PeepingMoon Exclusive: असम इंडस्ट्री के गानों में शोर-शराबा थोड़ा कम है, वहां आर्टिस्टिक माहौल मिलता है- सिंगर पापोन

By  
on  

अपनी अलग आवाज और सुरों पर मजबूत पकड़ के लिए पहचाने जाने वाले सिंगर और कंपोजर पापोन हमेशा कुछ नया करते रहते हैं. उनका हालिया रिलीज  सॉन्ग खिड़की लोगों को ताजगी का एहसास करा रहा है. उनके इस गाने और जिंदगी के बाकी पहलुओं पर पीपिंगमून ने उनसे की खास बातचीत. 

सवाल- अपने नए सॉन्ग 'खिड़की' के बारे में बताइये. रिलीज होते ही गाने को बहुत प्यार मिला रहा है, सॉन्ग की काफी तारीफ हो रही है. रित्विक भौमिक और अशनूर कौर की जोड़ी और आपकी आवाज, बहुत कमाल की लगी है ? 
जवाब- यह गाना हमने यहीं सोचकर किया था कि लोगों को कुछ फ्रेश फिल हो. ख़िड़की बहुत प्यारा सॉन्ग है और इसके बोल बहुत ईमानदार हैं. इस गाने के पीछे की एक कहानी है दरअसल यह गाना एक न्यू कमर का था. वह लोग मेरे पास पहुंच नहीं पा रहे थे, तो किसी तरह से यह गाना मेरे पास पहुंचा और मैंने सुना, तो यह गाना सुनकर मुझे बहुत अच्छा लगा. गाने का आईडिया एकदम नया था. बहुत सुंदर स्वीट और ऑनेस्ट टाइप, बिल्कुल भी शोर-शराबा नहीं है एकदम सिंपल मैलोडी है. एक लाइन से ही गाना कनेक्ट होता है. इस गाने में एक ठुमरी इस्तेमाल की गई है. इस ठुमरी का इस्तेमाल काफी गानों में हुआ है. तो मुझे अच्छा लगा कि इस ठुमरी से यह गाना बहुत अलग तरीके से कनेक्ट किया गया.  इन दिनों ऐसे ट्रैक ज्यादा नहीं बनाए जाते हैं. ये गाना अपने आप में एक छोटी सी फिल्म के समान है. गाने की मासूमियत को बरकरार रखते हुए दिल को छू जाने वाले इस वीडियो में दो लोगों की बीच की दोस्ती और प्यार को दर्शाया गया है. मुझे इस गाने की मेलोडी बेहद सुखदायक और अनोखी लगी. इस तरह की म्यूजिक से मुझे बेहद खुशी मिलती है. खिड़की यह गाना उन लोगों के लिए है जो लव एट फर्स्ट साइट इफेक्ट विश्वास रखते हैं. गाने की जर्नी बहुत याद कर रही है. पहले लग नहीं रहा था कि ये गाना लोगों को इतना पसंद आएगा, क्योंकि आजकल इस तरह के गाने पसंद नहीं आते हैं लेकिन इस गाने को अच्छा रिस्पांस मिला है.

Recommended Read: PeepingMoon Exclusive: इंडिया की पहली म्यूजिकल वेब सीरीज में मेरा किरदार मैडोना से नहीं होगा कम, साशा पिंक के अवतार को देखकर सब चौंक जाएंगे- डोनल बिष्ट

सवाल- आप एनवार्यमेंट लवर हैं तो ऐसे में लॉकडाउन के दौरान सबसे ज्यादा क्या मिस किया ? 
जवाब- लॉकडाउन में सबसे ज्यादा पहाड़ों को मिस कर रहे हैं. मैं बहुत धूमता हूं. मैं ज्यादातर जंगल और नेचर के पास ही रहता हूं. मैं अगर किसी चीज को म्यूजिक से भी ज्यादा पसंद करते हैं तो वो है नेचर के करीब रहना. हां लेकिन इस टाइम बच्चों और परिवार के साथ ज्यादा वक्त बिताने का मौका मिला.  समय नहीं मिलता था. लेकिन जंगलों में जाना मेरी दवा है. वो मुझे संगीत से भी ज्यादा पसंद है. मुझे अच्छा लगता है कि जब हवाएं चलती हैं, पत्ते गिरते हैं, पेड़ झूमते हैं, नदियां बहती हैं. हां लेकिन लॉकडाइन से ऐसा लगा कि अभी वो वक्त है जो प्रकृति मुस्कुरा रही है. मैंने कभी भी मुंबई के आसमान को इतना सुंदर कभी नहीं देखा. 

सवाल- लॉकडाउन में कैसे समय कैसे बिताया, कौन कौन से नए प्रोजेक्ट्स को लेकर क्या क्या तैयारियां की ?
जवाब- मैंने लॉकडाउन में मैंने बच्चों के लिए बहुत सी कहानियां तैयार की हैं. जहां तक संगीत की बात है तो मैंने एक कई गाने, गजलें तैयार कि. मुझे संगीत बनाना बहुत पसंद है, क्योंकि इस दौरान आप कुछ क्रिएट कर रहे होते हैं. कोरोना कुछ ऐसा है जो कभी नहीं हुआ है. इसलिए इस दौरान सबको तमाम नई चीजों के बारे में सोचने का समय मिला. भविष्य के बारे में, नई संभावनाओं के बारे में. 

सवाल-  'मोह मोह के धागे' आपके सबसे ज्यादा प्यारे गानों में से एक है. आज भी इस गाने को सुनो तो नयापन लगता है. इस गाने  से जुड़ा कोई यादगार किस्सा बताइये ? 
जवाब-  इस गाने से बहुत यादगार किस्से जुड़े हुए हैं. मैं कहीं भी जाता हूं लोग इस गाने को सुनना बहुत पसंद करते हैं. इस गाने को लेकर अनु मलिक जी ने मुझे बुलाया था, और मुझे इस गाने की धुन सुनाई और बोला कि बताओ अभी से कैसे किया जाए. तो बस इस गाने के बोल सुनते ही दिल को छू गये थे. इस गाने में बहुत फील है.  

सवाल- असम सॉन्ग और हिंदी म्यूजिक इंडस्ट्री में क्या क्या फर्क महसूस हुआ आपको ?
जवाब- मुझे दोनों इंडस्ट्री में कोई फर्क महसूस नहीं हुआ है. भारत में सबसे ज्यादा बॉलीवुड इंडस्ट्री में ही काम है. दोनों इंडस्ट्री में कोई कंपैरिजन नहीं है. दोनों इंडस्ट्री में प्रोफेशनल लोग हैं काम अच्छा होता है. असम इंडस्ट्री थोड़ी छोटी है और वहां के गानों में शोर-शराबा थोड़ा कम है. वहां हम आराम से बहुत स्टेज शोज प्रमोशंस बहुत आराम से कर सकते हैं. असम में फेस्टिवल्स के दौरान बहुत शोज होते है. वहां अपना एक रिजनल कल्चर है. महीनों महीनों शोज चलते हैं. तो वहां पर एक ही नहीं है कि अगर आपके पास कुछ बड़ा बैकअप नहीं है तो आप अपनी शोज कर सकते हैं. वहां पर माहौल है आर्टिस्टिक लोगों के लिए. और बॉलीवुड की बात करें तो यहां पर बहुत प्रोफेशनली काम होता है.

Recommended

Loading...
Share