PeepingMoon 2019: 'कलंक', 'जजमेन्टल है क्या', 'लाल कप्तान' और 'पानीपत' समेत बॉक्स ऑफिस पर नाकाम रहीं इस साल की ये फिल्में

By  
on  

जब भी कोई फिल्म पर्दे पर उतरती है तो वो किसी तीर से निकले कमान से कम नहीं होती. एक बार रिलीज़ हो गई तो बॉक्स ऑफिस पर वो क्या कमाल दिखाती है वो कोई नहीं जानता. रिलीज़ हो गई तो हो गई! साल 2019 में बॉलीवुड को कई हिट और सुपरहिट फ़िल्में मिलीं वहीँ कुछ ऐसी भी थीं जिन्होंने दर्शकों को बहुत निराश किया. कुछ ऐसी भी थीं जो क्रिटिक्स को पसंद आई मगर जनता जनार्धन उससे इम्प्रेस नहीं हुई. आइये आपको दिखाते हैं साल 2019 में रिलीज़ हुई उन फिल्मों की लिस्ट जिन्होंने बॉक्स ऑफिस पर कुछ ख़ास कमाल नहीं दिखाया!

कलंक


धर्मा प्रोडक्शन द्वारा निर्मित, 'कलंक' में बड़ी स्टारकास्ट थी - माधुरी दीक्षित, संजय दत्त, आलिया भट्ट, वरुण धवन, आदित्य रॉय कपूर और सोनाक्षी सिन्हा. अभिषेक वर्मन द्वारा निर्देशित इस फिल्म के संगीत को हेल ही लोगों ने बहुत पसंद किया मगर, फिल्म की कहानी लोगों को पसंद नहीं आई. इस फिल्म पर क्रिटिक्स का रिव्यु भी ज्यादातर नकारात्मक ही था और इस कारण से भी फिल्म बॉक्स ऑफिस पर नहीं चल पाई. इस फिल्म की लागत 150 करोड़ रु थी और इसका कलेक्शन 81 करोड़ रु ही हो पाया.

लाल कप्तान

Laal Kaptaan एक्शन ड्रामा फिल्म थी, जिसे नवदीप सिंह ने लिखा और निर्देशित किया था. यह सैफ अली खान, मानव विज और ज़ोया हुसैन स्टारर एक एक्शन ड्रामा फिल्म थी. इस फिल्म ने भी बॉक्स ऑफिस पर कुछ ख़ास कमाल नहीं किया. यह फिल्म 18 अक्टूबर 2019 को रिलीज़ हुई थी. इस फिल्म का कलेक्शन 2.36 करोड़ रु. ही रहा.

द ज़ोया फैक्टर

फिल्म में सोनम कपूर ने ज़ोया सोलंकी की भूमिका निभाई, जो 2011 क्रिकेट विश्व कप के दौरान भारतीय क्रिकेट टीम के लिए एक भाग्यशाली आकर्षण बन जाती है, उसे दुलकीर सलमान के साथ कास्ट किया गया है जो कि टीम के कप्तान होते है. दुलकीर भाग्य और अंधविश्वास में विश्वास नहीं करते हैं. यहां तक कि सोनम और दुलकीर की ताजा जोड़ी ने भी फिल्म को हिट होने में मदद नहीं की और फिल्म ने बॉक्स-ऑफिस पर सिर्फ 3.12 करोड़ रुपये ही जुटाए.

खानदानी शफाखाना

सोनाक्षी सिन्हा, बादशाह और वरुण शर्मा स्टारर फिल्म 'खानदानी शफाखाना' शिल्पी दासगुप्ता ने डायरेक्ट की थी. यह कॉमेडी ड्रामा फिल्म बॉक्स ऑफिस पर बुरी तरह से पिट गई. ना कि जनता और ना ही क्रिटिक्स ने इस फिल्म को पसनद किया. इस कॉमेडी ड्रामा ने बॉक्स ऑफिस पर अपनी लागत तक नहीं वसूली. बॉक्स ऑफिस नंबर की बात की जाए तो इस फिल्म को बनाने में 26 करोड़ रु. लगे और इसका कलेक्शन महज 5.52 करोड़ रु. हुए.

