लॉकडाउन में बढ़ती घरेलू हिंसा के खिलाफ एकजुट हुए अनुष्का शर्मा, करण जौहर से लेकर विराट कोहली तक, वीडियो जारी कर कही ये बात

By  
on  

कोरोना से हर तरफ कोहराम मचा हुआ है. जिसके चलते पीएम मोदी ने देश को लॉकडाउन कर दिया है. वहीं लॉकडाउन को दौरान लगातार घरेलू हिंसा के मामले सामने आ रहे हैं. घरेलू हिंसा जैसे गंभीर मामले को लेकर बॉलीवुड स्टार्स और खेल जगत के लोग एकजुट हए है. उन्होंने एक वीडियो के जरिए घरेलू हिंसा पर लॉकडाउन की मांग करते हुए इसके खिलाफ आवाज उठाने की अपील की है. 
इस वीडियो में बॉलीवुड एक्टर्स अनुष्का शर्मा, विद्या बालन, माधुरी दीक्षित, फरहान अख्तर, राहुल बोस, दीया मिर्जा और करण जौहर समेत विराट कोहली, रोहित शर्मा और मिताली राज जैसे बड़े खिलाड़ी मौजूद है. वीडियो में सभी साथ मिलकर कह रहे हैं कि घरेलू हिंसा के खिलाफ चुप न बैठें और अपनी आवाज उठाएं.
वीडियो सें सभी एक साथ कह रहे हैं कि 'लॉकडाउन में, घरेलू हिंसा के मामले बढ़ गए हैं. हम सभी पुरुषों को कहते हैं, यही समय है हिंसा के खिलाफ खड़े होने का..महिलाओं से हम कहना चाहते हैं, यही समय है अपनी चुप्पी तोड़ने का....अगर आप घेरलू हिंसा का शिकार हैं, फिर चाहे वो घर पर हों, आपको रिपोर्ट करना चाहिए...घरेलू हिंसा पर भी लॉकडाउन लगाया जाए.' 

Recommended Read: बॉलीवुड एंथम 'मुस्कुराएगा इंडिया' हुआ जारी, बी-टाउन का नेतृत्व करते दिखे अक्षय कुमार 

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

This is so important and not just during the lockdown but in general. I know a video won't be able to do much but if this video is able to help anybody in any way or if it gives someone the courage to speak up for themselves or for anyone whom they know then I think the purpose of this video will be fulfilled. I know it's really hard to speak up when something so traumatising happens to you but I hope anyone who witnesses any form of violence has the strength and courage that they need. Also, please let us be kind to everybody because we never know what someone is going through. Sending love and positivity! ♡ — [ #anushkasharma #lockdownondomesticviolence #bollywood ]

A post shared by Anushka Sharma. (@anushkaslays) on

आपको बता दें कि राष्ट्रीय महिला आयोग ने इस साल 27 फरवरी से 22 मार्च के बीच और लॉकडाउन के दौरान 23 मार्च से 16 अप्रैल के बीच मिली शिकायतों की तुलना के बाद जो आंकड़े जारी किए हैं उसके मुताबिक, बंद से पहले आयोग को घरेलू हिंसा की 123 शिकायतें मिली थीं जबकि लॉकडाउन के दौरान ऑनलाइन व अन्य माध्यम से घरेलू उत्पीड़न के 239 मामले दर्ज कराए गए. वहीं महाराष्ट्र में भी लॉकडाउन के दौरान घरेलू हिंसा के मामले बढ़ रहे हैं. कुछ दिन पहले महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे इस पर चिंता जाहिर की थी. उन्होंने कहा था महिलाओं के साथ गलत व्यवहार करना महाराष्ट्र की संस्कृति नही है. वो इन घटनाओं को सहन नहीं करेंगे. 

(Source: Instagram)
 

Recommended

Loading...
Share