हिंदी दिवस स्पेशल: बॉलीवुड स्टार्स जिन्होनें की हिंदी मीडियम से पढ़ाई, हासिल किया ऊंचा मुकाम

By  
on  

आज पूरे देश में 'हिंदी दिवस' मनाया जा रहा है. हिंदी मीडियम में पढ़े लोग अक्सर पब्लिकली या किसी बड़े मंच पर हिंदी भाषा में बात करने में संकोच महसूस करते हैं लेकिन फिल्म इंडस्ट्री में कुछ ऐसे लोग है जिन्होनें हिंदी मीडियम से पढ़ाई करने के बावजूद ऊंचा मुकाम हासिल किया है. पंकज त्रिपाठी, नवाजुद्दीन सिद्दीकी और कंगना रनौत का नाम शामिल है. 

अनुपम खेर: 

66 साल के अनुपम खेर अभिनय की दुनिया के बादशाह है. उन्होंने अपनी शुरुआती शिक्षा शिमला के डीएवी स्कूल से हासिल की है. आज यह स्कूल सीबीएसई इंग्लिश मीडियम में बदल चुका है लेकिन उस दौर में यह हिंदी मीडियम था. अनुपम आज न सिर्फ अपना फेमस एक्टिंग स्कूल चलाते हैं, बल्कि वो नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा के चेयरपर्सन भी रह चुके हैं.

नवाजुद्दीन सिद्दीकी: 

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर के बुढ़ाना कस्बे में जन्मे नवाजुद्दीन की स्कूली शिक्षा इस कस्बे में मौजूद बीएसएस इंटर कॉलेज से हुई थी. नवाजुद्दीन ने हरिद्वार के गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय से अपनी साइंस डिग्री हासिल की. इसके बाद उन्होंने नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा से अभिनय की तालीम ली. एक किसान परिवार के बेटे ने हिंदी को हथियार बनाया और बॉलीवुड में कहानी से लेकर गैंग्स ऑफ वासैपुर में अपनी अदाकारी के झंडे गाड़ दिए.

राजपाल यादव:

अभिनेता राजपाल यादव यूपी के शाहजहांपुर में पैदा हुए और वहीं के सरदार पटेल हिंदू इंटर कॉलेज से उनकी स्कूली शिक्षा हुयी. उन्होंने यहीं पर तमाम थियेटर प्ले किए. इसके बाद उन्होंने यूपी की राजधानी लखनऊ में आकर अपने एक्टिंग करियर की शुरुआत की.

पंकज त्रिपाठी
पकंज ने डी. पी. एच. स्कूल, गोपालगंज, बिहार से अपनी शुरुआती पढ़ाई की. आगे की पढ़ाई उन्होंने पटना कॉलेज से की और उसके बाद नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा (एनएसडी), दिल्ली, भारत से ड्रामा की डिग्री प्राप्त की. कॉलेज के दिनों से उन्होंने पटना के थिएटर में एक्टिंग करना प्रारंभ कर दिया था.

कंगना रनौत 

हिमाचल प्रदेश की रहने वाली कंगना रनौत की शुरुआती पढ़ाई डी. ए. वी. स्‍कूल चंडीगढ़ से हुई. पिता और परिवार चाहता था कि वो डॉक्टर बनें, लेकिन 16 साल की उम्र में ही वे दिल्‍ली आ गईं. दिल्ली आकर कंगना ने एक नामी थियेटर ग्रुप जॉइन कर लिया. जिसमें वो एक्टिंग सीखने लगीं. कंगना ने किसी विश्वविद्यालय से बड़ी एकेडमिक डिग्री नहीं ली है, क्योंकि उनकी पढ़ाई पर 12वीं में ही ब्रेक लग गया था. इसलिए वो बारहवीं तक ही पढ़ पाईं.

Recommended

Loading...
Share