'मैं श्रीदेवी के साथ अपनी पहली मुलाकात कभी नहीं भूल सकती'- 'इंग्लिश विंग्लिश' निर्देशिका गौरी शिंदे   

By  
on  

तीन साल पहले 24 फरवरी को जब श्रीदेवी के निधन की खबर टीवी चैनलों और वेबसाइट पर दिखाई जाने लगी, उस समय पूरा देश गम के माहौल में था. जब एक्ट्रेस की मौत हुयी उस समय वह दुबई में थी. वो पूरे परिवार के साथ भतीजे मोहित मारवाह की शादी अटेंड करने के लिए वहां गयी थी. रिपोर्ट्स बताती हैं कि बाथटब में डूबने से श्रीदेवी की मौत हुयी. तीसरी डेथ एनिवर्सरी पर श्रीदेवी की दोनों बेटियां उन्हें याद कर रही हैं. दोनों कपूर सिस्टर्स का अपनी मां के साथ दोस्तों जैसा रिश्ता था.

श्रीदेवी ने अपने करियर में कई बेहतरीन फिल्में की. इंग्लिश इंग्लिश के साथ उन्होंने सक्सेफुल कमबैक किया. इस फिल्म की निर्देशिका गौरी शिंदे थी. एक्ट्रेस की डेथ एनिवर्सरी पर ई टाइम्स के साथ बातचीत में गौरी ने श्रीदेवी के साथ अपनी पहली मुलाकात को याद करते हुए कहा, 'मैं श्रीदेवी अपनी पहली मुलाकात कभी नहीं भूल सकती. हम दोनों के लिए यह ब्लाइंड डेट की तरह था क्यूंकि हम पहली बार मिल रहे थे. वह मेरे बारे में ज्यादा नहीं जानती थी, इसके अलावा मैं बाल्की की पत्नी थी. मैं इसे ब्लाइंड डेट कहती हूं क्योंकि हमें वास्तव में एक-दूसरे से प्यार हो गया था. कभी-कभी आप कुछ लोगों से मिलते हैं और आप एक इंस्टेंट क्लिक महसूस करते हैं. ये भी वैसे ही था. जैसे कि हमारी आत्माएं बस मिलने के लिए थीं और साथ में कुछ करने के लिए, हालांकि यह थोड़ा ड्रेमेटिक हो सकता है. मैं उनसे बिल्कुल प्यार करती हूं. मैं ये इसलिए नहीं कह रही हूं कि वह एक स्टार है और मैं खौफ में हूं लेकिन क्योंकि मुझे उनकी आत्मा बहुत पसंद है.

मां श्रीदेवी की तीसरी डेथ एनिवर्सरी पर बेटी जान्हवी कपूर और ख़ुशी कपूर को आयी याद, पोस्ट शेयर कर लिखा यह

 

गौरी ने आगे बताया, 'मीटिंग के लिए उन्होंने सफेद पैंट के साथ एक नारंगी रंग की शर्ट पहन रखी थी और बिना मेकअप जिसने उन्हें एक नॉर्मल इंसान बनाया, जो वह नहीं हैं. एक कप चाय पर तालमेल बनाने के बाद, मैंने उसे स्क्रिप्ट सुनाई. एक राइटर के रूप में, जब आप एक स्क्रिप्ट सुनाते हैं, तो आप रिएक्शंस पर भी ध्यान देते हैं और तुरंत जान जाते हैं जब कोई व्यक्ति वास्तव में आपकी कहानी से जुड़ता है, यह एक अलग एहसास है. उसकी आंखों, इशारों और मुस्कुराहट से मैं देख सकती थी कि वह समझ गई है हमारे बीच एक अलग तरह का संबंध था और हम दोनों इसे महसूस करते थे और मेरे नरेशन के आखिर में उन्होंने कहा, 'गौरी, मैं वास्तव में इसे बहुत पसंद करती हूं. मैं तुम्हारे बारे में नहीं जानती लेकिन मैं इसे करना चाहती हूं. यह मेरे लिए 'हां' है.' जिस क्षण उसने कहा कि मैं बहुत रोमांचित थी.'

Recommended

Loading...
Share