह एक महिला है. वह अपने सीनियर को गालियां देती है, जिसके साथ वह एक स्पेशल रिलेशनशिप शेयर करती है, शिखा के गुस्से से समझ में आता है कि किस तरह से उसकी नौकरी आकार ले रही है. कहानी में यह सभी सब-प्लॉट्स एक दूसरे से मिलने वाले हैं और इस तरह से पृथ्वी को बीच में रख थ्रिलर की शुरुआत होती है.

डायरेक्टर सचिन ने होस्टेजेस 2 में, एक आकर्षक कहानी दर्शकों के सामने रखी है. कहानी की शुरुआत से ही उन्होंने दर्शकों को बांधे रखने के लिए सही माहौल बनाया है. कहानी के हर किरदार के द्वारा उठाया गया एक भी कदम कहानी में रोमांच लाता है. ऐसा कहना गलत नहीं होगा कि इसके स्क्रीनप्ले को रियलिटी टच के करीब रखा गया है. कहानी की गति तेज है. होस्टेजेस 2 अपने 12 एपिसोड के हर 30 मिनट में कुछ नया लेकर आया है.

परफॉरमेंस की बात करें तो, पृथ्वी के रूप में रोनित सबसे अलग नजर आ रहे हैं. ये कहना गलत नहीं होगा कि उन्होंने अपने किरदार में डालने में किसी भी तरह की कमी नहीं की है. सीरीज में जान डालने में उनकी मदद दिव्या अपने किरदार से करती नजर आ रही हैं. एक ऑफिसर की भूमिका में वह लाजवाब हैं. डिनो मोरिया एक कोल्ड ब्लडेड हत्यारे के किरदार में जंच रहे हैं, उनके लम्बे बाल दाढ़ी किरदार को आकर्षक के साथ खतरनाक बना रहा है. उन्होंने अपनी भूमिका को ईमानदारी के साथ निभाया है.  

शिबानी ने भी अपने कॉर्पोरेट पेशेवर के किरदार के साथ न्याय किया है. वहीं दिल्ली की लड़की के अंदाज में श्वेता ने शिखा के रूप में अच्छा काम किया है. उनके किरदार के साथ हमें यह देखने मिलता है कि किस तरह से महिलाओं के साथ वर्कप्लेस पर समान रूप से व्यवहार नहीं किया जाता. साथ ही सीरीज में अमित, फ़ैज़ह, आसिम, श्रीश्वर, कंवलजीत और दलीप ने अपने-अपने किरदारों के साथ न्याय किया है. 

फोटोग्राफी के डायरेक्टर सचिन कृष्ण ने अपने कैमरे से भी दर्शकों को मंत्रमुग्ध किया है. उन्होंने रॉनेस को बरकरार रखा है. कुछ हिट और मिस के बावजूद, रोनित और दिव्या ने अपने टीम के साथ, स्क्रीन से सभी को जोड़े रखा है. ऐसे में इस हफ्ते अगर आप कुछ अच्छा देखने की उम्मीद कर रहे हैं, तो बॉलीवुड मसाला एंटरटेनर 'होस्टेजेस 2' आपके लिए एक सही चॉइस होगी.

PeepingMoon.com 'होस्टेजेस 2' को 3.5 मून्स देता है.

Recommended

Loading...
Share