PeepingMoon Exclusive: डायरेक्टर हरीश व्यास ने अपने अपकमिंग प्रोजेक्ट्स 'हरिओम' और 'सिंह वर्सेस दुबे' पर की बात, वेब शोज बनाने की इच्छा की जाहिर

By  
on  

बॉलीवुड इंडस्ट्री में अपनी  प्रभाव छोड़ने वाली फिल्मों के लिए लोकप्रिय फिल्म डायरेक्टर हरीश व्यास अपनी फिल्मों में असल जीवन से जुड़ी चीजों को खूबसूरती से दिखाने के लिए खास तौर पर जाने जाते हैं. फिल्म लवर्स के बीच उन्होंने  'हम भी अकेले तुम भी अकेले' और 'अंग्रेजी में कहते हैं' के जरिये एक अलग जगह बनाई है. ऐसे में PeepingMoon को दिए अपने खास इंटरव्यू में हरीश व्यास ने अपनी आने वाली दो फिल्मों के साथ-साथ अपने ड्रीम प्रोजेक्ट के बारे में खुलकर बात की है.

अपने अगले प्रोजेक्ट के बारे में बात करते हुए हरीश कहते हैं, "दरअसल आप बड़े होते हुए जैसा सिनेमा देखते हैं, आप वही बनाते हैं. आप जिन्हें देखकर बड़े हुए होते हैं, आप वैसे ही फिल्में भी बनाते हैं. वैसे तो मैं ऋषिकेश मुखर्जी का बड़ा फैन रहा हूं और आप दिवाकर बनर्जी का. ऋषिकेश मुखर्जी ने जो फिल्में बनाई हैं और काफी हद तक हमारे आसपास के माहौल को दिखाती है. यहां तक कि मेरी 'अंग्रेजी में कहते हैं' भी आसपास के माहौल से उठाई गई एक फिल्म है. तो मैं अगली दो कहानियों में जो काम कर रहा हूं वह भी कुछ ऐसी ही हैं. पहली यह जो फिल्म है उसका नाम है 'हरिओम' जिसमें एक पिता और उसके बेटे की कहानी है. जो एक परिवार से भरी रिश्तो की कहानी है. अक्सर होता यह है कि जो बड़े होते हैं, उनके द्वारा की गई सभी चीज और फैसलों को सही माना जाता है, लेकिन कई बार ऐसा भी होता है कि बड़ो से भी गलतियां हो जाती हैं. तो उसके ऊपर बनाई जा रही यह एक अच्छी रिलेशनशिप की कहानी है. यह कहानी हमें उसको सुधार करने की राह दिखा दी है की गलतियों को स्वीकार कर लेना चाहिए."

(यह भी पढ़ें: PeepingMoon Exclusive: दिगांगना सूर्यवंशी ने वेब फिल्म 'Dark Path' पर की बात, कहा- 'जब पाथ ही डार्क होगा, तो किरदार भी डार्क होगा ही')

"दूसरी फिल्म है मेरी 'सिंह वर्सेस दुबे' इस पर बहुत ज्यादा काम चल रहा है. और यह कहानी जो है वह बेसिकली शादी के बाद जो प्रॉब्लम आती है उस पर है. जैसे डाइवोर्स एक बहुत बड़ा प्रॉब्लम है, आजकल ज्यादातर लोग ऐसा कर रहे हैं. तो इस तरह जैसे यह दो फिल्म्स है जिन पर मैं काम कर रहा हूं."

बॉलीवुड के कौन से फिल्म मेकर्स है जिनके साथ काम करने की इच्छा रखते हैं, "अगर मैं चाहूं बोलना तो डेफिनेटली बहुत सारे निर्माता है, जैसे कि बड़े बैनर की उनकी स्ट्रेटजी होती है कि फिल्म को इस तरह से प्रमोट किया जाए कि आपकी फ़िल्म ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंच सकती है. सबसे बड़े निर्माता की बात करें तो उनमें यहीं आते हैं करण जौहर जी और यश चोपड़ा जी, यह हैं लेकिन इनके अलावा अगर मैं किसी के बारे में कहूं तो वह है, राजकुमार हीरानी जी जिनकी फिल्म में कमर्शियल होने के साथ-साथ इमोशंस को भी दिखाती हैं, मतलब वह एक तरह से बीच में होती हैं. और मेरे ख्याल से वह है और मनीष कुंद्रा है जो कि बेहद बेहतरीन फिल्में बना रहे हैं. तो यह वो हैं जिनके साथ में काम करना चाहता हूं."

क्या आप फैंस के लिए म्यूजिक वीडियो लाने की कोई प्लानिंग कर रहे हैं, "म्यूजिक वीडियो किए मुझे काफी समय हो गया है. लेकिन अगर कुछ अच्छा निकलेगा काम तो मैं जरूर करना चाहूंगा. लेकिन दूसरी तरफ में वेब सीरीज करना चाहता हूं और उसके लिए मैं कोशिश भी कर रहा हूं. जैसे बहुत अच्छी चीजे हो रही है टीवी पर भी बहुत अच्छा काम हो रहा है. खासकर अनुष्का जी की जो है कंपनी वह बेहद बेहतरीन काम कर रही है, तो उनके साथ भी मैं चाहता हूं कि कुछ हो."

पंजाबी फिल्म्स के सवाल पर वह कहते हैं, "मैंने अब तक 2 पंजाबी गाने बनाये हैं. एक फिल्म जो है वह स्पोर्ट्स पर आधारित है. जिसमें एक स्कूल को बचाने की कोशिश की जाती है. वो बहुत ही खूबसूरत फ़िल्म है इसके अलावा आने वाली फ़िल्म है, जिसका नाम हमने देसी रखा है. इसके अलावा हमने नीरू बाजवा के साथ प्रॉपर पटोला बनाई थी और वो आउट एंड आउट कमर्शियल मूवी थी. आने वाले समय में दो प्रोजेक्ट हैं जिनमें पंजाबी में करना चाहता हूं. पहला मैं एक बायोपिक करना चाहता हूं और दूसरी मेरी ख्वाहिश है कि मैं एक पंजाब बेस्ड पीरियड फ़िल्म बनाऊ."

आगे वह कहते हैं, "थोड़ा हटकर पीरियड ड्रामा जो 40's के समय का हो. मुझे लगता है कि जितने भी लवर्स हैं, सभी पंजाब से आए हैं. मुझे लगता है कि पंजाब में जो हमारी फिल्में बनी हैं, वह बहुत ही कमर्शियल बनी हैं. लेकिन जो असल में हमारा कल्चर है वह कभी आ नहीं पाया है. वहां के आप देखे हो जैसे हीर रांझा, लैला मजनूं और शीरीं फरहाद यह सभी पंजाब से हैं. पंजाब को असल मे सूफी चीजो के लिए जाना जाता है, जैसा की फोक म्यूजिक. ऐसे में मैं चाहता हूं, फिल्मी ऐसी बने जिससे मैं पुराना जो फोक है उसे लेकर आ सकूं.

Recommended

Loading...
Share