Birthday Special: कभी हकलाने की बीमारी तो कभी अपनी स्मोकिंग से थे परेशान, जानिए कैसे रितिक रोशन ने खुद को किया ट्रांसफॉर्म और बन गए बॉलीवुड के ग्रीक गोड

By  
on  

परफेक्ट लुक और बॉडी के साथ कमाल का डांसिग टैलेंट ये सुनकर मन में सिर्फ और सिर्फ रितिक रोशन का नाम ही आता ही आता है. बॉलीवुड के सबसे हैंडमस हंक रितिक रोशन 10 जनवरी को अपना 47वां बर्थडे सेलिब्रेट कर रहे है. रितिक रोशन का असली नाम रितिक राकेश नागरथ है. रितिक रोशन के घर का नाम डुग्गू है. आज भले ही उन पर लाखों लड़कियां मरती हैं, लेकिन बचपन में रितिक मधुबाला, परवीन बॉबी के दीवाने थे. बतौर हीरो पहली फिल्म कहो न प्यार है की सफलता ने उन्हें रातों रात सुपरस्टार बना दिया था. 

डांस और परफेक्ट बॉडी के मालिक रितिक रोशन को लोग आज लोग 'ग्रीक गॉडेस' के नाम से बुलाते हैं, लेकिन रितिक ने ये सब दिन-रात की कड़ी मेहनत के बाद पाया है. बॉलीवुड के पहले सुपरहीरो रितिक का बचपन ऐसे नहीं था. उनमें कई खामिया थी जैसे कभी वो अपनी स्मोकिंग से परेशान थे तो कभी हकलाने की बीमारी से, पर रितिक रोशन ने खुद को ट्रांसफॉर्म कर अपनी सभी कमियों को दूर कर खुद को बेस्ट बनाया. आज रितिक के जन्मदिन के मौके पर हम आपको बताएंगे की अपने दम पर रितिक ने कैसे खुद को आम से खास बनाया. 

(यह भी पढ़ें: )

-रितिक को .चपन से ही हकलाने की बीमारी थी। इस बीमारी के चलते ही उनके एक्टिंग करियर पर खतरे के बादल मंडरा रहे थे. वहीं रितिक के पिता राकेश रोशन भी इसके लिए उन्हें डांटते थे, उनका कहना था कि एक्टिंद के लिए साफ बोलना बेहद जरूरी है लेकिन रितिक लाइन्स के बीच में ही हकलाने लगते थे.

-पर वहीं 12 साल की उम्र में उनके दादा जे. ओमप्रकाश ने ‘भगवान दादा’ फिल्म में उन्हें एक कैमियो करने को कहा. इसमें बोलने का दृश्य था. लेकिन रितिक ने इतनी आसानी से अपने डायलॉग्स बोल दिए कि सभी आश्चर्यचकित रह गए. बॉलीवुड के इस सुपरस्टार को बचपन में हकलाने की समस्या थी, मगर वो इस समस्या से हारे नहीं, बल्कि संघर्ष करते रहे और बॉलीवुड के पहले सुपरहीरो बने.

-रितिक के हाथों में 10 नहीं 11 उंगलियां हैं. बचपन में वोइस बात से खुश नहीं थे. रितिक ने कई बार इस बात का जिक्र किया है कि स्कूल के दिनों में उन्हें अपने एक हाथ में छह उंगलियों की वजह से खराब महसूस होता था. स्कूल के दौरान उनके दो अंगूठे वाले हाथ को लेकर दोस्त मजाक उड़ाया करते थे. इस वजह से रितिक अपने स्कूल में अलग थलग भी रहने लगे थे. पर्दे पर रितिक अपने दो अंगूठे वाले हाथ को छिपाने की कोशिश करते दिखे हैं. जब रितिक बॉलीवुड में अपनी पहली फिल्म करने जा रहे थे. तब उन्हें ये बात काफी परेशान कर रही थी. उन्होंने इस परेशानी से पार पाने के लिए अपने अंगूठे को कटवाने के बारे में सोचा. अंगूठे को कटवाने को लेकर उनकी पिता राकेश रोशन से भी बात हो गई थी और वो ऑपरेशन के लिए भी तैयार हो गए थे. लेकिन ऋतिक की मां पिंकी इस बात के लिए राजी नहीं थीं. उनका कहना था कि अगर बचपन से लेकर अब तक इस अंगूठे से कोई प्राब्लम नहीं हुई तो उसे कटवाने का कोई मतलब नहीं है. मां की सलाह मान कर ऋतिक ने अंगूठे का ऑपरेशन करवाने का प्लान ड्राप कर दिया.

