Hungama 2 Review: परेश रावल, शिल्पा शेट्टी और मीजान जैसे स्टार्स भी नहीं बचा पाए हैं इस कॉमेडी फिल्म की डूबती नैया

By  
on  

फिल्म: हंगामा 2
कास्ट: परेश रावल, शिल्पा शेट्टी, मिजान, प्रणिता सुभाष, राजपाल यादव, आशुतोष राणा, जॉनी लीवर, मनोज जोशी, टीकू तलसानिया
निर्देशक: प्रियदर्शन
ओटीटी: डिज्नी + हॉटस्टार
अवधि: 2 घंटे 35 मिनट
रेटिंग: 2 मून्स

जाने-माने फिल्ममेकर प्रियदर्शन ने साल 2003 में अपनी कॉमेडी फिल्म 'हंगामा' को डायरेक्ट किया था. फिल्म में अक्षय खन्ना, आफताब शिवदासानी और रिमी सेन के अलावा परेश रावल जैसे स्टार्स मुख्य भूमिकाओं में थे. फिल्म की कमाल की स्टोरी लाइन और कॉमेडी टाइमिंग की वजह से इसे दर्शकों द्वारा खूब पसंद किया गया था. ऐसे में अब प्रियदर्शन कुल 18 साल बाद हंगामा के सीक्वेल के साथ बॉलीवुड में अपनी वापसी कर रहे हैं. हंगामा 2 में मीजान जाफरी, शिल्पा शेट्टी, प्रणीता सुभाष और परेश रावल लीड रोल में हैं. महामारी के कारण फिल्म को थिएटर के बजाय ओटीटी प्लेटफॉर्म डिजनी + हॉटस्टार पर आज रिलीज़ कर दिया गया है.

हंगामा 2 की कहानी मिस्टर कपूर ( आशुतोष राणा) के परिवार के इर्द-गिर्द घूमती है. मिस्टर कपूर ने जेल में कुछ समय बिताएं रहते हैं जिसकी वजह से वह हर चीज में अनुशासन चाहते हैं. उनका एक बड़ा बेटा अमान उसकी बीवी स्वाति और चार बच्चे होते हैं. जबकि छोटा बेटा आकाश (मीजान) की शादी मिस्टर कपूर के दोस्त मिस्टर बजाज की बेटी से होने वाली होती है. हालांकि कहानी में ट्विस्ट तब आता है जब, आकाश की कॉलेज के दौरान की गर्लफ्रैंड वाणी (प्रणिता सुभाष) से मुलाकात होती है. लेकिन इस बार वह अकेले नहीं आई होती है बल्कि एक बच्ची साथ में लेकर आई होती है जिसको वह आकाश का बताती है.

(14 Phere Review: विक्रांत मैसी, कृति खरबंदा और गौहर खान ने सदियों पुराने सामाजिक मुद्दे को उठाया, इम्प्रेसिव और अनोखे तरीके से दिया ट्वीस्ट)

अपनी बच्ची को लेकर वाणी, आकाश के घर ऊटी पहुंच जाती है, जहां वह दावा करती है कि आकाश ने उसे उस समय छोड़ दिया था, जब उसे उसकी सबसे ज्यादा जरूरत थी. वाणी की बातें सुनकर मिस्टर खन्ना को उस पर भरोसा हो जाता है. जबकि दूसरी तरफ आकाश वाणी को गलत साबित करने की कोशिश में लग जाता है. जिंदगी में हो रही है उथल-पुथल  के बारे में आकाश अपनी सेक्रेटरी और फैमिली फ्रेंड अंजली ( शिल्पा शेट्टी) से बात करता है. अंजली जो कि बेहद ही आकर्षक महिला होती है, उसने एक पेशे से वकील और हॉबी से जासूस राधेश्याम (परेश रावल_ से शादी की होती है. वह अपनी पत्नी अंजलि पर शक करता रहता है, वह जो भी करती है उसे वह शक की निगाह से देखता रहता है. हालांकि अंजलि के लिए आकाश उसके भाई के जैसा और उसके पिता मिस्टर कपूर एक फादर फिगर होते हैं.

