Birthday Special: जावेद अली से लेकर जोनिता गांधी तक, इन टैलेंटेड सिंगर्स की लाइफ के गेम चेंजर बने सुरों के जादूगर एआर रहमान

By  
on  

देश से विदेशों तक में भारतीय संगीत का लोहा मनवा चुके ए. आर. रहमान 6 जनवरी को अपना 54वां बर्थडे सेलिब्रेट कर रहे है. रहमान का  जन्म 6 जनवरी 1966 को तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई में हुआ था. उनका पूरा नाम अल्लाह रक्खा रहमान है. रहमान का असली नाम दिलीप कुमार था. रहमान का संगीत सिर्फ दिल को सुकून नहीं देता, बल्कि उनकी आवाज सीधा दिल तक पहुंचती है. ए आर रहमान का नाम आते ही जहन में वह मधुर संगीत गूंजता है जिसकी वजह से ए आर रहमान को संगीत की दुनिया का बादशाह कहा जाता है. यहीं वजह है कि आज रहमान बॉलीवुड से लेकर हॉलीवुड में अपनी अलग पहचान बना चुके हैं. इतना ही नहीं रहमान को कई नेशन और इंटरनेशनल अवॉर्ड के साथ दुनिया का सबसे प्रसिद्ध ऑस्कर अवॉर्ड से भी नवाजा जा चुका है.

रहमान के पिता भी संगीतकार थे, और उन्हें संगीत विरासत में मिला है. उनके पिता आरके शेखर मलयाली फ़िल्मों में संगीत देते थे. आज सफलता के शिखर पर बैठे ए आर रहमान की बचपन की कहानी सुन किसी के भी आंखों में पानी आ जाए. रहमान जब मात्र 9 साल के थे तब ही उनके पिता का देहांत हो गया और उनके घर में आर्थिक तंगी आ गई. उन्होंने किसी तरह संगीत के वाद्य यंत्र किराए पे देकर गुजर-बसर किया. हालात इतने बिगड़ गए कि उनके परिवार को इस्लाम अपनाना पड़ा. 70 के दशक में रहमान ने इस्लाम धर्म ग्रहण किया.

Recommended Read: Birthday Special: 'बाजीगर' से लेकर 'चक दे इंडिया' तक, इन ब्लॉकबस्टर फिल्मों को बर्थडे बॉय सलमान खान ने किया 'रिजेक्ट'

रहमान ने संगीत की आरंभिक शिक्षा मास्टर धनराज से प्राप्त की थी. 1991 में पहली बार रहमान ने गाना रिकॉर्ड करना शुरू किया था. हिन्दी फिल्मों के लिए उन्होंने 1992 में पहली बार फिल्म रोजा के लिए संगीत दिया था. अपनी पहली हिन्दी फिल्म “रोजा” के गीतों से ही रहमान ने ऐसा जादू बिखेरा जो आज भी कायम है.  ए आर रहमान उन सिंगर्स में से हैं जिन्होंने हमेशा नए टैलेंट्स को मौका दिया. वैसे तो इंडस्ट्री में जगह बनाने के लिए हर किसी के संघर्ष की अपनी कहानी है, लेकिन अगर एक रोशनी की किरण दिखाने वाला कोई हो तो राह आसान हो जाती है. आज हम रहमान के जन्मदिन पर उन चुनिंदा टैलेंटेड सिंगल्स के बारे में बताएंगे जिनकी जिंदगी रहमान ने पूरी तरह बदल दी. रहमान खुद भी आगे बढ़े और हमेशा उन्होंने सुरों को समझने वाले फनकारों को आगे बढ़ाया.

'तुम तक तुक तक' फेम जावेद अली


'मशक्कली' फेम मोहित चौहान 


बदतमीज दिल फेम बेनी दयाल


रूबरू फेम नरेश अय्यर 


दिल दिया गल्ला फेम जोनिता गांधी


तितती फेम चिन्मयी श्रीपदा


हम्मा हम्मा फेम शाशा तिरुपति 


शकालाका बेबी फेम वसुंधरा दास 


मिट्टी बोलियां फेम मिली नय्यर 


पटाखा गुड्डी फेम दनूरां सिस्टर्स 

Recommended

Loading...
Share