स्वतंत्रता दिवस स्पेशल: बॉलीवुड में अक्षय कुमार से लेकर अजय देवगन समेत इन 7 एक्टर्स की देशभक्ति फिल्मों का रहा है बोलबाला

By  
on  

हर साल 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस मनाया जाता है. इस साल भारत 74 वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा है.बॉलीवुड फिल्में हमेशा से ही हमारे समाज का आइना रही हैं. इस बात पर भी कोई दो राह नहीं कि फिल्में हमारे जीवन पर काफी गहरा असर छोड़ते हैं. बॉलीवुड हमेशा से अलग-अलग मुद्दों पर फिल्म बनाता रहा है. लेकिन इसका ज्यादा श्रेय इन फिल्में में काम करने वाले एक्टर्स को जाता है. जिन्होंने अपने अभिनय से इन फिल्मों को और भी दमदार बना दिया है. आज हम आपको ऐसी ही फिल्मों के अपने अभिनय को सदा के लिए जीवित करने वाले एक्टर्स के बारे में बताने जा रहे हैं. जिन्होने बड़े पर देशभक्ति और बहादुरी के जज्बे को बखूबी उतारा है.

मनोज कुमार
बॉलीवुड का ऐसा अभिनेता जिन्हें देशभक्ति फिल्में करने की वजह से उन्हें  'भारत कुमार' के नाम से पुकारा जाने लगा. साल 1965 में रिलीज हुई फिल्म 'शहीद' मनोज कुमार के सिने करियर की महत्वपूर्ण फिल्मों में शुमार की जाती है. देशभक्ति के जज्बे से परिपूर्ण इस फिल्म में मनोज कुमार ने भगत सिंह की भूमिका को रूपहले पर्दे पर जीवंत कर दिया. इसके बाद साल 1967 में बनी फिल्म ‘उपकार’ के बाद उन्होंने देशभक्ति की खुशबू में डूबी पूरब और पश्चिम, शोर व क्रांति जैसी कई हिट फिल्में दीं. मनोज कुमार ने अपनी फिल्मों के जरिए लोगों को देशभक्ति की भावना का गहराई से एहसास कराया, जिसने उन्हें हर दिल अजीज फिल्मकार बना दिया. इसी देशप्रेम की बदौलत उनके चाहने वाले उन्हें 'मिस्टर भारत' कहकर पुकारा करते थे.  मनोज कुमार ने अपनी फिल्मों के जरिए भारतीयता की खोज की. अपनी भावनात्मक फिल्मों की बदौलत उन्होंने मुनाफे से ज्यादा नाम कमाया. यही वजह है कि फिल्म जगत में मनोज कुमार को आज भी उनकी देशभक्ति से परिपूर्ण फिल्मों के लिए जाना जाता है. 

अक्षय कुमार 
बॉलीवुड खिलाड़ी यानी अक्षय कुमार ने भी कई देश पर आधारित कई फिल्मो में दमदार अभिनय निभा चुके हैं. इस लिस्ट में 'बेबी', 'रुस्तम', 'एयरलिफ्ट', 'केसरी', 'मिशन मंगल', 'गोल्ड', 'हॉलीडे' जैसी फिल्में शामिल हैं. अक्षय कुमार की फिल्म 'केसरी' 1897 में हुई सारागढ़ी की लड़ाई पर आधारित इस फिल्म के जरिए सैनिकों को श्रद्धांजलि दी गई थी. बताते चलें अक्षय के पिता भी इंडियन आर्मी में थे और वह भी इन्डियन आर्मी जॉइन करना चाहते थे.

अजय देवगन
बॉलीवुड में सिंघम के नाम से मशहूर एक्टर अजय देवगन भी देश-समर्पण पर बनीं कई फिल्मों में अभिनय कर चुके हैं. फिल्म 'द लेजेंड ऑफ भगत सिंह' में अजय देवगन भगत सिंह का किरदार निभाते नजर आए थे. यह फिल्म भगत सिंह की जिंदगी पर आधारित थी जिन्होंने देश की आजादी के लिए अपनी जान न्यौछावर कर दी थी. अजय की 'तान्हाजी द अनसंग वॉरियर' में भी देशभक्ति के रंग में रंगी फिल्म थी. वहीं एक्टर की मोस्ट अवेटेड फिल्म 'भुज: द प्राइड ऑफ इंडिया' देशभक्ति और एक्शन से भरी हुई है. 'भुज' एक वॉर एक्शन फिल्म है, जो 1971 के भारत पाकिस्तान युद्ध की सच्ची कहानी पर आधारित है. फिल्म में एमी विर्क और शरद केलकर भी हैं. अजय देवगन इसमें इंडियन एयरफोर्स के विंग कमांडर विजय कार्णिक का किरदार निभा रहे हैं.  

