'गुलाबो सिताबो' के मिर्जा लुक से लखनऊ वाले भी खा गए धोखा, पीकू में कोलकाता की गलियों के बाद नवाबों के शहर में भी खुलेआम घूमे अमिताभ बच्चन

By  
on  

हो सकता है कि यह शूजित सरकार की फिल्म में काम करने का परिणाम जो अमिताभ बच्चन के साहसिक और शरारती कला को परदे पर ले आते हैं. या फिर यह भी हो सकता है कि यह इन फिल्मों में उनके बेहतरीन किरदार का असर हों, जो उन्हें इस तरह रोल  प्रोत्साहित करता है लेकिन अगर आपो लगता है कि लखनऊ में गुलाबो सीताबो की शूटिंग के दौरान लोगों ने उन्हें इसलिए नहीं पहचाना क्यूंकि वोई पहली बार इस तरह का करदार निभा रहे हैं तो आप गलत हैं. 

2014 में जब वह कोलकाता में शूजीत सिरकार की फिल्म 'पीकू' की शूटिंग कर रहे थे, उस समय भी बंगाली बाबू के किरदार में अभिनेता को पहचानना लोगों के लिए मुश्किल हो गया था. गुलाबो सीताबो के समय भी अमिताभ का मेकअप ऐसा था कि वह बिना किसी सिक्योरिटी गार्ड के लखनऊ की गलियों में घूम रहे थे.

गुलाबो सिताबो: आयुष्मान खुराना और अमिताभ बच्चन की फिल्म के नाम से जुड़ी कठपुतलियों की जानिए असल कहानी

 

12 जून को Amazon प्राइम वीडियो पर रिलीज़ होने वाली गुलाबो सीताबो में दिग्गज अभिनेता एक चिड़चिड़े और तेज-तर्रार पुराने मकान मालिक के किरदार में नजर आ रहे हैं. इस किरदार के लिए अमिताभ का ट्रांसफॉर्मेशन और नाक का प्रोस्थेटिक मेकअप करना बहुत जरुरी थी. शूजित जो इस बात से डरते थें कि कहीं अमिताभ को लोग पहचान न ले यह देखकर खुश हुए कि अमिताभ स्थानीय लोगों से बात कर रहे हैं और कोई उन्हें पहचान नहीं रहा है.

 

निर्देशक ने कहा, 'हमने लखनऊ के भीड़भाड़ वाले इलाके हजरतगंज में शूटिंग की और किसी को भी यह पता नहीं चला कि यह बूढ़ा आदमी अमिताभ बच्चन है.

Recommended

Loading...
Share