PeepingMoon Exclusive: 'मैं कल्पेश पटेल के रोल में रणवीर शौरी के अलावा किसी दूसरे एक्टर को इमेजिन भी नहीं कर सकती हूं'- 'मेट्रो पार्क 2' फेम पूर्बी जोशी

By  
on  

'मेट्रो पार्क' का भारतीय देसी गुजराती परिवार, नाटक और कॉमेडी का सही मिश्रण है, जो दर्शकों को एक बार फिर रोमांचक आनंददायक सवारी पर ले जाने के लिए तैयार है. शो की कहानी न्यू जर्सी, अमेरिका में बसे एक देसी भारतीय गुजराती परिवार की कहानी है. डायरेक्टर अबी वर्गीज और अजयन वेणुगोपालन के इस शो की कहानी जितनी दमदार है उतनी शानदार है सीरीज की स्टार कास्ट. रणवीर शौरी, पूर्बी जोशी, ओमी वैद्य, वेगा तमोटिया, सरीता जोशी, मिलिंद सोमण समेत कई दमदार एक्टर इस सीरीज का हिस्सा है. वहीं शो की लीड एक्ट्रेस पूर्बी जोशी यानी पायल पटेल ने पीपिंगमून के साथ एक्सक्लूशिव बातचीत की. इस दौरान एक्ट्रेस ने लॉकडाउन के दौरान शूटिंग करने का अनुभव शेयर किया, साथ ही इस डर के माहौल में सेट पर कैसा माहौल रहता था ये भी बताया. वहीं पूर्बी ने अपने को-स्टार रणवीर शौरी की जमकर तारीफ भी की.

Recommended Read: PeepingMoon Exclusive: 'मैंने 2 महीने तक कई राउंड्स में 7 8 बार ऑडिशन दिया, तकरीबन 70 80 लोगों में मेरा सेलेक्शन हुआ: 'श्रीकांत बशीर' फेम युधिष्ठिर सिंह

सवाल- 'Metro Park' के सीजन 1 को बहुत पसंद किया गया था. फैंस को सीजन 2 का बेसब्ररी से इंतजार था. लॉकडाउन के दौरान भी शो का क्वारंटाइन एडिशन आया था. जिसको काफी पसंद किया गया था. वहीं अब आप फिर अपने शो के जरिए लोगों को इस टफ टाइम में हंसाने आ रहे है. क्या कहेंगे इस पर ?
जवाब- इस पर तो हम अपने आप को दाद देना चाहेंगे (हंसते हुए). हम बहुत लकी हैं कि हमें दर्शकों को हंसाने का मौका मिल रहा है. देखा जाएं तो आजकल ओटीटी पर डार्क कॉन्टेंट ज्यादा है. मैं यह नहीं कह रही हूं कि उन शोज को देखने में मजा नहीं आता. सच कहूं तो ओटीटी ने हमें बहुत सारा एंटरटेनमेंट दिया है. इतनी वैरायटी दी है आप पूरा दिन भी बैठोगे तो भी बोर नहीं होगे, लेकिन ज्यादातर सीरीज में वायलेंस बहुत ज्यादा है. अगर मैं याद करूं तो मुझे नहीं लगता बहुत टाइम से कोई लाइटहार्टेड और सिचुएशनल कॉमेडी टाइप सिटकॉम शो कोई आया हो.  बहुत पहले 'देख भाई देख', 'साराभाई वर्सेस साराभाई', 'यह जो है ज़िंदगी' जैसे टीवी शोज लोगों को बहुत हंसाते थे लेकिन उसके बाद इस तरह के आम जिंदगी से जुड़े हुए शोज बनने थोड़ा कम हो गए. तो उसी कड़ी में 'मेट्रो पार्क' ऐसा ही शो है जिससे लोग जुड़ेंगे. ऑडियंस के लिए यह बहुत अनोखा एक्सपीरियंस होगा. सबसे बड़ी बात यह एक फैमिली व्यूइंग शो है. पूरी फैमिली साथ बैठकर इस सीरीज का आनंद उठा सकती है. यह हमारे शो की यूएसपी है कि हमने एक शुद्ध कॉमेडी शो बनाया है. इससे हर कोई बहुत जल्दी कनेक्ट हो जाएगा. 
मैं यह बताते हुए बहुत खुश हूं कि हम साल की शुरुआत मेट्रोपार्क से कर रहे हैं. कोरोना की वजह से वैसे भी हर तरफ बहुत उदासी थी तो यह शो उस उदासी को थोड़ा दूर करने में थोड़ा मददगार साबित होगा. इस शो को देखकर लोग खुलकर हंसेगे और यह हम सबके लिए बहुत बड़ी बात है.

सवाल- इस शो में आपकी भाषा बहुत अलग है, गुजराती और अमेरिकन मिक्स, आसान था ऐसा बोलना या मुश्किल ?
जवाब-  मैं आपको यह बताना चाहूंगी कि जब सबसे पहले मैंने यह कांसेप्ट पड़ा था, यह कोई रेगुलर गुजराती स्टाइल में बोलने वाली फैमिली नहीं है. हम एक भारत की गुजराती फैमिली जो कि अमेरिका में रहती है उसको पोट्रेट कर रहे हैं. जिनकी बोली ना सिर्फ गुजराती है लेकिन यह फैमिली अमेरिका में रहती है तो उनका टोन अमेरिकन हो जाता है. तो यह बोली गुजराती प्लस अमेरिकन बन जाती है. लेकिन हमें खुश हूं कि लोगों ने इस भाषा को नोटिस और पसंद की क्योंकि मुझे पहले लगता था कि पता नहीं ये लैंग्वेज लोगों को पसंद आएगी या नहीं. लेकिन लोगों ने इसे बहुत पसंद किया इसके लिए में शुक्रगुजार हूं. 

