Movie Review: ‘भैयाजी सुपरहिट’ की कहानी ने ‎डुबोया सभी एक्टर्स का अभिनय

सात साल पहले शुरू हुई भैयाजी सुपरहिट' फिल्म आख़िरकार सिनेमाघरों में दस्तक दे चुकी है.

सात साल पहले शुरू हुई भैयाजी सुपरहिट’ फिल्म आख़िरकार सिनेमाघरों में दस्तक दे चुकी है. ‘भैयाजी’ से पहले सनी देओल की दो फिल्में बड़े पर्दे पर रिलीज हो चुकी है लेकिन उम्मीदों को निराश करती दोनों ही फिल्में ऑडियंस को रिझाने में नाकामयाब साबित हुई. लगातार दो फिल्म फ्लॉप होने के बाद क्या नीरज पाठक की यह फिल्म सनी के करियर को आगे बढ़ाएगी आइए जानते है.

कहानी:
फिल्म की कहानी वाराणसी के रहने वाले दबंग भैया जी (सनी देओल) की है जो अपनी पत्नी सपना दुबे( प्रीति जिंटा ) से बेशुमार मोहब्बत करते है लेकिन फिल्म में कुछ ऐसी घटनाएं दिखाई जाती है जिसके बाद सपना घर छोड़कर चली जाती हैं और भैया जी परेशान हो जाते हैं. पत्नी को घर वापस कैसे लाया जाए इसके लिए वह हर तरह का उपाय सोचते है. जिसमें फिल्म डायरेक्टर गोल्डी कपूर (अरशद वारसी) फिल्म राइटर तरुण पोर्नो घोष (श्रेयस तलपडे) डॉक्टर ज्ञान प्रकाश बुद्धीसागर (संजय मिश्रा) बिल्डर गुप्ता (पंकज त्रिपाठी) और अभिनेत्री मल्लिका (अमीषा पटेल) की एंट्री होती है, अपनी जिंदगी के ऊपर फिल्म बनाकर भैया जी अपनी पत्नी सपना की वापसी चाहते हैं. वहीं दूसरी तरफ भैया जी का दुश्मन हेलीकॉप्टर मिश्रा (जयदीप अहलावत) है जो कि भैया जी को बिल्कुल नहीं पसंद है, और यह दुश्मनी काफी सालों से चली आ रही है. अब क्या भैया जी की जिंदगी में सपना की वापसी होती है और हेलीकॉप्टर मिश्रा से उनकी दुश्मनी का अंजाम क्या होता है, यह सब कुछ जानने के लिए आपको फिल्म देखनी पड़ेगी.

कमज़ोर कड़ियां:
फिल्म की कहानी बहुत ही कमजोर है जिसकी वजह से इतने सारे अच्छे एक्टर्स की मौजूदगी भी काफी फीकी लगती है और 1 तरीके से कह सकते हैं कि इस कहानी ने सभी एक्टर्स का अभिनय पूरी तरीके से डूबा दिया है. कोई भी किरदार कभी भी कुछ भी करने के लिए तैयार है और कहानी किसी भी तरीके से निष्कर्ष तक पहुंचने के लिए बेबस से दिखाई देती है और 1 तरीके से कह सकते हैं कि काफी दिशाहीन कहानी है. हालांकि कहीं- कहीं हंसी भी आती है परंतु एक अच्छी फिल्म बनते बनते रह गई. फिल्म का डायरेक्शन काफी कमजोर है और स्क्रीनप्ले के साथ साथ सिनेमैटोग्राफी भी ढीली है. रिलीज से पहले फिल्म के गाने भी हिट नहीं हो पाए हैं और फिल्मांकन के दौरान वह भी निराश करते हैं, उनका आगाज और अंजाम दोनों फीका है और क्लाइमैक्स तो काफी बोर करता है.

जानिए आखिर फिल्म को क्यों देख सकते हैं:
सनी देओल के ताबड़तोड़ एक्शन अरशद वारसी और श्रेयस तलपडे की कॉमेडी की जुगलबंदी तथा संजय मिश्रा के कुछ पंच आपका मनोरंजन कर सकते हैं यदि आप इन सितारों के दीवाने हैं तो एक बार जरूर ट्राई कर सकते हैं अन्यथा टीवी पर आने तक का इंतजार करें.

स्‍टार कास्‍ट:
सनी देओल, प्रीति जिंटा,संजय मिश्रा, पंकज, त्रिपाठी, अमीषा पटेल, अरशद वारसी, श्रेयस तलपड़े

मून:
1.5