PeepingMoon Exclusive: 'मैं राज कुमार हिरानी का भक्त हूं, उनके साथ काम करना चाहता हूं': 'तांडव' फेम परेश पाहुजा

By  
on  

 

15 जनवरी को ओटीटी प्लेटफॉर्म अमेज़न प्राइम वीडियो पर रिलीज हो रही ‘तांडव’ को सभी का बेसब्री से इंतजार है. सीरीज में  धुरंधर कलाकारों की फौज है. सैफ अली खान से लेकर डिंपल कपाड़िया, सुनील ग्रोवर, तिग्मांजशु धूलिया, डिनो मोरिया, कुमुद मिश्रा जैसे दमदार कलाकार नजर आएंगे. वहीं इन सब के बीच यंग टैलेंट परेश पाहुजा पर भी सबकी नजर होगी.  परेश पाहुजा ने इससे पहले सलमान खान  और कैटरीना कैफ स्टारर 'टाइगर जिंदा है' में अपनी अदाकारी के जलवे बिखेरे थे. अपने छोटे से करियर में परेश ने अपनी काबिलियत के दम पर काफी नाम कमा लिया है. वहीं पीपिंग मून ने परेश पाहुजा से एक्सक्लूसिव बातचीत की है. इस दौरान परेश ने अपनी फिल्मी जर्नी से लेकर सलमान खान की फिल्म से डेब्यू करने से लेकर सैफ अली खान के साथ स्क्रीन शेयर करने पर बात की. 

सवाल- तांडव का ट्रेलर रिलीज हो चुका, बहुत अच्छा रिस्पॉन मिल रहा है. काफी टाइम बाद एक हार्डकोर पॉलिटिकल ड्रामा हमें देखने को मिलने वाला है. सीरीज में अपने किरदार के बारे में बताइए, 
जवाब- ‘तांडव’ की कहानी बहुत दमदार है. मैंने सीरीज में डिंपल कपाड़िया जी के बेटे का किरदार निभाया है. यह काफी अनप्रिडिक्टेबल कैरेक्टर है. इस कैरेक्टर को देखने में आपको बहुत मजा आएगा. जैसे की सीरीज में हर कैरेक्टर के अपने कुछ मकसद है लेकिन मेरा कैरेक्टर सब कैरेक्टर से थोड़ा अलग है. मेरे किरदार का लुक से लेकर बात करने तक के तरीके को जब देखेंगे तो आपको पता चलेगा कि यह कितना अलग कैरेक्टर है. यह ऐसा क्यों है उसके पीछे एक वजह है. यह वजह आपको सीरीज देखने के बाद पता चलेगी कि मेरा कैरेक्टर ऐसा क्यों है. 

Recommended Read: PeepingMoon Exclusive: 'आज तक हैदराबादी लैंग्वेज में कोई भी लव स्टोरी नहीं बनी है, बोलो हाऊ का टेस्ट और फील अलग है' : फिल्ममेकर तरुण धनराजगिर

सवाल- इस पॉलिटिकल ड्रामा में एक से बढ़कर एक धुरंधर कलाकारों ने काम किया है. सैफ अली खान, डिंपल कपाड़िया, सुनील ग्रोवर, तिग्‍मांशु धुलिया, कुमुद मिश्रा कैसे रहा इतने टैलेंडेट एक्टर्स के साथ काम करने का अनुभव. सेट पर कैसा रहता था माहौल ?
जवाब-  जैसे सीरीज है, सेट पर इससे बिल्कुल उल्टा माहौल रहता था. हम लोग सेट पर बहुत मस्ती करते थे. सभी सीनियर एक्टर्स इतने प्यार से रहते थे कि फील ही नहीं होता था कि सब इतने दिग्गज कलाकार है. हम लोग फ्री टाइम में पटौदी हाउस में क्रिकेट खेलते थे. जब हम पटौदी हाउस में शूट कर रहे थे शाम को जैसे ही हम लोगों का पैकअप होता था, हम बहुत मजे में क्रिकेट खेलते थे. पटौदी हाउस के बाहर प्रॉपर एक बहुत बड़ा ग्राउंड है बहुत मजा आता था खेलने में. दो टीमें बनती थी, जिसमें एक अली सर की टीम होती थी और एक सैफ सर की. हमारी टीम में सब होते थे पूरी टीम होती थी क्रू मेंबर से लेकर इलेक्ट्रीशियन लाइटिंग मैन सब होते थे. पूरा प्रॉपर मैच होता था. मैं सच कहूं तो यह मेरी लाइफ का बेस्ट शूट में से एक है. मुझे हमेशा इस सीरीज की शूटिंग याद रहेगी. 