प्रस्थानम

चुनावों की पृष्ठभूमि के बीच प्रस्थानम एक पारिवारिक ड्रामा है. इसमें विश्वासघात, हत्या, ट्विस्ट और टर्न, सत्ता की लालसा और सबसे महत्वपूर्ण, भाई-भाई के बीच मतभेद को दिखाया गया है. संजय दत्त की मुख्य भूमिका वाली यह फिल्म पहले हाफ में ही बाउट स्लो थी और अंत तक तो दर्शकों को बोर करने लगी थी. फिल्म ने 4.75 करोड़ रुपये ही कमाए.

पल पल दिल के पास

प्रेम कहानी जिसमें सनी देओल के बेटे करण देओल और साहेर बंबा ने अपने करियर की शुरुआत की और यह फिल्म लोगों को इम्प्रेस करने में नाकाम रही, क्योंकि लीड जोड़ी के बीच की केमिस्ट्री बिलकुल भी अच्छी नहीं थी. कहानी भी इतनी इम्प्रेसिव नहीं थी. फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर 7.95 करोड़ रु का ही बिज़नेस किया.

इंडिया'ज़ मोस्ट वॉन्टेड

फिल्म इंटेलिजेंस ब्यूरो द्वारा इंडियन मुजाहिदीन के संस्थापक यासीन भटकल को पकड़ने के लिए 2013 के आतंकवाद विरोधी मिशन पर आधारित है. अधिकांश लोग आईबी ऑपरेटिव प्रभात कपूर (अर्जुन कपूर) से सभी प्रकार के साहसी एक्शन दृश्यों की उम्मीद करते हुए गए और अपनी हर उम्मीद को तोड़ते हुए वापस लौटें. फिल्म ने 11.90 करोड़ रुपये के कलेक्शन किया और बड़ी मुश्किल से सप्ताह भर सिनेमाघर में टिकी रही.

पानीपत


यह फिल्म 1761 में मराठों और अफगान राजा अहमद शाह अब्दाली के बीच लड़ी गई पानीपत की तीसरी लड़ाई पर आधारित है. अर्जुन कपूर, संजय दत्त और कृति सेनन अभिनीत यह फिल्म अपनी सिनेमैटोग्राफी, साउंड डिजाइन और विजुअल इफेक्ट्स से प्रभावित थी, लेकिन प्रशंसकों और आलोचकों द्वारा इसकी कहानी को पसंद नहीं किया गया. फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर 33.46 करोड़ रुपये इकट्ठा करने के लिए काफी संघर्ष किया.

जबरिया जोड़ी

प्रशांत सिंह द्वारा निर्देशित, जबरिया जोड़ी 'पक्ड़वा विवाह' (जबरन विवाह) पर आधारित है, जो कभी बिहार में व्याप्त थी. इस फिल्म में सिद्धार्थ मल्होत्रा और परिणीति चोपड़ा ने अभिनय किया था और दर्शकों द्वारा इसके छिटपुट विवाद के कारण दर्शकों ने इसे पसंद नहीं किया. इसने बॉक्स ऑफिस पर 16.33 करोड़ रु. का बिज़नेस किया.

नोटबुक

अभिनेता जहीर इकबाल और प्रनूतन बहल ने नोटबुक से अपना बॉलीवुड किया. फिल्म आपको अंत में एक संतोषजनक, सुखद-भावना के साथ छोड़ेगी लेकिन, दर्शकों को इम्प्रेस करने में यह बुरी तरह से विफल रही. इसकी स्लो कहानी और स्क्रीन प्ले काफी ठंडा रहा. फिल्म केवल 3.72 करोड़ रुपये कमाने में सफल रही.

जजमेन्टल है क्या

'जजमेन्टल है क्या' राजकुमार राव और कंगना रनौत अभिनीत एक डार्क कॉमेडी थी जिसमें मानसिक बीमारी को सहजता से स्क्रीन पर दिखाने के लिए जाना जा रहा था. लेकिन यह फिल्म दर्शकों से कनेक्ट नहीं हो सकी. लोगों को ऐसा लग रहा था कि कंगना ने साइको पेथिक का किरदार काफी हास्य तरीके से पेश किया था. फिल्म ने 33.11 करोड़ रुपये कमाए.

