Happy Birthday Mummy Ji Review: रिश्तो के कैद से खुद की आजादी के कुछ पल की छोटी सी कहानी है यह शॉर्ट फिल्म, शेफाली शाह की एक्टिंग और डायरेक्शन ने किया है इम्प्रेस

By  
on  

फिल्म: हैप्पी बर्थडे मम्मी जी 
कास्ट: शैफाली शाह 
डायरेक्टर: शैफाली शाह
OTT: यूट्यूब
रेटिंग्स: 3.5 मून्स

'हैप्पी बर्थडे मम्मी जी' शॉर्ट फिल्म की शुरुआत मम्मी (सांस) के बर्थडे की तैयारी से होती है. ऐसे में सूची (शैफाली शाह) जो अकेले सब मैनेज कर रही होती हैं, उन्हें पता चलता है कि कर्फ्यू के कारण कोई भी कहीं आ जा नहीं सकता और इस वजह से उन्हें अपनी मम्मी जी यानी सासुमां के 75वें बर्थडे सेलिब्रेशन को कैंसिल करना पड़ेगा. हालांकि, वह फ़ोन पर परिवार के अन्य सदस्यों से बात कर उन्हें मुंबई में घर पर जाकर बर्थडे सेलिब्रेट करने के लिए कहती हैं. कहानी कुछ मिनट बाद एक अलग मोड़ लेती है. जब एक सीधी सादी बहूं से सूची एक आज़ाद महिला में बदलती नजर आती है, जो अकेले बिताये जाने वाले अपने हर पल को खुलकर जीती है. 

शॉर्ट फिल्म को देख ऐसा लगता है कि जैसे रिश्तों में बंधी हुई हर औरत खुद को कैद में होने का एहसास महसूस करती है. फिल्म की कहानी भले ही 14 मिनट की है, लेकिन इससे मिलने वाला सन्देश हमें सोचने पर मजबूर कर देता है कि हम हमारी जिंदगी में मौजूद महिलाओं को क्या उनके मुताबिक जीने का मौका दे रहे हैं.

शेफाली शाह द्वारा लिखी और डायरेक्ट की गयी इस शॉर्ट फिल्म की कहानी बेहद खूबसूरत है. वहीं, डायरेक्शन की बात करें तो शेफाली ने इसमें अपने टैलेंट का दम दिखाया है. एक्टिंग की बात करें तो, एक बहू और फिर एक आज़ाद महिला के किरदार में उन्होंने बेहद खूबसूरती से जान फूंका है.

PeepingMoon.com हैप्पी बर्थडे मम्मी जी को 3.5 मूंस देता है.

Recommended

Loading...
Share