'The Sky Is Pink' Review: कभी हंसाएगी तो कभी बहुत रुलाएगी, जिंदगी जीने का एहसास दिलाएगी प्रियंका चोपड़ा जोनस और फरहान अख्तर की यह फिल्म

By  
on  

फिल्म: ' द स्काई इज पिंक'

स्टार कास्ट: प्रियंका चोपड़ा, फरहान अख्तर, जायरा वसीम और रोहित सराफ 

डायरेक्टर: शोनाली बोस 

रेटिंग्स: 4 मून्स

'द स्काई पिंक' एक  25 साल से विवाहित कपल की लव स्टोरी है, जिसकी कहानी उनकी बेटी आयशा चौधरी की नजर से हम फिल्म में देख रहे हैं. उनकी चंचल स्वाभाव वाली यह बेटी एक लाइलाज बीमारी से ग्रसित होती है. जिसकी कहानी पर यह फिल्म पूरी तरह से आधारित है. असल में आयशा एक प्रेरक वक्ता होती हैं, जो पल्मोनरी फाइब्रोसिस से ग्रसित हैं, उसकी कहानी आज के युवाओं के लिए किसी प्रेरणा से कम नहीं है.

प्रियंका चोपड़ा जोनस ने बॉलीवुड में 3 साल बाद काम किया है और उनका यह काम तारीफ- ए - काबिल है . 3 साल में अगर आपने प्रियंका को मिस किया है, तो यह फिल्म आपके लिए किसी सरप्राइज से कम नहीं होगी. वहीं, प्रियंका के पति का किरदार निभा रहे फरहान अख्तर ने भी उम्दा परफॉर्मेंस दी है. जैसे की यह जायरा वसीम की आखिरी फिल्म है. अपने अभिनय से वह यह सोचने पर जरूर मजबूर करेंगी कि उन्होंने इंडस्ट्री से अलविदा क्यों लिया.

कहानी की शुरुआत जायरा वसीम के किरदार आयशा से होती है जो आपको फिल्म के अंत तक अपने से बांधकर रखती है . फिल्म की शुरुआत में ही आपको समझ में आ जाएगा कि इसका अंत क्या है, लेकिन उस अंत तक यह फिल्म कैसे पहुंचती है यह कहानी है 'द स्काई इज पिंक'.

जब कोई किसी लाइलाज बीमारी से ग्रसित होकर मौत की तरफ बढ़ता है. तो सिर्फ वह नहीं बढ़ता, उसके साथ उसका पूरा परिवार उस मुश्किलों का सामना करता है जो एक पेशेंट महसूस करता. मां जो बहुत स्ट्रॉन्ग होती है, वैसी ही मां हैं अदिति चौधरी और एक पिता जो जिंदगी भर मेहनत करके आपको खुश रखने की कोशिश करता है और इस बात का पता भी नहीं चलने देता कि वो आपके लिए क्या क्या कर रहा है... ऐसे ही पिता हैं निरेन चौधरी. एक भाई जो आपसे कभी नहीं कहता कि वो आपसे कितना प्यार करता है... वैसे ही भाई हैं ईशान यानी रोहित सराफ. बहुत परेशानियों और अलगाव के बाद भी एक फैमिली कभी एक दूसरे से अलग नहीं होती, ऐसा ही परफेक्ट परिवार है चौधरी परिवार. एक पेरेंट्स जिन्होंने अपनी पूरी उम्र अपनी बेटी को जिंदा रखने में निकाल दी. वो इस दौरान एक दूसरे से कैसे अलग और करीब आते हैं वह डायरेक्टर शोनाली बोस ने बहुत ही बेहतरीन तरीके से पर्दे पर दिखाया है. 

जूही चतुर्वेदी जिन्होने इस फिल्म से पहले पिकू जैसी फिल्म के डायलॉग भी लिखे, वो अपने शब्दों से फिर आपके दिल को छुएंगी. यह जानते हुए कि यह फिल्म किसी रियल लाइफ आयशा की कहानी है, यह आपके रोंगटे खड़े कर सकती है. कुल मिलाकर फिल्म की कहानी को हम यहां उतारना नहीं चाहते लेकिन, सोचिए एक बच्ची जो बिना इम्यून सिस्टम के पैदा होती है और बहुत कोशिश के बाद भी बच नहीं पाती....

फिल्म के गाने जिन्हें गुलजार ने लिखे हैं, वो आपके दिल और जहन में बस जाएंगे. फिल्म थोड़ी लंबी है, मगर आपको हंसाएगी भी बहुत और रुलाएगी भी बहुत. फिल्म के अंत में आपको अपनी सिसकी के साथ साथ थियेटर में कई लोगों की सिसकियां सुनाई देंगी.

(Source: Peepingmoon)

Recommended

Loading...
Share