व्हाय चीट इंडिया 

निर्देशक सौमिक सेन की व्हाय चीट इंडिया ने हमारे देश में शिक्षा प्रणाली की भयावह कहानी को उजागर किया. राकेश सिंह उर्फ रॉकी (इमरान हाशमी), एक कॉन-मैन बने थे जो शिक्षा की दुनिया में पैसे कमाने के लिए घोटाले करता है. कुछ ही मिनटों में यह फिल्म अपनी कहानी से भटक जाती है और लोग इससे निराश हो जाते हैं और इस फिल्म ने तकरीबन 8.66 करोड़ रुपये कमाए.

PM नरेंद्र मोदी

ओमंग कुमार द्वारा निर्देशित फिल्म ने मोदी के प्रधानमंत्री बनने से लेकर उनकी विनम्र शुरुआत तक की कहानी बयां की. अभिनेता विवेक ओबेरॉय ने फिल्म में मोदी का नेतृत्व किया. अपनी शारीरिक भाषा, आभा, उपस्थिति और दृष्टिकोण के साथ, विवेक ने एक त्रुटिहीन प्रदर्शन दिया लेकिन फिल्म को लोकसभा 2019 के चुनावों से पहले प्रचार फिल्म के रूप में प्रदर्शित किया गया. फिल्म ने 23.70 करोड़ रु.

मेड इन चाइना

मेड इन चाइना एक संघर्षरत गुजराती बिजनेसमैन की कहानी है जो एक सफल बिजनेसमैन बनने के लिए बड़ी विचित्र यात्रा से गुजरता है. फिल्म में मौनी रॉय, राजकुमार राव और बोमन ईरानी ने अभिनय किया. पूरी कहानी लोगों को बहुत ही बोरिंग लगी जबकि क्लाइमेक्स ने मेड इन चाइना को बचा लिया. यह केवल 9.63 करोड़ रुपये कमाने में सफल रही.

उजड़ा चमन

बॉलीवुड की 'टकले की असली और पहली फिल्म' के नाम से जाने जाने वाले अभिषेक पाठक की उजड़ा चमन ने हमें आत्म-प्रेम का महत्व सिखाया. सनी सिंह और मानवी गगरू की मुख्य भूमिकाओं में अभिनीत, फिल्म 30 वर्षीय कुंवारे चमन कोहली (सनी) पर आधारित एक ड्रामा-कॉमेडी है, जो एक खूबसूरत पत्नी की तलाश में होते हैं और समय से पहले गंजे होने वाली बीमारी से ग्रसित होते हैं. हालांकि, एक दिलचस्प विषय के साथ फिल्म लोगों को इम्प्रेस नहीं कर पाई. साथ ही आयुष्मान खुराना की 'बाला' के साथ इसकी तुलना की वजह से भी इसपर काफी असर पड़ा. फिल्म ने केवल 10.51 करोड़ का कलेक्शन किया.

ब्लैंक

ट्विंकल खन्ना के चचेरे भाई करण कपाड़िया ने ब्लैंक के साथ अपना बॉलीवुड डेब्यू किया. एक्शन थ्रिलर की स्टोरी लाइन एक आत्मघाती हमलावर के जीवन के चारों ओर घूमती है. बहरहाल फिल्म थोड़ी सी खिंची हुई लग रही थी और 5.15 करोड़ रुपये इकट्ठा करने में भी इसे काफी संघर्ष करना पड़ा.

द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर

पूर्व भारतीय प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के कार्यकाल पर आधारित यह फिल्म, संजय बारू की एक अनाम पुस्तक पर आधारित है, जो पूर्व प्रधानमंत्री के मीडिया सलाहकार थे. अनुपम खेर डॉ. मनमोहन सिंह के रूप में दिखाई दिए. अनुपम ने मनमोहन सिंह के हवा भाव को बखूबी से अपनाया. वह पूर्व प्रधानमंत्री की तरह चलने और बातचीत करने लगे थे. हालांकि, फिल्म की स्टोरी लाइन इसका माइनस पॉइंट बनीं और इसने 22.65 करोड़ रुपये का संग्रह किया.

