राष्ट्रपति उमीदवार द्रौपदी मुर्मू को लेकर डायरेक्टर रामगोपाल वर्मा ने दिया विवादित बयान, मामला दर्ज कराने की उठी मांग 

By  
on  

बॉलीवुड के मशहूर फिल्म मेकर राम गोपाल वर्मा एक बार फिर विवादों में आ गए हैं। इस बार उन्होंने ने कथित तौर पर एनडीए की राष्ट्रपति पद की उम्मीद द्रौपदी मुर्मू (Droupadi Murmu) को लेकर आपत्तिजनक बयान दिया है। उनके इस बयान के बाद उनके खिलाफ बीजेपी नेता ने शिकायत दर्ज कराई है। जी दरअसल बीते शुक्रवार को हैदराबाद पुलिस ने कहा कि, 'वह जल्द ही फिल्म मेकर के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज करेगी।' इस मामले में तेलंगाना से बीजेपी के वरिष्ठ नेता जी। नारायण रेड्डी ने अपनी शिकायत में दावा किया है कि फिल्म निदेशक (Ram Gopal Varma) ने द्रौपदी मुर्मू को लेकर सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म ट्विटर पर आपत्तिजनक टिप्पणी की है। जी हाँ, वहीं एबिद्स पुलिस इंस्पेक्टर बी प्रसाद राव ने कहा, ‘हमें शिकायत मिली है और हमने इसे कानूनी राय के लिए भेजा। कानूनी राय मिलने के बाद हम वर्मा के खिलाफ अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम के तहत मामला दर्ज करेंगे।’

आप को बता दें कि बीते शुक्रवर को राम गोपाल वर्मा ने ट्विटर पर कहा है, 'अगर द्रौपदी राष्ट्रपति होगी, तो पांडव कौन होंगे? और सबसे जरूरी, कौरव कौन होंगे।' इसी ट्वीट को लेकर अपनी शिकायत में बीजेपी के वरिष्ठ नेता जी। नारायण रेड्डी ने कहा है, 'वर्मा की ट्विटर पर की गई टिप्पणी एक वरिष्ठ महिला राजनेता और झारखंड की पूर्व राज्यपाल के लिए बेहद अपमानजनक है।' इसी के साथ बीजेपी नेता ने शिकायत के साथ ट्वीट को सबूत के तौर पर पुलिस को सौंपा है। जी दरअसल उन्होंने मांग की है कि पुलिस एससी/एसटी एक्ट के तहत मामला दर्ज करे और निदेशक को कड़ी से कड़ी सजा दे। इसी के साथ पुलिस ने कहा है कि कानूनी राय मिलने के बाद आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।

गोशामहल से बीजेपी विधायक टी राजा सिंह ने भी राम गोपाल वर्मा के बयान की निंदा की है। वहीं राजा सिंह ने कहा है कि निदेशक ने नशे की हालत में ट्वीट किए हैं और उन्होंने कहा, ‘वर्मा हमेशा ही इस तरह की आपत्तिजनक टिप्पणी करके खबरों में बने रहना चाहते हैं।’ वहीं दूसरी तरफ राजा सिंह ने पुलिस से वर्मा के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज करने की मांग की है। जी दरअसल उन्होंने कहा है कि मुर्मू के खिलाफ इस तरह की टिप्पणी सबसे दुर्भाग्यपूर्ण और अनुचित है। हालांकि बाद में फिल्म मेकर ने अपनी टिप्पणी को लेकर सफाई भी दी है।

उन्होंने कहा है, ‘इस ट्विटर पोस्ट का उद्देश्य किसी की भावनाओं को ठेस पहुंचाना नहीं था। यह व्यंग्य के तौर पर कहा गया था। महाभारत में द्रौपदी मेरा पसंदीदा किरदार है लेकिन ये नाम इतना दुर्लभ है कि मुझे संबंधित पात्र याद आ गए और ये मेरी अभिव्यक्ति थी। इससे किसी की भावनाओं को ठेस पहुंचाना मकसद बिलकुल नहीं था।’
 

Recommended

Loading...
Share