रिहा चक्रवर्ती की फिर मुश्किलें बढ़ी सुशांत सिंह राजपूत मामले में NCB ने कोर्ट में दाखिल किए आरोप, अगली सुनवाई 12 जुलाई को

By  
on  

रिया चक्रवर्ती और उनके भाई शोविक की परेशानी अभी ख़त्म नहीं हुई है। सुशांत सिंह राजपूत मामले की जांच कर रही मुंबई नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो एक्टर की मौत से जुड़े ड्रग्स मामले में मुंबई की विशेष अदालत में अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती, उनके भाई शोविक चक्रवर्ती और अन्य के खिलाफ आरोप दाखिल कर दिए हैं। कोर्ट ने अभी रिया पर आरोप तय नहीं किए हैं। इस केस की अगली सुनवाई 12 जुलाई को होगी।

इस मामले पर NCB की तरफ से स्पेशल पब्लिक प्रॉसिक्यूटर अतुल सरपांडे ने कहा कि सभी आरोपियों पर चार्जशीट में आरोप तय किए गए हैं। इस ड्राफ्ट चार्जशीट को फाइल करते हुए उन्होंने अदालत से रिया और शोविक पर मादक पदार्थों के सेवन और मृतक अभिनेता राजपूत के लिए ऐसे पदार्थों की खरीद और भुगतान के करने के आरोप तय करने का आग्रह किया है। 

स्पेशल पब्लिक प्रॉसिक्यूटर अतुल सरपांडे ने बताया कि अदालत सभी आरोपियों के खिलाफ आरोप तय करने वाली थी। हालांकि, ऐसा नहीं किया जा सका क्योंकि कुछ अभियुक्तों ने डिस्चार्ज ऐप्लिकेशन दाखिल की है। उन्होंने बताया कि कोर्ट ने कहा है कि डिस्चार्ज ऐप्लिकेशन पर फैसला होने के बाद ही आरोप तय किए जाएंगे। बुधवार को रिया और शोविक समेत सभी आरोपित कोर्ट में पेश हुए। नारकोटिक ड्रग्स एंड साइकोट्रोपिक सब्सटेंस (एनडीपीएस) अधिनियम से संबंधित मामलों की सुनवाई करने वाले विशेष न्यायाधीश वीजी रघुवंशी ने मामले की सुनवाई के लिए 12 जुलाई की तारीख तय की है। 

सुशांत सिंह राजपूत 14 जून 2020 को मुंबई में अफने फ्लैट में फंदे पर लटके पाए गए थे। इस मामले की जांच सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर सीबीआई कर रही है, लेकिन जांच एजेंसी अभी तक किसी नतीजे पर नहीं पहुंची है। सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में ड्रग्स का एंगल भी सामने आया था। 
एक महीना जेल में रही थी रिया चक्रवर्ती। रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) को इस मामले में सितंबर 2020 में गिरफ्तार किया गया था। गिरफ्तारी के लगभग एक महीने बाद उन्हें बॉम्बे हाईकोर्ट (Bombay High Court) ने जमानत दे दी थी। रिया के अलावा, उनके भाई शोविक चक्रवर्ती (Showik Chakraborty) और कई अन्य लोगों को भी कथित तौर पर ड्रग्स के सेवन, कब्जे और वित्तपोषण के मामले में आरोपी के रूप में पेश किया गया है। इनमें से ज्यादातर जमानत पर बाहर हैं। 
 

Recommended

Loading...
Share