अनप्रोफेशनलिज्म की वजह से शो से बाहर किये जाने की ख़बरों को 'तारक मेहता का उल्टा चश्मा के टप्पू ने किया खारिज, कहा- लाइफ को एक्स्प्लोर करना चाहता था'  

By  
on  

'तारक मेहता का उल्टा चश्मा' में टप्पू के किरदार से भव्या गांधी ने खूब तारीफें बटोरी. 2017 में उन्होंने अपने किरदार छोड़ने के फैसले से सभी को हैरान कर दिया.उनकी जगह पर राज अंदकत को टप्पू के किरदार के लिए चुना गया. फिल्मों में काम करने और नयी चीजों को एक्स्प्लोर करने के फैसले से उन्होंने कई फैंस का दिल तोड़ दिया था. अब, सालों बाद, यंग गुजराती फिल्म अभिनेता ने तारक मेहता का उल्टा चश्मा के साथ आने वाली पॉपुलैरिटी और 9 साल बाद टप्पू का किरदार निभाने के बाद शो छोड़ने के बारे में एक लीडिंग डेली से बात की. भव्या ने खुलासा किया कि हर दिन एक ही काम करना उन्हें नीरस लगता था और वह कुछ नया तलाशना चाहते थे.

अक्टूबर के एंड तक सब टीवी के शो 'तारक मेहता का उल्टा चश्मा' में हो सकती है दयाबेन की वापसी ?

  भव्या ने कहा, 'अब भी लोग मुझे उस नाम से बुलाते हैं और मुझे इससे कोई परशानी नहीं है. वास्तव में मुझे इससे प्यार है क्योंकि मैं उस चीज को करते हुए बड़ा हुआ हूं. आज मैं जहां हूं उस चीज की वजह से हूं लेकिन मैं और चीजें एक्स्प्लोर करना चाहता था. तारक में एक पॉइंट पर मुझे लगा मैं बस वही कर रहा था जो नीरस था. मैं बस वहां रोज आ रहा था, यह कर रहा हूं, वह कर रहा हूं और फिर पैक अप हो जाता था, चलो घर जाओ और यह लंबे समय तक चलता रहा. मुझे नहीं पता था कि इस बारे में क्या करना है इसलिए मैंने और मेरे माता- पिता ने असित सर ( शो के प्रोड्यूसर) से बात की. हर कोई जानता था कि मैं जा रहा हूं और मैं उनसे बात करता था कि मुझे क्या करना चाहिए, और मुझे क्या नहीं करना चाहिए. मैं सभी चीजों को देख रहा था. आखिरकार, मैं इस नतीजे पर पहुंचा कि शायद मैं नई चीजों को जानना चाहता हूं, एक्स्प्लोर करना चाहता हूं और अभी भी मैं वहां नहीं पहुंचा हूं. मैं अभी भी उस चीज को खोज रहा हूं, जिसे आप जानते हैं कि 'हां, धमाकेदार, माज़ा आया' आपको महसूस होगा. यह पूरी कविता जो मैंने की, वह बिल्कुल अलग चीज है, मैंने ऐसा कभी नहीं किया. उदाहरण के लिए कि यह सब कविता जो मैंने किया वह पूरी तरह से अलग बात थी और मैंने ऐसा कभी नहीं किया और मेरी दूसरी गुजराती फिल्म दोस्ती के बारे में थी जिसमें कुछ व्यवसाय करने की कोशिश कर रहे युवा थे और पूरी टीम सिर्फ एक युवा टीम थी. फिल्म में सिर्फ एकबूढ़ा किरदार था उसके अलावा सभी यांग लड़कियां थी. मुझे वह अनुभव अच्छा लगा.  जब मैंने कहा कि यही कारण है कि मैंने जीवन का पता लगाने, अधिक देखने, अधिक समझने और खुद को अधिक समझने और कला को समझने के लिए और अधिक जानने के लिए तारक मेहता को छोड़ दिया. 

भव्या ने तारक मेहता का उल्टा चश्मा से बाहर करने की अफवाहों पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, 'मुझे परवाह नहीं है वो जो कुछ भी कहना चाहते है उन्हें कहने दे. मैं सच जानता हूं , मुझे पता है कि मैं वही हूं जो मैं लोगों को सोचने देता हूं. मुझे परवाह नहीं है.' 
 

Recommended

Loading...
Share