गोल्ड ट्रेडिंग में की गई धोखाधड़ी के आरोपों पर शिल्पा शेट्टी कुंद्रा ने दिया रिएक्शन, कहा- 'सच्चाई जल्दी ही सबके सामने आ जाएगी'

By  
on  

एक्ट्रेस शिल्पा शेट्टी ने एक किलो सोने की खरीद योजना में निवेशक को धोखा देने को लेकर राजकुंद्रा पर लगाए गए धोखाधड़ी के आरोपों पर जवाब दिया है. दरअसल शिल्पा शेट्टी ने एक्टर सचिन जोशी की ओर से उनके और उनके पति राज कुंद्रा के खिलाफ लगाए गए आरोपो पर अपनी प्रतिक्रिया दी है. सचिन ने शिल्पा शेट्टी और उनके पति के खिलाफ एक शिकायत दर्ज की थी, जिसमें आरोप लगाया गया था कि उनके साथ शिल्पा और राज के नेतृत्व वाली सोने की ट्रेडिंग कंपनी सतयुग गोल्ड प्राइवेट लिमिटेड द्वारा धोखाधड़ी की गई थी. इस मामले में शिल्पा शेट्टी ने अपनी चुप्पी तोड़ते हुए कहा है कि सचिन जोशी की ओर से लगाए गए ये सभी आरोप पूरी तरह से झूठे और निराधार हैं. सतयुग गोल्ड की ओर से प्रत्येक ग्राहक के आदेश समय पर पूरे किए हैं. हमने 1 किलोग्राम सोना भी जमा कर दिया है, जिसके लिए सचिन जोशी की ओर से अभी कानूनी रूप से लागू डिमैरेज चार्ज का भुगतान किया जाना है.'

दरअसल, सचिन जोशी की शिकायत में कहा गया है कि उन्होंने गोल्ड स्कीम के चलते एक किलो सोना खरीदा था. सचिन जोशी के अनुसार, उसने मार्च 2014 में एक सोने की योजना में कंपनी से लगभग 18.58 लाख रुपए का सोना खरीदा था. इस बारे में उन्होंने कहा कि पंचवर्षीय योजना के तहत खरीदार को रियायती दर पर सोने का कार्ड दिया जाता था और निश्चित अवधि के बाद सोने की निश्चित मात्रा का वादा किया जाता था. सचिन जोशी का टर्म प्लान 25 मार्च, 2019 को खत्म हुआ और जब उन्होंने कार्ड को इस्तेमाल करने की कोशिश की, तो पता चला पाया कि बांद्रा कुर्ला कॉम्प्लेक्स में कंपनी का ऑफिस बंद हो गया था.

Recommended Read: Drug Case: मीडिया ट्रायल को लेकर दिल्ली HC पहुंचीं रकुल प्रीत सिंह, याचिका पर कोर्ट ने केंद्र से मांगा जवाब, मीडिया को ये निर्देश देते हुए जारी किया नोटिस


शिल्पा ने अब आईएएनएस से इस बारे में बात करते हुए कहा कि यह आरोप झूठे हैं. उन्होंने कहा, 'सचिन जोशी की ओर से लगाए गए ये सभी आरोप पूरी तरह झूठे और निराधार हैं। सतयुग गोल्ड में, हर ग्राहक के ऑर्डर समय पर पूरे हुए। हमने 1 किलोग्राम सोना भी जमा कर दिया है, जिसके लिए सचिन जोशी को अभी तक कानूनी रूप से लागू डिमैरेज चार्ज का भुगतान नहीं करना है. बहुत से लोगों को नहीं पता, हमारे पास इस सीरियल डिफॉल्टर के खिलाफ अदालत में चेक बाउंसिंग का मामला भी है. अगर हम उसे सोना नहीं देना चाहते हैं, तो हम इसे अदालत में जमा नहीं करेंगे. अदालत ने अब एक मध्यस्थ नियुक्त किया है जहां हमने उन आरोपों को पेश किया है जिसका चालान और वेबसाइट पर स्पष्ट रूप से उल्लेख हैं. सच जल्द ही सामने आ जाएगा.'

Recommended

Loading...
Share