ऋत्विक धनजानी, जूही परमार और राकेश बापट समेत ये टीवी स्टार्स गणेश चतुर्थी पर बनाते है ईको फ्रेंडली मूर्तियां 

By  
on  

22 अगस्त से देश भर 12 दिनों के गणेश उत्सव की शुरुआत हो गयी है. पूरे देश में बाप्पा के आगमन की ख़ुशी है. गणेश चतुर्थी एक ऐसा त्यौहार है जिसे धूमधाम से मनाया जाता है. कुछ टीवी स्टार्स बाजार से गणेश मूर्ति को लाने की जगह घर में अपने हाथों से ईको फ्रेंडली मूर्तियां बनाना पसंद करते हैं. हालांकि कोरोना की वजह से इस बार बाजारों की रौनक थोड़ी फीकी लगेगी लेकिन भक्तो के दिल में बाप्पा के लिए अपार प्रेम और भावना है. 

पर्यावरण की सुरक्षा को देखते हुए ईको फ्रेंडली मूर्तियां ज्यादा अच्छी मानी जाती है और धीरे धीरे लोग बढ़कर इस पहल में आगे आ रहे हैं. दरअसल, मिटटी से बनी गणेश मूर्तियां पर्यावरण को नुकसान नहीं पहुंचाती हैं और पानी में भी बहुत जल्दी घुल जाती है. ईको फ्रेंडली मूर्तियों को बनाने के लिए कच्चे और नेचुरल कलर्स का इस्तेमाल किया जाता. ऐसा करने से न तो प्रकृति कोई कोई हानि होती और न पानी ख़राब होता है. 

राकेश बापट 

राकेश हर साल अपने हाथों से मिटटी से गणेश मूर्ति की प्रतिमा बनाते हैं. राकेश ने अपने इंस्टाग्राम पर वीडियो भी शेयर किया है, जिसमें वह मूर्ति को सजाते नजर आ रहे हैं. ये मूर्ति ईको फ्रेंडली है. 

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

ॐ गम गणपतये नमः #ganpatibappamorya

A post shared by RaQeshBapat (@raqeshbapat) on

 

राकेश ने बाप्पा की मूर्ति के साथ फोटो शेयर करते हुए लिखा, 'आपके उपहार उस जगह पर हैं जहां आपके मूल्य, जुनून और ताकत मिलते हैं. उस जगह की खोज करना आपकी कृति, आपका जीवन - मूर्तिकला की दिशा में पहला कदम.   

ऋत्विक धनजानी कर रहे गणपति के स्वागत की तैयारी, बनायीं ईको फ्रेंडली मूर्ति 

 

ऋत्विक धनजानी 

'पवित्र रिश्ता' फेम ऋत्विक धनजानी भी गणेश चौर्थी के मौके पर अपने हाथों से भगवान की प्रतिमा बनाते हैं. ऋत्विक ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर भी मूर्ति बनाते हुए फोटो शेयर की है. तस्वीर शेयर करते हुए ऋत्विक ने लिखा, 'रास्ते में है.' 

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

On his way..

A post shared by rithvik D (@rithvik_d) on

 

जूही परमार 

जूही भी पिछले दो साल से अपने घर पर ईको फ्रेंडली मूर्ति बनाकर गणेश जी की स्थापना करती है. इस बार भी वह अपने हाथों से मूर्ति को आकार देते हुए दिखाई दे रही हैं. जूही ने अपने इंस्टाग्राम पेज पर कुछ फोटोज भी शेयर किये हैं जिनमें वो गणेश प्रतिमा बनाते हुए दिखाई दे रही हैं. 

तस्वीर को शेयर करते हुए जूही ने लिखा, 'गणपति जी हमारे और हमारे घर के लिए बहुत ही खास हैं. दो साल पहले हमने पहली बार गणपत्ति बप्पा का अपने घर में स्वागत किया था और उसी दिन मैंने अपनी मां की ब्लॉगिंग जर्नी शुरू की थी. इसके बाद पिछले साल मैंने यूट्यूब पर गणपति के दौरान ही अपनी व्लॉगिंग जर्नी शुरू की थी. उनकी दुआओं की वजह से ही मुझे आप सबका इतना अधिक प्यार मिला.'

उन्होंने आगे लिखा, 'इस साल हम सब अलग तरीके से गणपति मना रहे हैं. कोविड की वजह से इस साल महमान नहीं आएंगे और त्योहार का जश्न भी केवल हमारे घर के लोगों द्वारा ही मनाया जाएगा. हमने इस साल इको फ्रेंडली तरीके से गणपति मनाने का फैसला किया और इसलिए हमने घर पर ही गणपति बप्पा की प्रतिमा बनाई.'

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

Ganpati ji has been extremely special and lucky for me and our home. Two years ago, we for the first time welcomed Ganpati Bappa to our house, and on the same day I started my mother blogging journey. And then last year, I started my Vlogging Journey on Youtube during Ganpati, both of which with His blessings have given me so much love from all of you. This year Ganpati is going to be celebrated very differently as there will be no guests coming and the celebrations will be within the confines of our homes. And so we decided while we have been going ecofriendly every year, this year lets make our own Ganpati Idol at home. None of us are experts but the beauty is in the love and devotion. There was a magical feeling by the end of it when we saw our Ganpati ji and everything just felt right! (Video link in my bio) Ganpati Bappa Morya! . . . #JuhiParmar #Juhi #NewVideo #VideoAlert #GanpatiBappa #ganeshchaturthipreparations #PreparationsAtHome #StayAtHome #StaySafe #TakeCare

A post shared by Juhi Parmar (@juhiparmar) on

 

करण वाही 

काम में व्यस्त होने की वजह से करण इस बार  अपने घर पर गणपति नहीं बना पाए हैं. उन्होंने अपने काम पर ही गणेश प्रतिमा बनायीं, जिसकी फोटो शेयर करते हुए उन्होंने लिखा, 'अप्रत्याशित खुशियां, बस जब मैंने सोचा कि मुझे उन्हें बनाने का मौका नहीं मिलेगा. घर के लिए नहीं लेकिन काम पर. आखिरकार मुझे आशीर्वाद मिला.' 

किंशुक महाजन 

किंशुक हर साल अपने घर पर ईको फ्रेंडली गणेश मूर्ति लेट है लेकिन इस बार अलग तरीके से गणेश चतुर्थी का उत्सव मनाएंगे. कोरोना की वजह से लोग अपने घरों में रहने के लिए मजबूर है इसलिए वो अपने दोस्तों को इस बार डिजिटल दर्शन करवाएंगे. 

Recommended

Loading...
Share