सवाल- अभी तो चीजे धीरे धीरे काफी नॉर्मल हो गई है. लेकिन आपका ये शो लॉक्डाउन के दौरान शूट हुआ ता. तो आपको थोड़ा डर तो लगा होगा ?  
जवाब-  हां उस समय शूटिंग के दौरान बहुत डर लगा था. और उस समय में न्यूयॉर्क की तो हालत बहुत खराब थी. पहले दिन तो मुझे बहुत डर लगा था कि मास्क निकाल कर इस तरह शूट करना किसी से बात करना. सबसे ज्यादा खतरा एक्टर्स को ही था क्योंकि बाकी सब लोग तो मास्क में थे लेकिन हमें तो अपनी शूटिंग बिना मास्क के ही अपनी शूटिंग करनी थी. शुरू में बहुत मुश्किल लग रहा था कि हम कैसे कर पाएंगे. लेकिन मैं शूटिंग का श्रेय अपने प्रोड्यूसर giju john और इरोज को दूंगी. उन्होंने सेट पर सुरक्षा के पूरे इंतजाम किए और हमें बेफिक्र किया कि हम सेट पर सेफ महसूस कर सकें. सेट पर कोरोना चेक करने के लिए लोग रहते थे. सेट पर हर छोटी-छोटी बातों का ध्यान रखा जाता था. सेट पर डॉक्टर्स की भी सुविधा उपलब्ध थी. हमारे प्रोड्यूसर giju john हमें अलग-अलग घर जाने के बजाय कहीं और इंतजाम किए गए थे. हम रोज अपनी फैमिली मेंबर से नहीं मिल सकते थे. हम सेट पर जाते थे, परफॉर्म करते थे और जो घर में दिए गए थे वापस वहां जाते थे. प्रोडक्शन और टेक्निकल यूनिट साथ में रहती थी. हम शूटिंग के दौरान सिर्फ सेट के लोगों से मिलते थे, बाकी किसी से नहीं मिले थे. बहुत डिसिप्लिन में शूटिंग हुई थी. मैं यह बात कहना चाहूंगी कोरोना के दौरान जहां बड़े-बड़े हॉलीवुड के ज्यादातर प्रोजेक्ट्स की शूटिंग रुक चुकी थे, ऐसे में हमने बहुत डिसिप्लिन के साथ अपना शो पूरा किया. कोरोना मैं भी हमने बहुत सक्सेसफुली बिना किसी दिक्कत के अपना पूरा शो अच्छे से शूट किया था. सेट पर माहौल इतना अच्छा था कि हमने बहुत निश्चिंत मन से शूटिंग की.

सवाल- शो में आपके किरदार पायल पटेल के कैरेक्टर से लोगों को प्यार हो गया था. इस बार क्या खास देखने को मिलेगा आपके किरदार में ?
जवाब- सीजन वन में आप हमसे मिले, आपकी मुलाकात पटेल फैमिली से हुई. आपने हमारे कल्चर को जाना हमारे पड़ोसियों को जाना. सीजन टू में अब आप हमें और करीब से जानेंगे, आपको पता चलेगा कि हम किस दिशा में जा रहे हैं. सारे कैरेक्टर्स की एक नई साइट देखने को मिलेगी. जैसा कि हम सब में ही यह होता है कि जीवन के चक्र में हम सब एक दूसरे से आगे निकलने की दौड़ से मे लगे रहते हैं. तो सीरीज के कैरेक्टर भी इसी कोशिश में लगे हैं कि कौन किस से आगे निकल पाए. सीजन टू में पायल को यह महसूस होगा कि सोशल मीडिया बहुत जरूरी चीज है. और कल्पेश को भी यह लगता है मुझे भी थोड़ा चमकना चाहिए. तो सीजन वन के मुकाबले सीजन टू में आप हमारे किरदार को और अच्छे से जान पाएंगे और यह सीजन डेफिनेटली सीजन वन से बहुत मजेदार होने वाला है. इस बार इस सीरीज में कई नए एक्टर्स देखने को मिलेंगे जैसे सरिता जोशी , मिलिंद सोमन किरदार भी होंगे. आपको सीजन 2 देखने में बहुत मजा आने वाला है. 

सवाल- आज के दौर में कौन सा एक्टर है जो आपको सबसे ज्यादा प्रभावित करता है ?
जवाब-  इंडस्ट्री में बहुत टैलेंटेड एक्टर से, लेकिन जिनके साथ मैंने काम किया है उनमें रणवीर शौरी सबसे बेस्ट है. वह एक सक्षम एक्टर है. वह अपने हर किरदार से किसी को भी प्रभावित कर सकते हैं. वह किसी भी कैरेक्टर में जाते हैं तो उसमें रम जाते हैं. वे एक पंजाबी हैं और जिस तरह से उन्होंने गुजराती बोली है वो बहुत काबिले तारीफ है. मैं सीरीज में कल्पेश पटेल के कैरेक्टर को उनके अलावा किसी को इमेजिन भी नहीं कर सकती. वह बहुत छोटी-छोटी बातों का ध्यान रखते हैं जैसे शर्ट के बटन से लेकर कान के ऊपर बाल कैसे आएंगे, उनके साथ काम करने से मुझे बहुत कुछ सीखने को मिला. सेट पर उनके कई शॉट्स पर मेरे मुंह से वाह निकलता था. मैं उनको शॉट देते हुए काफी देखती थी और मन में सोचती थी की क्या कमाल के एक्टर है ये. 

Recommended

Loading...
Share