PeepingMoon Exclusive: मेरी लिस्ट में टॉप पर रणबीर कपूर का नाम है, मैं उनके साथ काम करना चाहती हूं: अंशुल चौहान

By  
on  

इंडस्ट्री की उभरती हुई मोस्ट टैलेंटेड एक्टर्स में से एक  अंशुल चौहान का नाम भी है. नोएडा की अंशुल ने साल 2017 से आयुष्मान खुराना और भूमि पेडनेकर स्टारर 'शुभ मंगल सावधान' से अपना कैरियर शुरू किया था. इस फिल्म में अंशु के काम की काफी तारीफ हुई थी. इसके बाद एक्ट्रेस ने बॉलीवुड के किंग खान की फिल्म 'जीरो' में अपने काम के लिए वाहवाही लूटी थी.  वहीं हाल ही में अंशुल 'मिर्जापुर' फेम दिव्येंदु शर्मा के साथ क्राइम-थ्रिलर वेब सीरीज 'बिच्छू का खेल' में धमाल मचा रहीं है. इस सीरीज में दिव्येंदु के साथ अंशुल चौहान लीड रोल में हैं. अंशुल ने पीपिंगमून से खास बातचीत में  'बिच्छू का खेल' सीरीज में काम करने का एक्सपीरियंस बताया साथ ही सीरीज में अपने किरदार को लेकर उन्हें क्या-क्या तैयारी करनी पड़ी थी, इसे साझा किया. 

Recommended Read: Peeping Moon Exclusive: 'चक दे के बाद अच्छा और बुरा दोनों समय देखा, लेकिन बाद में मैंने खुद को सम्भालकर अपने लिए नई राह बनाई' : विद्या मालवडे

सवाल- आपकी क्राइम-थ्रिलर वेब सीरीज 'बिच्छू का खेल' को काफी अच्छा रिस्पॉन्स मिल रहा है. अपनी खुशी कैसे जाहिर करेंगे ?
जवाब- बहुत अच्छा फील हो रहा है. पर इस खुशी को फील करने के लिए ज्यादा समय नहीं मिल पा रहा है. लोग इतना कमेंट कर रहे हैं. पर्सनली मैसेज करके मुझे बता रहे हैं कि मेरा काम बहुत अच्छा लग रहा है. मुझे टाइम नहीं मिल पा रहा है कि मैं सबके मैसेज का रिप्लाई दूं. लेकिन ऐसा पहली बार हो रहा है कि मेरे काम को इतना अप्रिशिएट किया जा रहा है. मैं बहुत खुश हूं

सवाल- दिव्येंदु के साथ काम करने का एक्सपीरियंस कैसा रहा. और हां आपको दिव्येंदु का मिर्जापुर के मुन्ना भैया का किरदार कैसा लगा. 
जवाब- मैं दिव्येंदु की बहुत बड़ी फैन हूं. मैंने पहली बार उन्हें प्यार का पंचनामा में देखा था. और मेरे ख्याल से बहुत लोग उनको आज भी लिक्विड खुद के नाम से ही जानते होंगे. फिर इसके बाद जब मैंने उन्हें मिर्जापुर में देखा तो मैं शोक्ड हो गई थी. यह एकदम अलग तरीके का किरदार था. लेकिन हां मैं आपको बता दूं दिव्येंदु का किरदार 'बिच्छू का खेल' में 'मिर्जापुर' से बिल्कुल अलग है. यह दोनों कैरेक्टर भले ही बनारस के ही बैकड्राप पर हो लेकिन उन्होंने दोनों ही कैरेक्टर्स को एकदम अलग तरीके से इतना बेहतर ढंग से निभाया है जिसको मैं बता नहीं सकती. इस सीरीज में साथ काम करने के बाद मैंने जाना कि वह सच में बहुत शानदार एक्टर हैं. सेट पर उनसे सीखने को बहुत कुछ मिलता है.

