जब दिग्गज कोरियोग्राफर सरोज खान ने माधुरी दीक्षित को बताया था अपना 'बेस्ट स्टूडेंट'

By  
on  

दिग्गज कोरियोग्राफर सरोज खान का 72 वर्ष की उम्र में आज निधन हो गया है. बता दें कि उन्हें सांस लेने की समस्या के लिए 17 जून को अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जिसके बाद उनकी आज कार्डियक अरेस्ट से मौत हो गई. सरोज बॉलीवुड के सबसे प्रसिद्ध कोरियोग्राफरों में से एक थीं और उनका नाम सबसे पहले लिया जाता था. ऐसी कई एक्ट्रेसेस थीं, जिन्होंने उनसे बॉलीवुड डांसिंग की कला सीखी. बिना किसी शक माधुरी दीक्षित को उनकी सबसे बेहतरीन प्रोटीज में से एक माना जा सकता है.

माधुरी के साथ सरोज जी का रिश्ता कुछ ऐसा है जिसे एक्ट्रेस ने हमेशा ही सराहा और उसके बारे में बात भी की. यहां तक कि, सरोज ने आगे बढ़कर माधुरी को अपना बेस्ट स्टूडेंट भी बताया था. उन्होंने कहा था, "हमारे पास एक खूबसूरत सफर है और माधुरी सबसे अच्छी स्टूडेंट है जिसे मैं मिली हूं."

सरोज जी और माधुरी का रिश्ता एक सहजीवी था क्योंकि दोनों अपनी पूरी क्षमता तक पहुंचने में एक दूसरे के लिए सहायक थे. इसी तरह से माधुरी ने तेजाब के अपने आइकॉनिक डांस नंबर एक दो में सरोज जी को उनकी कोरियोग्राफी के लिए पहला फिल्मफेयर अवॉर्ड 1988 में दिया था. असल में, यह अवॉर्ड केटेगरी कोरियोग्राफर के लिए विशेष रूप से गठित किया गया था.

सरोज जी ने 1989, 1990 और 1991 में तेजाब, चालबाज़ और सैलाब के लिए लगातार तीन बार फिल्मफेयर अवॉर्ड जीतकर हैट्रिक बनाई थी.

माधुरी के बारे में बात करते हुए, सरोज ने एक इंटरव्यू में कहा था, "माधुरी बेहद आसानी से डांस स्टेप्स कैच कर लेती है. वह एक प्रशिक्षित कथक डांसर थीं और उन्होंने 12 साल तक सीखा. लेकिन, समस्या यह थी कि वह अपनी हिप नहीं हिला सकती थी. कथक में, आप अपनी हिप नहीं हिलाते हैं. हमने साथ में जो पहली फिल्म की वह थी सुभाष घई की उत्तर दक्षिण. वहां से हमारी यात्रा शुरू हुई और मैंने उन्हें सीखना सुरु किया. वह शुरुआत में थोड़ी धीमी थी लेकिन बात में उन्होंने उचाई को छुआ. माधुरी मुझे 'तेज़ाब' के एक दो तीन में मुझे कॉपी किया और वह माधुरी का बेस्ट परफॉरमेंस था और इसने उन्हें एक डांसर के रूप में स्थापित कर दिया. हमारी कई प्यारी यादें हैं. मैं उनमें से किसी एक को इंगित नहीं कर सकती. वे हमेशा मेरे दिल में ताजा रहेंगे. माधुरी एक शरारती लड़की है. कभी-कभी, मैं अंग्रेजी में बात करते समय लड़खड़ा जाती थी और वह चुपचाप आकर मुझे मेरे कानों में सही कर देती थी. हम दोनों के बीच यह मजाक था. बाद में, अगर उसके पास कोई फिल्म होती थी, तो वह मुझे फोन कर और प्रोड्यूस द्वारा फिल्म बनाने के बारे में जानकारी देती थी. वह अपने लिए मुझे गाने करने के लिया कहा करती थी. उस समय एक फिल्म में एक मास्टर के होने का फैशन था. अब चीजे बदल गयी हैं."

माधुरी के जन्मदिन पर, दिग्गज कोरियोग्राफर ने उनके लिए दिल को छूने वाला नोट लिखा था, "जन्मदिन मुबारक हो, मेरी प्रेरणा M.D. तुम डांसिंग के लिए मेरा प्यार हो. भगवान तुम्हे लम्बी लम्बी और लम्बी आयु दे, उसका आशीर्वाद हमेशा तुम पर बना रहे, ईश्वर आपको अच्छा स्वास्थ्य प्रदान करे और आपको धनवान बनाए रखे. भगवान आपके बच्चों और डॉ. नेने को आशीर्वाद दें. बहुत सारा प्यार, मास्टर जी."

सरोज खान की मौत के साथ, माधुरी बेहद दुखी हो चुकी हैं. प्यार से उन्हें मास्टर जी कहते हुए एक्ट्रेस ने दिल को छू लेने वाली श्रद्धांजलि अर्पित की और लिखा,“ मैं आज दुखी हो गयी हूं और इस नुक्सान के बीरे में बोलने के लिए आज मेरे पास शब्द नहीं हैं! रोज जी शुरू से ही मेरी यात्रा का हिस्सा थीं. उन्होंने मुझे बहुत कुछ सिखाया, सिर्फ डांस के बारे में नहीं बल्कि बहुत कुछ. इस बड़ी व्यक्तिगत क्षति के बारे में सोचकर मेरे दिमाग में यादों की एक झड़ी सी लग गयी है. परिवार को मेरी हार्दिक संवेदना."

माधुरी और सरोज ने कई गानों में एक साथ सालो तक काम किया. उनके सबसे आइकॉनिक गाने थे, डोला रे डोला, एक दो तीन, हमको आज कल है, ढाक ढाक, तम्मा तम्मा लोगे, चन्ने के खेत में, तबा हो गया और कई और. यहां तक कि, चन्ने के खेत में हुक स्टेप माधुरी का सिग्नेचर स्टेप बन गया. लेजेंडरी कोरियोग्राफर के निधन से माधुरी बेहद दुखी हैं. यहां तक कि उनका ऑफिसियल डांस विद माधुरी सोशल मीडिया पेज ने भी सरोज खान को भावभीनी श्रद्धांजलि दी है.

यहां तक कि एक्ट्रेस ने सरोज के साथ रिहर्सल की एक छोटी क्लिप साझा की और लिखा, "एक श्रद्धांजलि लेजेंड सरोज खान जी को. वह दुनिया भर में डांसर्स और कोरियोग्राफरों के लिए एक प्रेरणा थी. आपको प्रिय रूप से याद किया जाएगा. भगवान आपकी आत्मा को शान्ति दे. #RestInPeace.”

(Source: Instagram/Twitter/Filmfare/Mumbai Miror) 

Recommended

Loading...
Share