Mother's Day Special: याद हैं आपको फिल्मों में ममता, प्यार और त्याग की मूरत के रूप में पहचान बनाने वाली नूतन से लेकर निरूपा रॉय तक, यह गुमान हो चुकीं एक्ट्रेसेस

By  
on  

मां का कोई दिन नहीं होता, लेकिन मां के प्यार और त्याग का जश्न मनाने के लिए दुनिया भर में मदर्स डे के रूप में इस खूबसूरत रिश्ते को सेलिब्रेट किया जाता है. इस खास दिन पर चलिए हम आपको बॉलीवुड की उन मांओं से मिलवाते हैं, जिन्हे एक ज़माने में ममता की मूरत के रूप में देखा जाता था. आज जब चीजें और साथ में हमारी पीढ़ी बदल चुकी है, तो उन मांओं की एक झलक देखते हैं, जिन्हे सभी भूल चुके हैं.

1. अचला सचदेव

(यह भी पढ़ें: Mother's Day Exclusive: बचपन में होस्टल भेजने पर 5 साल तक उर्वशी ढोलकिया से नाराज थे दोनों जुड़वां बच्चें सागर और क्षितिज, अब है दोस्त जैसा रिश्ता)

इस मदर्स डे स्पेशल में अगर हिट सॉन्ग "ऐ मेरी ज़ोहरा जबीन" में नजर आ चुकी एक्ट्रेस अचला सचदेव की बात ना की जाए, यह हो नहीं सकता. यह गाना फिल्म 'वक्त' का है, जिसमे उन्होंने मां की भूमिका निभाई थी. इसके अलावा उन्हें 'आरज़ू' और 'कभी ख़ुशी कभी गम' जैसी हिट फिल्मों के लिए भी जाना जाता है. इतना ही नहीं उन्होंने 'दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे' में काजोल की दादी का किरदार निभाया था.

2. निरूपा रॉय

बॉलीवुड की बेस्ट ऑन स्क्रीन मॉम का अवॉर्ड अगर किसी को देना होता, तो निरूपा रॉय इसके लिए पहली पसंद होंगी. 70 और 80 के दशक की ज्यादातर फिल्मों में मां के किरदार के लिए, वह मेकर्स की पहली पसंद थीं. उन्होंने लगभग एक दशक तक सिल्वर स्क्रेन पर अमिताभ बच्चन की मां की भूमिका निभाई थी. उन्हें 'द क्वीन ऑफ मिसरी' का टैग बड़े पर्दे पर मां की भूमिका निभाने के लिए दिया गया था. वह मां, मर्द, दीवार, दो बीघा जमीन, अमर अखबर एंथनी, सुहाग, गुमराह, मुकद्दर का सिकंदर जैसी सुपरहिट फिल्में की हैं.

3. लीला मिश्रा

 मदर्स डे स्पेशल में हमने बॉलीवुड की मौसीजी यानी लीला मिश्रा का नाम भी जोड़ा है. भले ही उन्होंने कई फिल्मों में मौसी की भूमिका निभाई थी, लेकिन इसके बावजूद उन्हें मां के  किरदार में भी खूब पसंद किया गया है. उन्हें खामोशी, चित्रलेखा, घूँघट, बहार, आवारा, दाग, शिकस्त जैसी 150 से अधिक फिल्मों में काम किया है, लेकिन उनका सबसे लोकप्रिय किरदार शोले में मौसीजी का है.

4. सुलोचना लाटकर

1932 में फिल्म माधुरी से एक चाइल्ड आर्टिस्ट के रूप में अपने करियर की शुरुआत करने वाली सुलोचना लाटकर ने 250 से अधिक हिंदी फिल्मों में काम किया है.उनके द्वारा निभाए गयी मां की भूमिकाओं को दर्शकों द्वारा खूब पसंद किया गया है. राजेश खन्ना के साथ उन्होंने कई हिट फिल्मों में काम किया था. उन्हें मेरे जीवन साथी, कटी पतंग, प्रवेश और त्याग जैसी कई अन्य फिल्मों में अपनी भूमिका के लिए पॉपुलैरिटी पाई थी. 70 के दशक में फ़िल्म मेकर्स के लिए निरूपा रॉय के बाद सुलोचना लाटकर ही मां की भूमिका के लिए पहली पसंद थीं.

5. नूतन

इसमें कोई शक नहीं है कि नूतन बॉलीवुड के इतिहास में सबसे बड़े नामों में से एक हैं और उन्होंने मदर्स डे स्पेशल फीचर में अपना स्थान अर्जित किया है. उन्होंने एक लीड एक्ट्रेस के रूप में अपने करियर की शुरुआत की थी. अपनी खूबसूरती और एक्टिंग स्किल के लिए पांच फिल्मफेयर अवॉर्ड्स अपने नाम कर चुकीं एक्ट्रेस ने बीतते समय के साथ कई फिल्मों में मां की भी भूमिका निभाई थी. यहां तक की उनके करियर की कुछ सबसे बड़ी हिट फिल्में मेरी जंग और कर्मा थी, जिसमें उन्होंने एक मां की भूमिका निभाई थी.

6. दीना पाठक

ऋषिकेश मुखर्जी की ख़ूबसूरत फिल्म आपको याद ही होगी, जिसमे दीना पाठक ने एक सख्त स्वाभाव की मां की भूमिका निभाई थी. दीना हिंदी और गुजराती सिनेमा में सबसे कुशल एक्ट्रेसेस में से एक थीं. खुबसूरत के अलावा, उन्हें गोलमाल, कोशिश, उमराव जान, मिर्च मसाला, और मोहन जोशी हाज़िर हो में अपनी एक्टिंग से जान फूंका था.

7. रीमा लागू

रीमा लागू को हिंदी सिनेमा से लेकर मराठी सिनेमा तक, अपनी कमाल की एक्टिंग टैलेंट के लिए आज भी याद किया जाता है. उन्होंने 90 के दशक में लगभग सभी राजश्री फिल्मों में खुद को मां की भूमिका में स्थापित कर लिया था. चाहे वह मैने प्यार किया या हम आपके हैं कौन जैसी हिट फिल्म हो, उन्होंने सभी में बड़ी खूबसूरती से अपनी भूमिका को निभाया था. लेकिन, उन्होंने हम साथ साथ हैं में एक मां के निगेटिव रोल को निभाया था.

Recommended

Loading...
Share