सवाल - 'बिच्छू का खेल' राइटर अमित ख़ान के इसी नाम से आये उपन्यास का स्क्रीन अडेप्टेशन है...आपको इस नॉवेल की पहले जानकारी थी. और सीरीज में अपने किरदार को निभाने के लिए कोई खास तरह की तैयारी ? 
जवाब- इस उपन्यास के बारे में मुझे कोई आईडिया नहीं था. मुझे बताया गया था कि इस तरह के नॉवेल्स ज्यादातर रेलवे स्टेशन्स, बस स्टेशन्स ऐसी जगह पर मिलते हैं. तो मैंने यह उपन्यास नहीं पढ़ा था. लेकिन हां जब मैंने सीरीज की स्क्रिप्ट पढ़ी, तो मैंने अपने किरदार के लिए कुछ तैयारियां की थी. जैसे यह किरदार निभाने के लिए मुझे अपनी लैंग्वेज पर बहुत पकड़ चाहिए थी. दरअसल मैंने यूपी के बनारस की लड़की का किरदार निभाया था तो मुझे बनारसी टोन पकड़ने के लिए, वहां की भाषा हाव-भाव सीखने के लिए मैंने अपमे राइटर्स, डायरेक्टर की बहुत हेल्प ली थी. जब मैं अपनी स्क्रिप्ट पढ़ती थी अपने डायलॉग पढ़ती थी तो मैं फोन पर बार-बार सबसे बनारसी टच लाने के लिए बात करती थी. उन्होंने मुझे कुछ सीन्स, फिल्में बताइए जिससे मैं अपने किरदार को और अच्छे से निभा सकूं, और बनारसी लैंग्वेज को अच्छी तरह से बोल सकूं. तो इस तरीके से मैंने अपने किरदार को लेकर तैयारियां की थी. 

सवाल- सीरीज की कास्ट काफी मजेदार है. सेट पर बहुत खुशनुमा माहौल रहता होगा. शूटिंग के दौरान का कोई यादगार किस्सा ?
जवाब- ये सीरीज साइन करने के पीछे सबसे बड़ी वजह सीरीज की कास्ट थी. इस सीरीज में एक से बढ़कर एक कलाकार है. सेट पर सबके साथ इतना कंफर्ट और इतना मजा करना एकदम फैमिली टाइप होता था. मैं कोई एक किस्सा नहीं बता सकती क्योंकि कितनी यादें जुड़ी है कि समझ नहीं आता कि कौन सा बताओ कौन सा नहीं. डायरेक्टर, मेरे सभी को स्टार, सभी के साथ सेट पर बहुत मजा आता था.कोई प्रेशर नहीं रहता था बहुत आराम से सीरीज की शूटिंग पूरी हो गई और पता ही नहीं लगा. इस प्रोजेक्ट की बहुत सारी यादें हमेशा मेरे दिल में जिंदा रहेंगी.

सवाल- कुछ वक्त पहले आपने वाराणसी के दशाश्वमेध घाट परगंगा आरती में भाग लिया था. कहते है जो आरती में शामिल वही का हो जाता है. आपका अनुभव कैसा रहा ?
जवाब- दिव्येंदु और मैंने इस दौरान शूटिंग की सभी यादों को फिर से ताजा कर किया था. हम बहुत भाग्यशाली हैं कि हमें गंगा आरती करने का अवसर मिला था. ये अलग अनुभव था. वाराणसी की वाइब्स बेहद सकारात्मक थी. और मुझे जल्द ही फिर से वहां जाने की उम्मीद है. 

सवाल- लॉकडाउन के दौरान आपने सबसे ज्यादा क्या मिस किया ?
जवाब- मैंने सबसे ज्यादा ट्रैवलिंग मिस की. मुझे ट्रैवल करना बहुत पसंद है. अब मेरा मन कर रहा है कि बिना सोचे समझे कहीं घूमने जाउं और दिमाग पर बिल्कुल स्ट्रेस ना हो की कोरोना है. 

सवाल- आपका रोल मॉडल कौन है. किन एक्टर्स डायरेक्टर्स के साथ काम करने का सपना है ? 
जवाब-  मेरे टॉप लिस्ट में सबसे ऊपर नाम रणबीर कपूर का है. मैं रणबीर कपूर के साथ काम करना चाहती हूं. मैं उनकी बहुत बड़ी फैन हूं. वह बहुश शानदार एक्टर है. और डायरेक्टर्स में तो बहुत सारे हैं. कितने सारे डायरेक्टर इस समय एक से बढ़कर एक सीरीज, फिल्में बना रहे हैं. अभी तक मैंने ऐसा डायरेक्टर कुछ सोचा नहीं है

 

Recommended

Loading...
Share