PeepingMoon Exclusive: ऋषि कपूर की बर्थ एनिवर्सरी पर पद्मिनी कोल्हापुरे ने पुरानी यादें की ताजा, कहा- 'करियर के शुरुआती दौर में उनकी वजह से मिला था बहुत बड़ा ब्रेक'

By  
on  

भारतीय सिनेमा में ऋषि कपूर के योगदान को कभी भुलाया नहीं जा सकता. आज ऋषि कपूर हमारे बीच नहीं है. 4 सितम्बर को इस महान कलाकार की 53वीं बर्थ एनिवर्सरी है. उनके साथ काम करने वाले एक्टर्स उनके काम और अंदाज सभी से प्रभावित रहे हैं. इन्हीं में से एक नाम है पद्मिनी कोल्हापुरे का जिन्होने ऋषि कपूर के साथ यादगार फिल्म 'प्रेम रोग' में काम किया था. पीपिंगमून ने पद्मिनी से जब पूछा कि क्या वो प्रेम रोग से ही ऋषि जी के साथ जुड़ीं या फिर ये दोनों कलाकार एक दूसरे को इससे पहले से जानते थे. इस सवाल का जवाब देते हुए पद्मिनी जी ने बहुत दिलचस्प किस्सा शेयर किया. 

पद्मिनी ने  ऋषि कपूर के साथ पुरानी यादें ताजा करते हुए कहा कि, 'आशा भोंसले मेरी बुआ तो उन्होंने मुझे देब आनंद जी से इंट्रोड्यूज कराया था और तब 'इश्क इश्क इश्क' से चाइल्ड एक्टर के तौर पर मेरी शुरुआत हुई थी. और  ऋषि कपूर जी से मैं इंसाफ का तराजू की शूटिंग के दौरान मिली था. जब उस फिल्म की शूटिंग चल रही थी तब ऋषि जी सेट पर आए थे. वो बीआर चोपड़ा जी, जीनत अमान से मिलने आए थे और तब मुझसे भी मिले थे. उस टाइम उन्होंने पता नहीं मेरे डांस और मेरी एक्टिंग में क्या देखा कि उन्होंने फौरन जाकर नासिर हुसैन साहब से कहा कि, 'आप की जो अगली फिल्म बन रही है, उसके लिए आप इस लड़ती के बारे में सोच सकते है. एक बार पद्मिनी से मिल लीजिए'. उसके 6 8 महीने बाद नासिर साहब ने मुझे बुलाया और तब मुझे 'जमाने को दिखाना है' फिल्म मिली थी. तो मै कहूंगी ये फिल्म मिलने में ऋषि जी का हाथ था. उनकी वजह से ही मुझे केरियर के शुरुआती दौर में इतना बड़ा ब्रेक मिला था. फिर इस फिल्म की अनाउंसमेंट के बाद मुझे लगातार कई बड़ी फिल्में मिली थी. इनमें से एक प्रेम रोग भी थी.'

()

बता दें , पद्मिनी और ऋषि जी ने इंडियन सिनेमा के प्रेम रोग जैसी माल्डस्टोन फिल्म दी थी. ‘प्रेम रोग’ फिल्म की कहानी साधारण परिवार से ताल्लुक रखने वाले युवक की है जिसे जमींदार परिवार की एक विधवा लड़की से प्रेम होता है. अपने प्रेम की वजह से परिवार और समाज का विरोध झेलना पड़ता है. इस फिल्म में ऋषि कपूर और पद्मिनी कोल्हापुरे के अलावा शम्मी कपूर, तनुजा और नंदा जैसी दिग्गज एक्ट्रेस भी महत्वपूर्ण रोल में थीं. इस फिल्म के प्रोड्यूसर-डायरेक्टर राज कपूर थे.

वहीं बता दें कि, अपने जमाने के चॉकलेटी हीरो के रूप में पॉपुलर ऋषि कपूर का एक ऐसे परिवार से ताल्लुक है, जिसने बॉलीवुड में बहुत ही महत्वपूर्ण योगदान दिया है. ऋषि को साल 2008 में फिल्म फेयर लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड से नवाजा गया. वह 4 सितम्बर 1952 को मुंबई के चेंबूर में पैदा हुए थे और 30 अप्रैल 2020 को उनका निधन हुआ था. वो शोमैन राज कपूर के मंझले बेटे थे. इंडस्ट्री में वो अपने निक नेम चिंटू से भी मशहूर थे.

Recommended

Loading...
Share