Birthday Special: ऋषि कपूर ने अपने पहले प्यार से लेकर अवॉर्ड खरीदने तक, इन चीजों का खुद अपनी बायोग्राफी में किया था खुलासा

By  
on  

बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता ऋषि कपूर ने इस 30 अप्रैल को मुंबई के एक अस्पताल में अपनी अंतिम सांस ली थी. बता दें कि अभिनेता ने अपनी जीवन के अंतिम दिनों में कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी के साथ एक लंबी लड़ाई लड़ी थी, जिसके लिए उन्होंने 2018 में न्यूयॉर्क में एक साल के करीब इलाज भी करवाया था. ऐसे में आज उनके जन्मदिन के मौके पर चलिए एक्टर द्वारा लिखी गयी उनकी बायोग्राफी 'खुल्लम खुल्ला' (2017) में लिखी गयी कुछ दिलचस्प बाते बताते हैं.

1. मानी थी अपने पिता, राज कपूर के एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर की बात:

ऋषि कपूर ने ईमानदारी से स्वीकार किया कि कृष्णा राज कपूर से शादी करने के बावजूद, राज कपूर का दूसरी महिलाओं के साथ अफेयर था. इस बारे में दिग्गज अभिनेता ने कहा था, "मैं बहुत छोटा था जब मेरे पिता का नरगिस जी के साथ अफेयर था, और इसलिए मैं इससे प्रभावित नहीं था. मुझे याद नहीं है कि घर में तब क्या हुआ था. लेकिन मुझे याद है कि जब पापा वैजयंतीमाला के साथ जुड़े थे, उस समय मेरी मम्मी हमें लेकर मरीन ड्राइव के नटराज होटल चली गयी थीं. मेरी मां ने इस बार कदम नीचे रखने का फैसला किया था. होटल से हम दो महीने के लिए चित्रकूट के एक अपार्टमेंट में शिफ्ट हो गए थे. मेरे पिता ने मां और हमारे लिए अपार्टमेंट खरीदा था. उन्होंने वह सब किया, जिससे वह मां को घर वापस ला सकें. लेकिन मेरी मां तब तक नहीं मानी जब तक कि उन्होंने अपने जीवन के इस चैप्टर को खत्म नहीं किया."

(यह भी पढ़ें: पिता ऋषि कपूर के जन्मदिन पर इमोशनल हुई बेटी रिद्धिमा कपूर साहनी, तस्वीरें शेयर कर लिखा- 'आप इस टूटे दिल में हमेशा रहेंगे')

2. पत्नी नीतू से पहले किसी और के प्यार में दीवाने थे ऋषि कपूर.

ऋषि कपूर ने अपनी बायोग्राफी में लिखा है कि वह अपने पहले रिलेशनशिप को लेकर बहुत ही स्थिर और गंभीर थे. तब उनकी गर्लफ्रेंड एक पारसी लड़की, यास्मीन मेहता थी, जिसे उन्होंने बॉबी के रिलीज से पहले डेट किया था. इस बारे में दिवंगत एक्टर ने कहा था, "जब 1973 में बॉबी रिलीज़ हुई, तब तक स्टारडस्ट, जो अपने समय की सबसे लोकप्रिय मैगज़ीन थी, ने डिंपल और मेरे बीच रोमांस की कहानियां प्रकाशित की थी. डिंपल, जो उस समय राजेश खन्ना के साथ शादी के बंधन में बंध गयी थी, उन्हें इससे ज्यादा कुछ फर्क नहीं पड़ा. लेकिन इस चीज की वजह से यास्मीन के साथ मेरा रिश्ता खत्म हो गया, मैंने उसे अपनी लाइफ में लाने की बहुत कोशिश की, लेकिन वह नहीं मानी."

