अमिताभ बच्चन की डॉक्यूमेंट्री देख, इस हीरो ने बचायी रेप होने से पहले मासूम की जान

फ़िल्में कई बार हमारी जिंदगी में बदलाव का काम करतीं है, फ़िल्में कई बार बहुत कुछ सीखा कर जाती है और कई बार जागरूक भी करती है ऐसा ही मामला सामने आया है

कहते है फ़िल्में कई बार हमारी जिंदगी में बदलाव का काम करतीं है, फ़िल्में कई बार बहुत कुछ सीखा कर जाती है और कई बार जागरूक भी करती है ऐसा ही मामला सामने आया है मुंबई में मुंबई पुलिस ने रविवार की शाम को बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन के साथ मुंबईकरों को जागरूक करने के लिए एक खाश वीडियो अपने ट्विटर हैंडल के जरिये पोस्ट किया था, जिसमें बिग बी अपनी फिल्म के एक कैरेक्टर इंस्पेक्टर विजय की भूमिका में नजर आ रहे, डॉक्यूमेंट्री में एक यात्री बस में बैठकर यात्रा के दौरान फोन पर बात कर रहा होता है और अचानक दूसरी सीट पर एक शख्स बैठता है और बैग वहीं छोड़ कर चला जाता है जिसके बाद इंस्पेक्टर विजय की एंट्री होती है और यात्री को इंस्पेक्टर विजय कहते है अपनी प्ले अमिताभ बच्चन वीडियो -इंस्पेकटर विजय की भूमिका में ——

आंख, कान, दिमाग खुले रखो मुंबई तभी सुरक्षित रहेगी, जब हर एक मुंबईकर अलर्ट रहेगा , मुंबई पुलिस की आंख कान बनोगे तभी मुंबई सुरक्षित रहेगा,,,,

इसी डॉक्यूमेंट्री वीडियो से प्रभावित होकर मुंबई के युवक ने बड़ी बहादुरी से चार साल की मासूम का दुष्कर्म होने से पहले ही बचा लिया, घटना सोमवार की दोपहर दो बजे की है जब मुंबई की एक मल्टीनेशनल कंस्ट्रक्शन कम्पनी में काम करने वाली 25 वर्षीय सरवीन सिंह जो कि मुंबई मुलुंड अमर नगर इलाके में रहते है सरवीन अपने दोस्त टिंकू बरीचा के साथ घर जा रही थे , तब पास की ही झाड़ियों से चीखने की आवाज सुनाई दी, बच्ची रो रही थी, अंदर जाने पर देखा तो बच्ची के शरीर पर कपड़े नहीं थे, मासूम खून ने लतपथ थी सर पर उसके चोट लगी थी और उसके पास में अधेड़ उम्र का एक शख्स खड़ा था.

बाईट- सरवीन सिंह (मासूम की जान बचाने वाला )
सरवीन ने जब पहले झाड़ियों से लड़की की चीखने की आवाज सुनी तो उसके कान खड़े हो गए, शुरुआत में सरवीन सिंह ने दो तीन बार आवाज को अनसुना किया लेकिन फिर जब पेड़ो के बीच से आवाज और तेज सुनाई दी तो उसने फ़ौरन अपने घर वालों को सुचना दी घर वालो ने फ़ौरन कहा की जाओ और देखो क्या है सरवीन फ़ौरन झाड़ियों की तरफ बढ़ा अंदर जाने पर देखा तो एक चार साल की बच्ची जिसके सर व् मुहं से खून बह रहा जिसके शरीर पर कपड़े ना के बराबर देख सरवीन चौक गया पास में देखा तो नशे में एक युवक उसके पास खड़ा था बच्ची रो रही थी , सरवीन ने फ़ौरन पूछा कौन है ये शातिर आरोपी ने जवाब दिया यह मेरी बेटी है इसे बाथरूम कराने ले आया हूं , लेकिन सरवीन को समझ में आ गया की अगर यह पिता होता तो बेटी को पेड़ों के बीच बाथरूम कराने न लाता दूसरा खून बह रहा है तो वो उसे पहले अस्पताल ले जाता ,सरवीन ने फ़ौरन चिल्लाना शुरू किया , यह देख आरोपी हाथापाई करने लगा , सरवीन सिंह का शक यकीन में बदल गया जोर जोर से चिल्लाने पर आस पास की सड़क से गुजर रहे लोग भाग कर आने लगे फिर क्या था पुलिस की टीम सुचना मिलते ही मौके पर पहुंची और आरोपी को गिरफ्तार कर लिया

हमले से बात करने के दौरान सरवीन भावुक वो गया कि एक मासूम के साथ कोई कैसे वहशी बन सकता है दुष्कर्म करने की सोच भी सकता है

बाईट- सरवीन सिंह (मासूम की जान बचाने वाला )
गिरफ्तार किये गए आरोपी का नाम विजय यादव (38 )है ,यादव बच्ची को चॉकलेट देकर बहला फुसलाकर झाड़ियों में दुष्कर्म करने के लिए ले गया था लेकिन समय रहते सरवीन की जागरूकता अलर्ट ने मासूम की जिंदगी बचा ली , मुलुंड पुलिस स्टेशन के सीनियर पुलिस निरक्षक श्रीपद काले के मुताबिक़, नागरिक की सतर्कता ने बचायी मासूम की जान , मुंबई पुलिस ने आरोपी विजय यादव को सेक्शन 363 (किडनैपिंग ) सेक्शन 354 (मोलेशटेशन ) और पोस्को एक्ट के तहत गिरफ्तार किया है

बाईट– श्रीपद काले मुलुंड पुलिस स्टेशन के सीनियर पुलिस निरक्षक
सरवीन सिंह एक मल्टीनेशनल कंस्ट्रक्शन कंपनी में करता है, सरवीन को बॉलीवुड फिल्मों का काफी शौख है खाशकर अमिताभ बच्चन की फिल्मों का ,बिग बी सरवीन के आइडियल हीरो है , सरवीन के मुताबिक मुंबई पुलिस द्धारा अमिताभ बच्चन की डॉक्यूमेंट्री से यह प्रभावित हुए जिसकी वजह से समय रहते घटना को रोक पाए

LEAVE A REPLY

avatar