20 Years Of Gadar: बूटा सिंह की रियल लव स्टोरी पर आधरित सनी देओल और अमीषा पटेल की फिल्म से जुड़े पढ़ें 'Unknown Facts'

By  
on  

बॉलीवुड स्टार सनी देओल और अमीषा पटेल स्टारर 'गदर : एक प्रेम कथा' को रिलीज हुए 20 साल आज पुरे हो चुके हैं. अनिल शर्मा द्वारा डायरेक्ट की गयी इस फिल्म ने साल 2001 में कई रिकॉर्ड अपने नाम किये थे. फिल्म एक लव स्टोरी पर आधारित है, जिसे 1947 में भारत के विभाजन के दौरान सेट किया गया है. ऐसे में चलिए हम आपको बूटा सिंह के असल जीवन से प्रेरित फिल्म से जुड़ी कुछ खास बातें बताते हैं, जो आप नहीं जानते होंगे.

कहानी काफी हद तक बूटा सिंह के वास्तविक जीवन की कहानी पर आधारित है.

(यह भी पढ़ें: जानिए कैसा है हेमा मालिनी का धर्मेंद्र के बेटों सनी देओल और बॉबी देओल के साथ रिश्ता, वायरल हुआ वीडियो)

बूटा सिंह ब्रिटिश सेना के एक सिख पूर्व सैनिक थे, जो 1947 में भारत के विभाजन के समय सांप्रदायिक दंगों के दौरान बचाई गई एक मुस्लिम लड़की ज़ैनब के साथ अपनी दुखद प्रेम कहानी के लिए जाने जाते हैं.

गदर एक प्रेम खाता 2001 में रिलीज हुई, जो आमिर खान और ग्रेसी सिंह की लगान के साथ सिल्वर स्क्रीन पर टकराई थी.

यह एक विश्व रिकॉर्ड है कि दुनिया में किसी भी अन्य फिल्म की तुलना में गदर के 10 करोड़ टिकट बेचे गए थे.

हम आपके हैं कौन और बाहुबली 2 के बाद गदर सबसे ज्यादा देखी गयी तीसरी फिल्म का रिकॉर्ड अपने नाम कर चुकी है.

गदर ने अपनी शुरुआती थिएट्रिकल दौड़ में 140 करोड़ की कमाई की थी और 2017 की टिकट बिक्री के अनुसार इसकी कुल कमाई 500 करोड़ है.

अमीषा पटेल नहीं बल्कि काजोल थीं फिल्म के लिए पहली पसंद. हालांकि, एक्ट्रेस ने फिल्म को डेट इशू के कारण नहीं किया.

सनी देओल की भूमिका के लिया डायरेक्टर अनिल शर्मा की पहली पसंद थे एक्टर गोविंदा. हालांकि, महाराजा (1998) के फ्लॉप होने के बाद उन्होंने अपना मन बदल दिया था.

ऑडिशन के दौरान 500 लड़कियों में से चुनी गयी थीं अमीषा पटेल. 

डायरेक्टर अनिल शर्मा के बेटे उत्कर्ष शर्मा ने फिल्म में निभाई थी सनी और अमीषा के छोटे बेटे जीते का किरदार.

Recommended

Loading...
Share