नेहा कक्कड़ के 5 लाख रुपये देने पर बोले 'इक प्यार का नगमा है' लिखने वाले गीतकार संतोष आनंद, कहा- 'मुझे दया नहीं सम्मान की जरूरत'

By  
on  

'मुहब्बत है क्या चीज', 'इक प्यार का नगमा है', 'जिंदगी की ना टूटे लड़ी प्यर कर ले घड़ी दो घड़ी', 'मारा ठुमका बदल गई चाल मितवा', 'मेघा रे मेघा रे मत जा तू परदेश', 'मैं न भूलूंगा,इन रस्मों को इन कसमों' जैसे बेहतरीन गाने लिखने वाले गीतकार संतोष आनंद का हाल ही में एक वीडियो बहुत वायरल हो रहा है. दरअसल हाल ही में सिंगिंग रियलटी शो इंडियन आइडल में गुजरे जमाने के मशहूर गीतकार 81 साल के संतोष आनंद ने शिरकत की थी जहां उन्हें शो की जज नेहा कक्कड़ ने 5 लाख रुपए दिए थे. खबरें थीं कि संतोष आनंद मुफलिसी के दौर में हैं और उनके पास इलाज और घर चलाने तक के पैसे नहीं हैं जिसकी वजह से उन्हें इंडियन आइडल 12 में बुलाकर नेहा कक्कड़ ने उनकी मदद की है लेकिन संतोष आनंद ने इस बारे में अपनी सफाई पेश की है. उन्होंने कहा कि एक कलाकार को इज्जत और सम्मान चाहिए. याद किया जाना अच्छा लगा लेकिन बाद में कुछ ऐसी बातें हुईं जो गलत हैं.

एक लीडिंग वेबसाइट संतोष आनंद ने कहा, 'मेरा घर ठीक से चला रहा है. नेहा बहुत अच्छी इंसान हैं जब उन्होंने मुझे 5 लाख रुपए देने का ऐलान किया तो मैंने कहा, मैं नहीं ले सकता. मैं एक स्वाभिमानी आदमी हूं। मैंने कभी किसी से पैसे नहीं मांगे औ ना ही कभी मांगूगा. मैंने किसी से मदद नहीं मांगी. मैं कवि सम्मेलन में भाग लेता हूं और उससे पैसे कमाता हूं.'
'अलविदा' राजीव कपूर: 'राम तेरी गंगा मैली' से रातों रात स्टार बनने से लेकर जानिए दिग्गज कलाकार की जिंदगी से जुड़ी खास बातें


संतोष आनंद ने आगे कहा, 'मुझे कोई परेशानी नहीं है तो मैं क्यों मदद मांगूगा. मैं नहीं जानना कि नेहा ने मुझे ये गिफ्ट क्यों दिया. अगर वो ये ना कहती कि आप इसे अपनी पोती समझ के ले लीजिए तो मैं कभी नहीं लेता. और उसके बाद लोग ये सब बातें करने लगे जो सच नहीं है. स्टेज पर बुलाया, सम्मान दिया, बस यही था. सम्मान और मदद में फर्क है. मुझे मदद नहीं चाहिए.'


बता दें कि, शादी के दस साल बाद संतोष को एक बेटा हुआ था. जिसका नाम उन्होंने संकल्प रखा गया था. 15 अक्टूबर 2014 को बेटे ने ट्रेन के सामने कूदकर जान दे दी थी. 

Recommended

Loading...
Share