शाहरुख़ खान 
किंग खान यानी शाहरुख़ खान कई बार बड़े पर्दे पर सोल्जर का किरदार निभा चुके हैं. पर शाहरुख़ रियर लाइफ में भी इस बात का खुलासा कर चुक् है कि वह इंडियन ऑर्मी ज्वाइन करना चाहते थे. उन्होंने यह भी कहा था कि वह आर्मी लड़ने के लिए नहीं बल्कि देश की रक्षा करने के लिए ज्वाइन करना चाहते थे. शाहरुख खान स्टारर फिल्म 'चक दे इंडिया' भी भारत के गौरव की कहानी है. इसमें शाहरुख ने भारतीय हॉकी महिला टीम के कोच की भूमिका निभाई. जो तमाम रुकावटों के बावजूद अपनी टीम को चैंपियन बनवाता है. यह फिल्म भी पूरी तरह से देशभक्ति से प्रेरित है. इसके अलावा शाहरुख़ की फिल्म 'स्वदेस', 'फिर भी दिल है हिंदुस्तानी' भी देशभक्ति के रंग में रंगी फिल्में थी. 

आमिर खान
फिल्म 'मंगल पांडे: द राइजिंग' क्रांतिकारी मंगल पांडे की जिंदगी पर आधारित है. मंगल पांडे को अंग्रेजों के . खिलाफ लड़ाई का आगाज भी माना जाता है. फिल्‍म में मंगल पांडे का किरदार आमिर खान ने निभाया था. इसके अलावा उन्होंने 'सरफरोश', 'लगान', 'रंग दे बसंती' जैसी कई फिल्मों में भी काम किया है. 

सनी देओल
बॉलीवुड एक्टर सनी देओल भी इस लिस्ट में शामिल हैं. सनी ने अपने करियर में कई देशभक्ति फिल्में की हैं.  सनी देओल ने '23 मार्च 1931: शहीद' में देशभक्त चंद्रशेखर आजाद का किरदार निभाया था. वहीं उन्होंने अपने करियर में 'इंडियन', 'गदर', 'बॉर्डर', 'मां तुझे सलाम' जैसी फिल्मों में काम किया है. वहीं  'हमारा हिन्दुस्तान जिंदाबाद था, जिंदाबाद है और जिंदाबाद रहेगा' जैसे कई  डायलॉग आज भी सभी के जबान पर रटा हुआ है.  

जॉन अब्राहम 
जॉन अब्राहम की फिल्म 'परमाणु: द स्टोरी ऑफ पोखरण' जो साल 1998 में भारत ने अंतराष्ट्रीय दबाव को दरकिनार करते हुए परमाणु शक्ति हासिल की थी मुद्दे पर भी. फिल्म में जॉन अब्राहम ने एक आईएएस का किरदार निभाया था. इसके अलावा रोमियो अकबर वाल्टर में जॉन ने एक खूफिया भारतीय एजेंट का किरदार निभाया था. देश की सेवा के लिए वह अपनी जान की परवाह तक नहीं करता है और पाकिस्तान में जाकर भारत के खिलाफ बन रही एक-एक योजना को नाकाम करता है. तो वहीं बाटला हाउस में  फिल्म दक्षिणी दिल्ली के बाटला हाउस इलाके में हुए एनकाउंटर के ऊपर आधारित थी. वहीं इसके अलावा 'सत्यमेव जयते' में भी जॉन देशभक्ति के रंग में रंगे नजर आए.

सोनू सून
सोनू की देशभक्ति की फिल्मों की बात करें तो एक्टर ने 'पलटन', 'शहीद-ए-आजम' में अपने किरदारों से दिल जीता था. लेकिन उसके अलावा कोरोना काल में अगर आपसे कहा जाए कि आखिर वो कौन है जिसको आप अपना रियल हीरो या फिर रोल मॉडल मानते हैं और जिसका किया काम आपको प्रेरणा से भर देता है तो वो निश्चित तौर पर सोन सूद होंगे. प्रवासी मजदूरों को घर पहुंचाने से लेकर, विदेशों में फंसे भारतीय छात्रों को उनके परिवार से मिलाने तक. मुश्किल में फंसे कलाकारों और नौकरीपेशा लोगों की मदद से लेकर अब जरूरतमंदों को नौकरी दिलाने तक का बीड़ा सोनू सूद ने उठा रखा है. सोनू सूद ने रियल और रिल लाइफ दोनों में ही अपने आपको सच्चे देशभक्त साबित किया है. 

Recommended

Loading...
Share