'मर्डर' फिल्म को लेकर कानूनी पचड़े में फंसे राम गोपाल वर्मा ने दी सफाई कहा- 'मेरी फिल्म एक सच्ची घटना पर आधारित नहीं है'

By  
on  

डायरेक्टर राम गोपाल वर्मा का विवादों में आना कोई नई बात नहीं है. बता दें कि फादर्स डे (21 जून) पर, फिल्ममेकर ने 'मर्डर' नाम की अपनी फिल्म की घोषणा की, जिसकी कहानी 2018 में तेलंगाना के मिर्याल्सगुडा शहर में हुई जातिगत हत्या पर आधारित है. लेकिन अब डायरेक्टर इस फिल्म के रिलीज से पहले क़ानूनी पचड़े में फंसे हुए नजर आ रहे हैं. दो साल पहले, प्रणय कुमार को उनकी पत्नी अमृता के पिता मारुति राव और चाचा श्रवण कुमार ने मार डाला था.

ऐसे में प्रणय के पिता बालास्वामी ने फिल्म मर्डर का विरोध किया है. मृतक के परिवार ने अदालत से गुहार लगाई  है कि राम गोपाल वर्मा की फिल्म मर्डर प्रणय की हत्या को प्रभावित कर सकती है. बालास्वामी की याचिका का जवाब देते हुए, नलगोंडा स्पेशल SC / ST कोर्ट ने मिरयालगुडा पुलिस को राम गोपाल वर्मा के खिलाफ मामला दर्ज करने का आदेश दिया है.

मर्डर के फर्स्ट लुक पोस्टर को साझा करते हुए, राम गोपाल वर्मा ने ट्विटर किया था. नीचे देखें पोस्टर:

ऐसे में इसपर अपना रिएक्शन देते हुए वर्मा ने ट्वीट कर लिखा है, "मेरी फिल्म MURDER पर दर्ज मामले पर मीडिया की अटकलों के संबंध में, मैं एक बार फिर से दोहराना चाहता हूं कि मेरी फिल्म एक सच्ची घटना पर आधारित और प्रेरित नहीं है. इसके अलावा, फिल्म में किसी की जाति का उल्लेख नहीं है."

बात करे मामले की तो, 2018 में, प्रणय को वैश्य समुदाय की एक उच्च जाति की लड़की अमृता से शादी करने के लिए सितंबर में काट दिया गया था. पुलिस के मुताबिक, अमृता के पिता मारुति राव ने हत्या को एक कॉन्ट्रैक्ट किलिंग के जरिए अंजाम दिया था.

(Source: India Today)

Recommended

Loading...
Share