'इंडियन आइडल' जैसे सिंगिंग रियलिटी शोज के फॉर्मेट पर बोले कुमार सानू , कहा- 'जितना गॉसिप होगा, उतना टीआरपी बढ़ेगा'

By  
on  

इन दिनों सिंगिंग रियलिटी शो 'इंडियन आइडल 12' लगातार विवादों में है. कभी कंटेस्टेंट्स, कभी जज तो कभी गेस्ट, शो लगातार किसी न किसी वजह से सुर्खियों में है. वही  रियलिटी शोज में बढ़ रहे मेलोड्रामा को लेकर  पहले अभिजीत सावंत और अभिजीत भट्टाचार्य जैसे सिंगर्स इस रियलिटी शो के प्रति अपनी नाराजगी जाहिर कर चुके हैं. वहीं अब सिंगर कुमार सानू  ने भी 'इंडियन आइडल' समेत अन्य रियलिटी शोज को लेकर चौंकाने वाला स्टेटमेंट दे दिया है.

कुछ दिनों पहले 'इंडियन आइडल 12' में बतौर गेस्ट जज पहुंचे कुमार सानू ने हाल ही एक लीडिंग वेबसाइट से बातचीत की. इस दौरान जब कुमार सानू से जब पूछा गया कि क्या उन्हें लगता है कि इंडियन आइडल जैसे रियलिटी शोज टैलंट को बढ़ावा देते हैं और उन्हें नर्चर करते हैं? तो उन्होंने कहा, 'जितना गॉसिप होगा, उतना टीआरपी बढ़ेगा, समझा करो. बड़ी बात नहीं है.'

PeepingMoon Exclusive: कुमार सानू ने नए प्रोजेक्ट पर कहा- 'इसका म्यूजिक आपको दिलाएगा 90's की याद'
 

कुमार सानू ने आगे कहा, 'टैलंट अपना रास्ता ढूंढ ही लेता है और ये शोज टैलंट को सामने लेकर आते हैं, पर आगे क्या? सिर्फ 'इंडियन आइडल' ही नहीं, ऐसा हर रियलिटी शो टैलंट को पब्लिक प्लैटफॉर्म पर लेकर आता है. हो सकता है कि उन्हें इंडस्ट्री में मौका न मिले. हो सकता है कि उन्हें कुछ काम और पैसा पाने का मौका मिल सकता है. यह प्रड्यूसर्स और म्यूजिक डायरेक्ट्स की जिम्मेदारी है कि उन्हें काम दें. कई सिंगर्स हैं जो बेहद टैलंटेड हैं, लेकिन किसी को उन्हें काम देने की जरूरत है. ये रियलिटी शोज टैलंट को लाइमलाइट में ले आते हैं, लेकिन इंडस्ट्री के लोगों को इन्हें काम देने की जरूरत है.'
बता दें,इससे पहले इंडियन आइडल 1 के विनर अभिजीत सावंत ने रियलिटी शो मेकर्स पर भड़कते हुए कहा था कि ये लोग टैलंट से ज्यादा गरीबी और लव एंगल दिखाने में दिलचस्पी रखते हैं और सिंगिंग पर फोकस नहीं रखते. इसके बाद अभिजीत भट्टाचार्य ने तो 'इंडियन आइडल 12' के जजों (नेहा कक्कड़, हिमेश रेशमिया, विशाल ददलानी) पर गुस्सा ने निकालते हुए उन्हें 'कम अनुभवी' और 'सेल्फ सेंटर्ड' तक बोल दिया था. उन्होंने मेकर्स पर भी गुस्सा निकाला था और कहा कि जिन लोगों ने इंडस्ट्री में 4 गाने गाए हैं और म्यूजिक में कोई योगदान नहीं दिया, उन्हें जज की कुर्सी पर बिठा दिया गया है.
(Source: Hindustan Times)

Recommended

Loading...
Share