3. राजेश खन्ना ने ऋषि की अंगूठी क्यों फेंक दी

इस बारे में ऋषि ने कहा था, "यास्मीन (यास्मीन मेहता, ऋषि कपूर की पहली गर्लफ्रेंड) ने मुझे एक अंगूठी गिफ्ट की थी, जब हम डेटिंग कर रहे थे, उस पर एक सिंपल शांति चिन्ह था.जब हम बॉबी फिल्म कर रहे थे, डिंपल ने उसे खींच लिया और उसे अपनी उंगली में पहन लिया. आखिर में उन्होंने उसे रख लिया. जब राजेश खन्ना ने उन्हें प्रोपोज़ किया, उन्होंने अंगूठी देखी और जुहू में अपने घर के पास समुद्र में फेंक दी. जिसके बाद यह खबर बिना मतलब सुर्खियों में थी कि 'राजेश खन्ना ने रिंग समुद्र में फेंक दी.' सच तो यह है कि मुझे कभी भी डिंपल से प्यार नहीं हुआ था."

4. जब ऋषि कपूर ने पहनी थी महिलाओं की पैंट.

80 और 90 के दशक में स्टार्स अपने किरदार के लिए कॉस्ट्यूम, मेकअप से लेकर डांस स्टेप्स तक को अपने हिसाब से सेलेक्ट किया करते थे. ऐसे ही एक शूट के दौरान, ऋषि कपूर ने कुबूल की कि उन्होंने एक बार शूटिंग के लिए महिलाओं के ट्राउज़र पहन ली थी. ऋषि ने कहा था कि "ज़हरीला इंसान फिल्म के गाने ओ हंसिनी की शूटिंग के दौरान मैंने गलती से लेडीज ट्रॉउज़र पहन लिया था, जिसके बारे में ड्रेस मैन ने मुझे बताया था. उसका ज़िप आगे नहीं बल्कि साइड में था."

5. ऋषि ने एक फिल्म को इस लिए लगभग छोड़ दिया था, क्योंकि उसमे नीतू की भूमिका ज्यादा प्रमुख थी.

ऋषि कपूर की फिल्म 'कभी कभी' उस समय की सुपरहिट फिल्म साबित हुई थी. हालांकि, अनुभवी अभिनेता का कहना था कि उन्होंने फिल्म को लगभग मना कर दिया था क्योंकि उनकी पत्नी नीतू की फिल्म में एक अधिक प्रमुख भूमिका थी.

6. ऋषि कपूर ने मानी अवॉर्ड खरीदने की बात.

अपनी फिल्म कभी कभी की शूटिंग के दौरान अमिताभ बच्चन और उनके बीच चल रहे कोल्ड वॉर के बारे में बात करते हुए, ऋषि ने कहा था कि शायद यह इसलिए था क्योंकि उन्होंने एक अवॉर्ड जीता था जो अमिताभ चाहते थे. इसबारे में अच्छे से बताते हुए ऋषि कपूर ने कहा था, "मुझे लगता है कि अमिताभ इसलिए झुलस रहे थे क्योंकि मैंने बॉबी के लिए बेस्ट एक्टर का अवॉर्ड जीता था. मुझे यकीन है कि उन्होंने महसूस किया कि यह अवॉर्ड उनके लिए था 'जंजीर' में काम करने के लिए, जो उसी साल रिलीज हुई थी. मुझे यह कहते हुए शर्म आ रही है, लेकिन मैंने असल में उस अवॉर्ड को ख़रीदा था. मैं कितना भोला था. तब तारकनाथ गांधी पीआरओ थे, जिन्होंने मुझसे कहा, 'सर, तीस हज़ार दे दो, तो आपको मैं अवॉर्ड दिला दूंगा.' मैं जोड़ तोड़ करने वाला नहीं हूं, लेकिन मैं मानता हूं कि मैंने बिना सोचे उसे पैसे दे दिए.

 ये तो रही ऋषि जी द्वारा उनकी बायोग्राफी में लिखी गयी कुछ ऐसी बाते जो उन्होंने बड़े सरल और बेबाक अंदाज में सभी के सामने रखी. आज उनकी बर्थ एनिवर्सरी के मौके पर हम उनके आत्मा की शांति के लिए प्रार्थन करते हैं.

(Source: Khullam Khulla: Rishi Kapoor Uncensored)

Recommended

Loading...
Share