पागलपंती

अनीस बज़्मी की मल्टीस्टारर कॉमेडी फ़्लिक पागलपंती में अनिल कपूर, जॉन अब्राहम, इलियाना डीक्रूज़, सौरभ शुक्ला, अरशद वारसी, कृति खरबंदा, उर्वशी रौतेला और पुलकित सम्राट सहित बड़े कलाकारों की टुकड़ी नज़र आई. इस फिल्म ने अपने ट्रेलर से लोगों को बहुत उम्मीद दी हालांकि, वो इस उम्मीद पर खरा नहीं उतर पाई और महज़ 33.01 करोड़ रुपये एकत्र किए.

क्रिटिक्स की पसंद पर बॉक्स ऑफिस पर ठप्प

सांड की आंख

भारत के सबसे पुराने शार्पशूटर चंद्रो तोमर और प्रकाश तोमर के जीवन पर आधारित इस फिल्म में भूमि पेडनेकर और तापसी पन्नू ने अभिनय किया था. तापसी और भूमी ने कमाल की एक्टिंग की थी और कहानी भी काफी स्ट्रांग थी बावजूद इसके फिल्म ने सिर्फ 23.40 करोड़ रुपये कमाए.

एक लड़की को देखा तो ऐसा लगा

इस साल सोनम कपूर फिल्म एक लड़की को देखा तो ऐसा लगा में लेस्बियन लड़की का किरदार निभाया. इस फिल्म के कई डायलॉग ट्रांसवुमन गजल धालीवाल द्वारा लिखे गए हैं. फिल्म में सोनम एक रूढ़िवादी परिवार से होती हैं और उन्हें अपने सेक्सुअलिटी के बारे में बताती हैं जो कि एक  बोल्ड स्टेप होता है. हालांकि यह फिल्म काफी एंटरटेनिंग थी, लेकिन बॉक्स ऑफिस परे अच्छी नहीं चल पाई और 20.28 करोड़ रुपये कमा पाई.

द स्काई इज पिंक

फिल्म अदिति (प्रियंका चोपड़ा) और नरेन चौधरी (फरहान अख्तर) और उनकी बेटी आयशा की वास्तविक जीवन की कहानी पर आधारित है, जिसे SCID (गंभीर संयुक्त इम्यूनो-डिफिशिएंसी) बीमारी होती है. बीमारी के चलतेकैसे एक रिश्ता और परिवार परेशानियों का सामना करता है, यह इस फिल्मे में बड़ी खूबसूरती से दिखाया गया है. हालांकि, यह फिल्म दर्शकों को उत्साहित नहीं कर पाई और मात्र 20.03 करोड़ ही बटोर सकी.

सोनचिरैया

सोनचिरैया एक डकैत की कहानी थी और एक एक्शन फिल्म थी जिसमें भूमि पेडनेकर, सुशांत सिंह राजपूत और मनोज बाजपेयी शामिल थे, और इसके संवाद चंबल बोली में थे. क्रिटिक्स की प्रशंसा के बावजूद फिल्म दर्शकों को पसंद नहीं आई और और 6.60 करोड़ रु का ही बिज़नेस कर पाई.

मर्द को दर्द नहीं होता

यह कहानी अभिमन्यु दस्सानी द्वारा निभाई गई एक युवा लड़के के इर्द-गिर्द घूमती है, जो बॉलीवुड में एक असामान्य शुरुआत करता है. वासन बाला का निर्देशन, जिसका Jio MAMI मुंबई फिल्म समारोह में भारत में प्रीमियर हुआ, यहां तक कि दर्शकों से एक स्टैंडिंग ओवेशन भी मिला, लेकिन बॉक्स ऑफिस पर यह बुरी तरह असफल रही और महज 2.03 करोड़ रुपये का कलेक्शन किया.

 

(Source: PeepingMoon)

Recommended

Loading...
Share