PeepingMoon Exclusive: 'इस प्यार को क्या नाम दूं' के नए वर्जन के लिए तैयार है बरुन सोबती और सनाया ईरानी की जोड़ी; उनके करियर में शो के महत्व पर की बात

By  
on  

टीवी की दुनिया के पॉपुलर शो 'इस प्यार को क्या नाम दूं' को इस 6 जून को 10 साल पूरे हो चुके हैं. शो में बरुण सोबती और सनाया ईरानी ने अर्णव सिंह रायज़ादा और ख़ुशी कुमारी गुप्ता (सिंह रायज़ादा) की भूमिका निभाई है. ऐसे में शो के 10 साल पूरे होने के मौके पर सनाया और बरुन ने PeepingMoon.com से की गयी एक्सक्लूसिव बातचीत में फैंस द्वारा पूछे गए कुछ मजेदार सवालों के जवाब दिए हैं.

बरुन और सनाया के एक फैन ने इस जोड़ी से पूछा कि अगर 'इस प्यार को क्या नाम दूं' नहीं होता तो, आप लोग कहां होते? जिसके जवाब में बरुण ने बताया, "अगर 'इस प्यार को क्या नाम दूं' नहीं होता, मैं तो स्ट्रगल कर रहे होता अभी तक. मेरे करियर में शो का महत्व बहुत अधिक था क्योंकि इसने हमें मैप पर लाकर खड़ा किया." वहीं, सनाया ने कहा, "मुझे नहीं पता कि इसका जवाब कैसे दूं क्योंकि मैं उस तरह से नहीं सोच रही हूं. कुछ भी हो सकता था. शायद कुछ और आश्चर्यजनक होता या जैसा कि बरुन ने कहा, मैं भी संघर्ष कर रही होती."

(यह भी पढ़ें: पापोन की आवाज में बरुन सोबती और सोनारिका भदोरिया का 'तेरा मेरा' म्यूजिक वीडियो में दिखा रोमांटिक अंदाज)

बरुन और सनाया ने आगे इस प्यार को क्या नाम दूं? का एक नया संस्करण करने के बारे में बात की. सनाया ने कहा, "बेशक. यह कहानी पर निर्भर करता है. अगर यह अपील करती है, तो क्यों नहीं." बरुन ने अपना रुख कायम रखा कि वह ऐसा करने के लिए हमेशा तैयार हैं.

यह पूछे जाने पर कि क्या उनके लिए एक-दूसरे के साथ रोमांस करना मज़ेदार होगा, क्योंकि वे एक दशक से अधिक समय से सबसे अच्छे दोस्त हैं, सनाया ने कहा, "निश्चित रूप से, यह मज़ेदार होगा लेकिन एक्टर के रूप में, हम आगे बढ़ेंगे." एक्ट्रेस ने आगे एक किस्सा साझा किया कि रोमांटिक सीन के दौरान लीड जोड़ी को कैसे एक दूसरे की आँखों में देखने की वजह से माइग्रेन हो जाया करता था. शायद हाथ पकड़ने जैसा कुछ उनके लिए सही होगा!

Recommended

Loading...
Share