एक दिन राधेश्याम अपने शक के वजह से अंजलि और आकाश का पीछा करते-करते एक कॉफी शॉप पर पहुंच जाता है. वहां, दोनों वाणी और बच्चे के बारे में बात करते रहते हैं, लेकिन राधेश्याम को लगता है कि दोनों का रिश्ता बहुत आगे बढ़ चुका है और वह एक बच्चे के माता-पिता भी बन चुके हैं. कहानी में इस तरह से हंगामे की शुरुआत होती है. ऐसे में अब सवाल यह उठता है कि क्या वाणी आकाश को फंसा रही है? क्या राधेश्याम अंजली पर शक करना बंद करेगा ? तो आपको इन सभी सवालों के जवाब सिर्फ 'हंगामा 2' देखने पर मिलने वाला है. हालांकि, फिल्म आपको उम्मीद के हिसाब से कम हंसाने वाली है. यह कहना गलत नहीं होगा कि 3 साल बाद हिंदी फिल्म बना रहे प्रियदर्शन पहले की तरह अपना जादू चलाने में नाकाम रहे हैं. हेरा फेरी, भूल भुलैया 2 जैसे उनके क्लासिक्स फिल्मो से उलट, हंगामा 2 आपको शायद ही मजेदार लगेगी. फिल्म के किरदार से लेकर उसकी कहानी तक ऑउटडेटेड लग रहे हैं.

परफॉरमेंस की बात करें तो, शिल्पा को इससे बेहतर कमबैक की जरूरत थी. एक्ट्रेस को लम्बे समय बाद फिल्मों में देखने की ख्वाहिश रखने वाले फैंस के लिए यह देख थोड़ी निराशा होगी कि एक्ट्रेस के पास फिल्म में करने के लिए ज्यादा कुछ नहीं है. परेश रावल जिन्हे उनकी कमाल की कॉमिक टाइम के लिए जाना जाता है, उन्हें फिल्म में हम ओवरएक्ट करते हुए देख सकते हैं. हालांकि, उन्होंने फिल्म की डूबती नैया का भर अपने कन्धों पर उठाया है. दूसरी तरफ कमजोर स्क्रिप्ट के बावजूद आशुतोष ने अपना बेस्ट देने की कोशिश की है.

अनुभवी कॉमेडियन दिवंगत जगदीप के पोते मीजान को हम लीड रोल के साथ न्याय करने में असफल होते हुए देख सकते हैं. उन्होंने भले ही अपना बेस्ट देने की कोशिश की है, लेकिन वह चाह कर भी फिल्म के कॉमेडी और इमोशनल सीन्स के साथ खुद को कनेक्ट नहीं कर पाएं है. बात करें प्रणिता पर्दे पर बहुत अच्छी लगती हैं. लेकिन, यह कहना गलत नहीं होगा कि वह एक प्रमुख भूमिका के लिए मिसफिट हैं.  

जॉनी, राजपाल और टीकू जैसे टैलेंटेड कॉमेडियनों को फिल्म में बेहद कमजोर किरदार दिए गए हैं. वहीं, अक्षय खन्ना का कैमियो आश्चर्यजनक रूप से दिलचस्प है लेकिन उसे एन्जॉय करने के लिए बहुत कम समय दिया गया है.

हंगामा 2 की कहानी एक डूबती नैया की तरह है. 2 घंटे 35 मिनट की इस फिल्म को देखना आपके लिए बेहद मुश्किल काम की तरह लगेगा. फिल्म की कहानी एक समय के बाद आपको परेशान करने लगेगी. हालांकि, परेश और आशुतोष ने फिल्म को किसी-किसी मोड़ पर संभाला है. परेश, शिल्पा, आशुतोष, जॉनी और राजपाल जैसे एक्टर्स के होने के बावजूद यह फिल्म आपको हंसा नहीं पाएगी. हालांकि, इस वीकेंड अगर आप इसे देखने की प्लानिंग कर रहे हैं, तो आप अपने पसंदीदा एक्टर को देखने के लिए यह फैसला कर सकते हैं.

PeepingMoon.com हंगामा 2 को 2 मूंस देता है.

 

Recommended

Loading...
Share