बॉम्बे हाई कोर्ट ने कहा नवाज़ुद्दीन के वकील से कहा ' हमें बच्चों की भी चिंता है। ' पूर्व पत्नी आलिया सिद्दीकी को दोनों बच्चों के साथ अदालत में पेश होने का आदेश 

By  
on  

बॉलीवुड एक्टर नवाजुद्दीन सिद्दीकी की शादीशुदा जिंदगी इन दिनों मुश्किल दौर से गुजर रही है। नवाजुद्दीन और उनकी पत्नी आलिया सिद्दीकी के रिश्ते में दरार आ चुकी है। एक्टर की पत्नी ने उनपर कई गंभीर आरोप लगाए हैं। आलिया ने कहा कि नवाजुद्दीन ने उन्हें और उनके बच्चों को घर से बाहर निकाल दिया है। आज वो पैसों पैसों के लिए मौहताज हो गयी हैं। ऐक्टर नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी ने अपनी पूर्व पत्नी आलिया और भाई शमसुद्दीन के खिलाफ ₹100 करोड़ का मानहानि का मुकदमा दायर किया है। इसी मामले की सुनवाई करते हुए  कोर्ट की तरफ से दोनों को 3 अप्रैल तक का समय दिया है, इन्हें कोर्ट में हाजिर होना होगा। इसके साथ ही नवाज के भाई शमशुद्दीन सिद्दीकी को भी हाजिर होने के आदेश दिए गए हैं।

बॉम्बे हाईकोर्ट ने एक्टर नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी और उनकी पूर्व पत्नी आलिया उर्फ ​​अंजना पांडे को अपने बच्चों की खातिर समझौता करने की संभावना तलाशने के लिए तलब किया है। अदालत ने दोनों को तीन अप्रैल 2023 को शाम साढ़े चार बजे अपने चैंबर में मौजूद रहने का निर्देश दिया। पीठ ने सिद्दीकी के वकील के एक बयान के जवाब में कहा , ' हमें बच्चों की भी चिंता है। ' जस्टिस रेवती मोहिते डेरे और जस्टिस शर्मिला देशमुख की पीठ ने सिद्दीकी द्वारा दायर बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका में आदेश पारित किया, जिसमें 7 और 12 वर्ष की आयु के अपने बच्चों की पूर्ण कस्टडी की मांग की गई थी। नवाज़ ने मानहानि और उत्पीड़न के आरोप में उनके भाई शमसुद्दीन और उनकी पूर्व पत्नी अंजना पांडे के खिलाफ 100 करोड़ रुपये के हर्जाने के लिए मुकदमा भी दायर किया है।

पूर्व पत्नी अंजना पांडे ने नवाज़ के खिलाफ मजिस्ट्रेट की अदालत में लंबित घरेलू हिंसा का मामला दायर किया है। अपनी बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका में सिद्दीकी ने दावा किया कि उनकी पत्नी और बच्चे संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के नागरिक हैं और जब से वह भारत लौटी है, बच्चे स्कूल नहीं जा रहे हैं। सिद्दीकी के वकील अदनान शेख ने गुरुवार को अदालत को सूचित किया कि मामले को निपटाने की संभावना तलाशने के लिए रखा गया था, लेकिन पूर्व पत्नी के वकील ने अभी तक प्रस्ताव पर जवाब नहीं दिया है।

" मुझे नहीं लगता कि वे बसना चाहते हैं।" उन्होंने कहा। जस्टिस डेरे ने तब पूछा कि दंपति सुलह की संभावना पर विचार क्यों नहीं करते लेकिन पूर्व पत्नी की ओर से पेश वकील ने कहा कि वह इसे वहन नहीं कर सकतीं। शेख ने कहा कि सिद्दीकी नहीं जानते कि उनके बच्चे कहां हैं और वे स्कूल नहीं जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि स्कूल ने भी एक मैसेज भेजा था। पीठ ने तब दोनों को बच्चों के स्कूल से गायब होने के संबंध में 3 अप्रैल को जल्द से जल्द न्यायाधीश के चैंबर में उपस्थित रहने के लिए कहा।
नवाज के वकील जस्टिस रियाज छागला की बेंच के सामने मानहानि का केस दर्ज कराया था और दलील दी कि एक्टर के भाई और एक्स-वाइफ दोनों पब्लिकली ऐसा कोई बयान ना दें, जिससे नवाज की इमेज पर कोई दाग लगे। लेकिन इसके साथ ही एक्टर नवाज़ुद्दीन ने एक्स-वाइफ को आउट ऑफ कोर्ट सेटलमेंट का ऑफर दिया है। 30 मार्च को इसपर सुनवाई होगी।

अपने मानहानि मुक़दमे में नवाज़ ने 100 करोड़ यानी एक अरब रुपए हर्जाने की मांग की है। कोर्ट में दायर याचिका में नवाज ने दावा किया है कि उनके खिलाफ लगाए गए सभी आरोपों को वापस लिया जाए और उनसे लिखित तौर पर माफी भी मांगी जाए। एडवोकेट सुनील कुमार ने नवाज की तरफ से याचिका दायर की है और अब इसकी सुनवाई 30 मार्च को हुई थी। 

Recommended

Loading...
Share