Birthday Special: स्ट्रगलिंग डेज में एक कमरे में गुजारा करते थे सोनू सूद, नहीं थी करवट बदलने की जगह, ऐसे बने 'रील' से 'रियल' हीरो

By  
on  

कोरोना काल में अगर आपसे कहा जाए कि आखिर वो कौन है जिसको आप अपना रियल हीरो या फिर रोल मॉडल मानते हैं और जिसका किया काम आपको प्रेरणा से भर देता है तो वो निश्चित तौर पर सोन सूद होंगे. प्रवासी मजदूरों को घर पहुंचाने से लेकर, विदेशों में फंसे भारतीय छात्रों को उनके परिवार से मिलाने तक. मुश्किल में फंसे कलाकारों और नौकरीपेशा लोगों की मदद से लेकर अब जरूरतमंदों को नौकरी दिलाने तक का बीड़ा सोनू सूद ने उठा रखा है. कहते हैं इंसान अपने संघर्षों से सीखता है और वही उसे आगे की राह दिखाता है. सोनू सूद के साथ भी ऐसा ही हुआ. बॉलीवुड एक्टर सोनू सूद आज 30 जुलाई को अपना 47वां जन्मदिन सेलिब्रेट कर रहे है. वह पंजाब के मोंगा जिले से ताल्लुक रखते हैं. सोनू सूद न सिर्फ हिंदी बल्कि तेलुगू, कन्नड़ और तमिल फिल्मों में भी अभिनय करते हैं. साउथ से लेकर बॉलीवुड तक मशहूर हो चुके सोनू सूद इलेक्ट्रॉनिक्स में इंजीनियरिंग कर चुके हैं. वहीं कोरोना काल में प्रवासी मजदूरों के लिए मसीहा बनकर सामने आए सोनू सूद की अपनी लाइफ कम स्ट्रगल वाली नहीं रही हैं. 
सोनू नागपुर में जब इंजीनियरिंग की पढ़ाई करते थे तो मुश्किल वक्त था. जब वह ट्रेन में सफर करते तो ट्रेन के कंपार्टमेंट में टॉयलेट के पास जो छोटी सी खाली जगह होती है उसी पर सोकर घर आते थे क्योंकि उन्हें पिता की आर्थिक हालत का अंदाजा था. जब सोनू मुंबई में मॉडलिंग में स्ट्रगल कर रहे थे तो एक ऐसे कमरे में रहा करते थे जहां करवट बदलने तक की जगह नहीं थी.यही नहीं काफी दिनों बाद जब उनकी पहली फि‍ल्‍म रिलीज हुई तो घर आकर उन्होने बताया कि वो आज पहली बार ट्रेन की सीट पर बैठकर आए हैं.

Recommended Read: Birthday Special: संजय दत्त की लव लाइफ रही है कंट्रोवर्शियल, मान्यता दत्त संग शादी से पहले इनके साथ रहे हैं रिलेशन

बॉलीवुड में भी सोनू ने जो भी पाया अपनी मेहनत और अपने अच्छे व्यवहार की वजह से पाया. वो फिल्मों में साइड रोल करने से कभी पीछे नहीं हटे लेकिन चाहे दबंग का छेदी सिंह हो या जोधा अकबर में सूजामल की भूमिका, हर रोल में अपने किरदार से सोनू ने जबरदस्त छाप छोड़ी. लेकिन सोनू ने रील हीरो से जो रियल हीरो की अपनी छवि बनाई उसने उन्हें हरदिलअजीज बना दिया. चलिए बतातें हैं कि कोरोना महामारी के प्रकोप के बीच कैसे सोनू सूद बने आम आदमी के लिए मसीहा. 


1- हाल ही में सोनू सूद ने हैदराबाद की एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर शारदा की मदद करते हुए उसकी नौकरी लगवाई थी. इस लड़की की नौकरी कोरोना की वजह से चली गई और इस लड़की को मजबूरी में सब्‍जी बेचना शुरू करना पड़ा. लेकिन सोनू सूद ने मदद के हाथ आगे बढ़ाते हुए इस लकड़ी का इंटरव्‍यू लिया और जॉब का लेटर भी भेज दिया.

 

2- सोनू ने देश के बाहर फंसे 1500 मेडिकल छात्रों को उनके घर तक पहुंचाया. इसके लिए सोनू ने बाकायदा उनके लिए फ्लाइट बुक कराई. ये छात्र किर्गिस्तान में रहकर मेडिकल की पढ़ाई कर रहे हैं. पूर्वांचल समेत बिहार के रहने वाले ये छात्र लॉकडाउन से ही वहां फंसे हुए थे.

3- प्रवासी मजदूरों को घर तक पहुंचाने को बाद उनके काम धंधे की खोज के लिए सोनू ने अब जॉब हंट ऐप लॉन्च की है, जिसका नाम है 'प्रवासी रोजगार'. प्रवासी रोजगार के नाम से शुरू की गई ऐप प्रवासी श्रमिकों के लिए नौकरी खोजने, सभी आवश्यक जानकारी और लिंक प्रदान करेगी.
 

4- पुलिसकर्मियों के लिए बढ़ाया मदद का हाथ, 25 हजार फेस शील्ड किए डोनेट

5- उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने चार्टर्ड विमान द्वारा लॉकडाउन में फंसे प्रवासियों को वापस उनके घर भेजने के लिए सोनू सूद को धन्यवाद दिया और उन्हें कोरोना वायरस संकट खत्म होने के बाद पहाड़ी राज्य में आने के लिए आमंत्रित किया.
6- काफी जरूरतमंद एक्टर्स की मदद के लिए आए आगे.

7- हाल ही में सोनू सूद और उनकी टीम ने तटीय इलाकों के नजदीक रहने वाले चक्रवात ‘निसर्ग’ से प्रभावित 28,000 लोगों को रहने की जगह और खोने-पीने का सामान मुहैया कराया.
 

8- आंध्र प्रदेश के एक किसान की मदद करते हुए सोनू सूद ने ट्रैक्टर मुहैया कराया. जिस पर राज्य के पूर्व सीएम चंद्रबाबू नायडू अपने टि्वटर हैंडल से ट्रैक्टर के पास खड़े मजदूर के परिवार की तस्वीर भी शेयर की.
 

9-  सोनू सूद ने बॉलीवुड के बैकग्राउंड डांसर्स की मदद करते हुए 100 राशन किट्स दी थी. बैकग्राउंड डांसर नेहल कनोजिया ने सोशल मीडिया पर इसकी जानकारी दी थी. 

10- सोनू सूद ने महिलाओं के साथ घरेलू हिंसा को रोकने के लिए एनजीओ से मिलाया हाथ, 'VictoryOverViolence अभियान को करेंगे लॉन्च.
 

11- उन्‍होंने 177 लड़कियों को एयरलिफ्ट कराया था. जो केरल के एर्नाकुलम में फंसी थीं. ये लड़कियां एक लोकल फैक्‍ट्री में सिलाई और कढ़ाई का काम करती हैं. फैक्‍ट्री. कोरोना के चलते बंद हो गई, ऐसे में ये सभी मुश्‍किल में थीं. जब सोनू को एक दोस्‍त ने इस बारे में बताया तो वह तुरंत मदद को आगे आ गए थे. 
 

टीम पीपिंग मून की तरफ से सोनू सूद को उनके जन्मदिन की बहुत-बहुत शुभकामनाएं और हम उनके जन्मदिन पर यही कामना करते हैं कि सोनू ऐसे ही आगे बढ़ते रहें और अपने नेक कामो से लोगों का दिल जीत ते रहे. 

Recommended

Loading...
Share