-21 वर्ष की उम्र में रितिक ऐसी बीमारी से ग्रस्त हो गए जिसमें उनकी रीढ़ अंग्रेजी के शब्द 'एस' जैसी हो रही थी और डॉक्टर्स ने कहा कि वे अभिनेता नहीं बन पाएंगे, लेकिन दृढ़ इच्छा शक्ति के बल पर रितिक बीमारी से उबरे.

-वहीं युवा होने पर रितिक को एक और बीमारी स्कोलियोसिस ने जकड़ लिया जिसमें उनके शरीर के सभी मूवमेंट कम हो गए. लेकिन रितिक ने जल्दी ही दर्द के साथ अपनी दिनचर्या शुरू कर दी. एक दिन वे समुद्र तट पर धीरे-धीरे दौड़ रहे थे कि उसी समय बारिश होने लगी. बारिश से बचने के लिए वे तेजी से दौड़ लगाने लगे. उसी समय उन्होंने महसूस किया कि उनके शरीर का सारा दर्द अचानक से गायब हो गया. रितिक जानते थे कि अब वे अपनी पहली फिल्म ‘कहो ना प्यार है’ के लिए तैयार हैं.

-जोधा अकबर’ के लिए रितिक ने तलवारबाजी सीखने, उर्दू की जुबान में महारत हासिल करने और सूफ़ी नृत्य के लिए तीन अलग-अलग ट्रेनिंग लीं. वहीं जोधा अकबर' की शूटिंग के दौरान घुटनों के दर्द से वे परेशान थे. डॉक्टर्स का कहना था कि वे खड़े भी नहीं हो पाएंगे, लेकिन रितिक ने इस बीमारी को भी हरा दिया.

-'अग्निपथ' की शूटिंग के दौरान उन्हें स्लिप डिस्क हुआ था. 

-‘बैंग बैंग’ की शूटिंग के दौरान थाईलैंड में तो उनके सिर पर इतनी गहरी चोट लगी कि उनकी तत्काल ब्रेन सर्जरी करनी पड़ी. इस वजह से उन्हें काफी समय फिल्मों से दूर भी रहना पड़ा.

-‘कृष’ के एक्शन दृश्यों के लिए रितिर ट्रेनिंग लेने के लिए चीन गए और वहां उनके पैर में गंभीर चोट लग गई. लेकिन इसके बावजूद वे तब तक वहां से नहीं लौटे, जब तक कि उनकी ट्रेनिंग पूरी नहीं हुई. 

-फिट बॉडी के लिए मशहूर रितिक बहुत हेल्थ कॉन्शियस हैं. थोड़ी भी हेल्थ प्रॉब्लम होने पर वो टेंशन में आ जाते हैं.

-रितिक रोशन कई साल से स्मोकिंग किया करते थे. लेकिन वो इसकी आदत भी छोड़ना चाहते थे. एक्टर ऐसा कर नहीं पा रहे थे. हालांकि, यह एलन कार द्वारा एक किताब, ईजी वे टू स्टॉप स्मोकिंग थी, जिसने वास्तव में उन्हें इस आदत से छुटकारा पाने में मदद की, एक्टर ने एचटी से कहा, 'मैं स्मोकिंग छोड़ना चाहता था. मैंने पहले पांच बार छोड़ने की कोशिश की और असफल रहा. मैंने निकोटीन पैच और अन्य तरीकों की कोशिश की, लेकिन कुछ भी काम नहीं किया. मैं इस आदत को छोड़ना चाहता था इसलिए मैंने शोध करना शुरू किया . मैंने ऐसे लोगों से बात की, जिन्होंने ऑनलाइन पढ़ाई की फिर आखिरकार मुझे इस किताब एलन कैर ईजी वे टू स्टॉप स्मोकिंग, मैंने उस किताब को आर्डर किया, और जिस दिन मैंने उस किताब को खत्म किया मैंने उस दिन आखिरी बार स्मोकिंग कि थी. 

-रितिक रोशन अपने वर्कआउट से वजन को घटाते बढ़ाते भी रहते हैं. फिल्म सुपर 30 के लिए उन्होंने जहां वजन को घटाया था. वहीं वॉर जैसी एक्शन फिल्म के लिए वो जल्दी ही बॉडी बनाने में भी सफल रहे थे. पीपिंगमून की तरफ से हैप्पी बर्थ डे रितिक, आप कई लोगों के लिए प्रेरणा हों.

Recommended

Loading...
Share