सवाल- आपके काम को 'टाइगर जिंदा है' में भी काफी पसंद किया गया था. 'टाइगर जिंदा है' फिल्म में आपको कैसे मौका मिला और डेब्यू फिल्म में सलमान कैटरीना के साथ काम करने का एक्पिरिंयस कैसा रहा ? 
जवाब- मैंने इस फिल्म के लिए ऑडिशन दिया था. दरअसल हुआ क्या था कि मैं वरसोवा में एक कैफे में बैठा हुआ था, तो वहां पर मुझे शानू मैम मिली. तब उन्होंने मुझसे बोला कि मैंने तुम्हारी एक ऐड देखी थी और तुमने उसमें बहुत अच्छा काम किया है. तब उन्होंने मुझे बताया कि एक फिल्म है लेकिन तब तक मुझे उन्होंने फिल्म की कोई भी डिटेल नहीं बताई थी बस इतना बोला था कि एक फिल्म है उसके लिए तुम कल ऑफिस आओ और ऑडिशन दो. फिर मैं अगले दिन उनके ऑफिस गया मैंने वहां पर ऑडिशन दिया. फिर मुझे बताया गया कि मैं सेलेक्ट हो गया हूं. जब मैंने ऑडिशन दिया तब तक मुझे पता ही नहीं था कि मैं कौन सी फिल्म में काम कर रहा हूं. लेकिन जब मुझे पता चला कि मैंने टाइगर जिंदा है के लिए ऑडिशन दिया है तो वह मोमेंट मेरी लाइफ का बेस्ट मोमेंट था. यह मेरे लिए बिग मोमेंट था. सलमान भाई के साथ काम करना मतलब सपने के सच होने जैसा था. उनके साथ काम करने का एक्सपीरियंस बहुत बहुत अच्छा रहा. और कैटरीना मैम को तो मैं स्क्रीन पर देखते हुए बड़ा हुआ हूं. जब उनकी फिल्म रिलीज होती थी तो मेरे लिए किसी फेस्टिवल से कम नहीं होता था. उनके साथ काम करना मैं शब्दों में बयां नहीं कर सकता. मैम के साथ काम करने में काफी कंफर्टेबल फील होता था. ऐसा फील ही नहीं होने देती थी वह की बहुत सीनियर कलाकार हैं. उन्होंने मुझे एक्टिंग में भी काफी अच्छे टिप्स दिए जो मुझे ताउम्र याद रहेंगे और मेरे करियर में भी काफी मददगार साबित होंगे. मुझे लगता है कि पहली फिल्म में आपके साथ जैसा बर्ताव होता है फिर आपके दिमाग में फिल्म इंडस्ट्री को लेकर वैसे ही इमेज बन जाती है. मेरी पहली फिल्म से मेरा एक्सपीरियंस बहुत अच्छा रहा और मैं बहुत खुश हूं कि मुझे सेट पर इतना अच्छा माहौल मिला था. 

सवाल- परेश आप अपनी जर्नी के बारे में बताइए. कहां के रहने वाले हैं और फिल्म इंडस्ट्री में आने की कब सोची ? 
जवाब- मैं अहमदाबाद का रहने वाला हूं. मैं मुंबई पढ़ाई करने आया था. मैंने अपना पोस्ट ग्रेजुएशन कंप्लीट करने के बाद एडवरटाइजमेंट कंंपनी में जॉब की थी. एक्टिंग की दुनिया में आने का कोई प्लान नहीं था बस चीजें होती चली गई. मेरा शुरू से प्लान था कि एक नॉर्मल सी नौकरी करूंगा और हर मंथ के एंड में मेरे हाथ में सैलरी होगी. पर शायद लाइफ में मेरे लिए कुछ और डिसाइड करके रखा हुआ था. मैं जब मुंबई में था तब मेरा एक रूममेच कास्टिंग असिस्टेंट था. उसी ने मुझे एक ऐड के लिए ऑडिशन देने के लिए कहा था. तो मैंने ऑडिशन दिया तो मुझे वह ऐड मिला उसके बाद मुझे दूसरा ऐड मिला तो फिर काम करने में बहुत मजा आने लगा. शुरू में मैं एक्टिंग और नौकरी साफ साफ कर रहा धीरे-धीरे 1 साल निकल गया. फिर उसके बाद जब टाइगर जिंदा है में बड़ा ब्रेक मिला. 

सवाल- आपका ड्रीम रोल और ड्रीम डायरेक्टर्स कौन कौन से हैं ?
जवाब- अली सर के साथ तो मैं काम कर ही रहा हूं लेकिन अगर दूसरे डायरेक्टर्स की बात करूं तो मैं राजकुमार हीरानी का भक्त हूं. मुझे उनकी फिल्में उनके कैरक्टराइजेशन सब कुछ बहुत परफेक्ट लगता है. मैं उनके साथ काम करना चाहता हूं इसके अलावा मैं जोया अख्तर और शूजीत सरकार जी के साथ भी काम करना चाहता हूं. 

सवाल- लॉकडाउन के दौरान देखी गई कौन सी वेबसीरीज आपको बहुत पसंद आई और कौन सा एक्टर बहुत इम्प्रेशिव लगा ? 
जवाब- वैसे तो मैंने ज्यादा सीरीज देखी नहीं लेकिन हां, मुझे मिर्जापुर बहुत अच्छी लगी. मिर्जापुर में बहुत दम था. मिर्जापुर के सारे ही कैरेक्टर बहुत दमदार थे.

Recommended

Loading...
Share