काजोल, तन्वी आजमी, मिथिला पालकर स्टारर 'त्रिभंगा' का ट्रेलर रिलीज, जेनरेशन गैप के बीच की मतभेद को है दिखाया

By  
on  

यह ओडीसी डांस एक असंगत मुद्रा होते हुए भी, रेणुका शहाणे की अपकमिंग फिल्म की 3 महिलाओं की जिंदगी मैं बहुत अहम है.आज नेटफ्लिक्स की फिल्म और काजोल, तन्वी आजमी, मिथिला पालकर स्टारर 'त्रिभंगा' का ट्रेलर रिलीज हो गया है. इन तीनों के जीवन जीने के अलग तरीके हैं. यह फिल्म 15 जनवरी को नेटफ्लिक्स पर रिलीज हो रही है

फिल्म को अजय देवगन ने प्रोड्यूस किया है. फ़िल्म की कहानी रेणुका शहाणे ने लिखी है और उन्होंने ही फिल्म को डायरेक्ट किया है. फिल्म के ट्रेलर में दिखाया नयन नाम की एक महिला जो कि परिवार की मुखिया भी है, की कहानी को दिखाया गया है. वह एक जानी-मानी मराठी साहित्यकार है, और इस किरदार को तनवी आज़मी ने निभाया है. उसकी बेटी अनु एक फेमस क्लासिकल डांसर और एक्टर है. इस किरदार को काजोल ने निभाया है. वही नयन की पोती का किरदार निभाया है मिथिला ने. इंसान की हार और जीत की एक जटिल कहानी 15 जनवरी को नेटफ्लिक्स पर रिलीज हो रही है. इस फिल्म में कुणाल रॉय कपूर, कंवर जीत सिंह, मानव गोहिल, वैभव ततबाबाड़ी जैसे बेहतरीन कलाकार भी नजर आएंगे. 
Recommended Read: काजोल, तनवी आजमी और मिथिला पालकर स्टारर 'त्रिभंगा' का टीजर रिलीज, इस दिन नेटफ्लिक्स पर होगी रिलीज

त्रिभंगा को लेकर रेणुका शहाणे ने कहा कि, ' त्रिभंगा ओडीसी डांस की एक मुद्रा है, जिसमें तालमेल ना होने के बावजूद यह खूबसूरत दिखता है. इस फिल्म में भी इस शब्द का इस्तेमाल इसी के लिए किया गया है कि तीन अलग-अलग के बीच तालमेल ना होते हुए भी यह एक खूबसूरत रिश्ते में बंधे हुए हैं. उन महिलाओं की अपनी-अपनी धूम और सनक है. इसके बावजूद वह आकर्षक, खूबसूरत और जोश से भरी हुई है. मुझे लगता है कि ऐसी महिलाओं को जीवन अलग तरीके से जीना पसंद है. इस फिल्म को बनाने का विचार एक ऐसे इंसान से मिलने का एक अनुभव है जिसके अपनी मां से कड़वे रिश्ते थे. यह मेरी मां से मेरे रिश्ते के अनुभव से काफी अलग था. मैंने तीन अलग पीढ़ियों को दिखाया है जिससे अलग-अलग नजरिए को बेहतरीन ढंग से दिखाया जा सके. मुझे इस बात की बहुत खुशी है कि फिल्म नेटफ्लिक्स पर रिलीज हो रही है और इसमें एक से एक बढ़कर कलाकार मौजूद है.'

वहीं फिल्म में अपने किरदार अनुराधा आप्टे को लेकर काजोल कहती हैं कि, ' अपने नाम की तरह ही यह फिल्म सभी महिलाओं और उनकी खूबसूरत विषमाताओं की बात करता है. हमें उन कमियों को स्वीकार करने और जिंदगी को अपनी शर्तों पर जीने की जरूरत है जैसे कि नयन अनु और माशा ने इस फिल्म में किया है. फिल्म में मेरा किरदार मुखर और अपने विचारों को रखने वाला है. यह किरदार काफी अलग है. एक मां होने के नाते में इस किरदार को अच्छे से समझ सकती हूं, मैं यह समझ सकती थी महिलाओं को रोज किन-किन परेशानियों का सामना करना पड़ता है. जैसे कि कई छोटी-छोटी काम करते हैं वह हमारे बच्चों को बहुत प्रभावित करती है. मातृत्व भावनाओं का भंडार है, जिसे रेणुका ने काफी अच्छी तरीके से दर्शाया है. मुझे बेसब्री से दर्शकों को यह फिल्म देखने और उनके लिए प्रतिक्रियाएं का इंतजार है मुझे उम्मीद है कि यह फिल्म हर उम्र के लोगों को पसंद आएगी.'

Recommended

Loading...
Share