18000 करोड़ रुपये की विनिंग बिडर बोली के साथ टाटा ग्रुप की झोली में गयी एयर इंडिया, रतन टाटा ने कहा- 'वेलकम बैक'

By  
on  

"वेलकम बैक, एयर इंडिया," टाटा समूह के एमेरिटस चेयरमैन रतन टाटा ने ट्वीट किया, जब समूह ने नुक्सान में चल रही राष्ट्रीय वाहक एयर इंडिया के अधिग्रहण के लिए बोली जीत, उसकी 100 प्रतिशत हिस्सेदारी अपने नाम कर ली.

ट्वीट के साथ, रतन टाटा ने एयर इंडिया के विमान के बगल में जेआरडी टाटा की एक प्रतिष्ठित तस्वीर पोस्ट की. अधिग्रहण को "अच्छी खबर" कहते हुए, उद्योगपति ने आशा व्यक्त की कि बिक्री टाटा समूह की विमानन उद्योग में उपस्थिति के लिए एक बहुत ही मजबूत बाजार अवसर प्रदान करेगी. आपको बता दें कि "एक भावनात्मक नोट पर, श्री जेआरडी टाटा के नेतृत्व में एयर इंडिया ने एक समय में, दुनिया की सबसे प्रतिष्ठित एयरलाइनों में से एक होने की प्रतिष्ठा प्राप्त की थी.

()

उन्होंने ट्वीट में कहा, "टाटा के पास पहले के वर्षों में मिली छवि और प्रतिष्ठा को फिर से हासिल करने का अवसर होगा." उन्होंने कहा कि जेआरडी टाटा अगर आज जीवित होते तो "बहुत खुश" होते. आगे उन्होंने चुनिंदा उद्योगों को निजी क्षेत्र के लिए खोलने की हाल की नीति के लिए सरकार को धन्यवाद देते हुए अपनी बात समाप्त की.

सरकार ने शुक्रवार को टाटा समूह को एयर इंडिया के लिए विजेता बोलीदाता के रूप में घोषित किया, जिससे 1953 में भारत द्वारा अपनी निजी एयरलाइनों का राष्ट्रीयकरण करने के ठीक 68 साल बाद कैश-स्ट्रैप्ड महाराजा के संस्थापक के पास वापस जाने का रास्ता साफ हो गया.

टाटा ने स्पाइसजेट के संस्थापक अजय सिंह को 18,000 करोड़ रुपये की जीतने वाली बोली के साथ पछाड़ दिया.

(Source: Twitter)

Recommended

Loading...
Share