Birthday Special: रोमांटिक, इंटेंस हो या बुजुर्ग का किरदार, तापसी पन्नू ने इन 5 पांच फिल्मों में दिखाई अपनी दमदार अदाकारी

By  
on  

बॉलीवुड में अपनी एक अलग पहचान बना चुकीं एक्ट्रेस तापसी पन्नू 1 अगस्त को अपना 33वां जन्मदिन सेलिब्रेट कर रहीं हैं. तापसी का जन्म 1 अगस्त 1987 को दिल्ली में एक सिख परिवार में हुआ था. उनके पिता दिलमोहन सिंह एक बिजनेसमैन हैं, जबकि मां निर्मलजीत पन्नू एक हाउसवाइफ हैं. तापसी कॉलेज दिनों में पॉकेट मनी अर्न करने के लिए मॉडलिंग करती थी. पढ़ाई के दौरान कैट के एग्जाम में मैंने 88% मार्क्स से क्वालिफाई किया. एमबीए करने की सोच ही रही थी कि फिल्म का ऑफर मिल गया. तापसी बॉलीवुड की उन चंद एक्ट्रेसेस में से एक हैं जिन्होंने एक आउटसाइडर होकर इंडस्ट्री में अपनी अलग पहचान बनाई. तापसी ने एक्टर धनुष के साथ तमिल फिल्म 'आडूकलाम' से डेब्यू किया था. यह फिल्म सुपरहिट हुई और कुल 6 नेशनल अवॉर्ड्स फिल्म को मिले. तापसी ने अपने फिल्मी करियर की शुरुआत साल 2010 में आई तेलुगु फिल्म 'झूमंडी नादम' से की, जबकि बॉलीवुड में तापसी ने साल 2013 में आई फिल्म 'चश्मे बद्दूर' से डेब्यू किया था. वहीं तापसी एक के बाद एक कई महिला केंद्रित फ़िल्मों की हिस्सा बनी हैं. तापसी के जन्मदिन के मौके पर आज हम तापसी के पांच उन दमदार किरदारों के बारे में बताएंगे जो एक दूसरे से बिल्कुल अलग है. 5 डिफरेंट रोल्स से ही पता लगता है कि तापसी कि खून में एक्टिंग दौड़ती है. 

Recommended Read: Birthday Special: स्ट्रगलिंग डेज में एक कमरे में गुजारा करते थे सोनू सूद, नहीं थी करवट बदलने की जगह, ऐसे बने 'रील' से 'रियल' हीरो

1- पिंक (2016)
ये एक कोर्ट ड्रामा सोशल थ्रिलर फिल्म है. जिसका निर्देशन अनिरुद्ध रॉय चौधरी ने किया था. फिल्म में अमिताभ बच्चन, तापसी पन्नू, कीर्ति कुल्हारी, अंगद बेदी, पियूष मिश्र,एंड्रिया तारियांग मुख्य भूमिका में थे. फिल्म को राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों में सामाजिक मुद्दों पर सर्वश्रेष्ठ फिल्म का पुरस्कार मिला था. फिल्म की कहानी तीन लड़कियां मिनाल (तापसी पन्नू), फलक, (कीर्ति कुल्हाड़ी) और एंड्रिया तेरियांग अच्छी दोस्त हैं और दिल्ली में एक फ्लैट में एक साथ रहती हैं. एक रात एक रिसॉर्ट में उनके साथ एक घटना हो जाती है. लड़कों के एक समूह से इनका झगड़ा होता है. लड़कों के इस समूह में एक मशहूर राजनेता के परिवार का लड़का (अंगद बेदी) होता है. अंगद के आने से इन तीनों लड़कियों का जिंदगी बदल जाती है. पिंक में तापसी के किरदार और एक्टिंग को काफी सराहा गया था. ये फिल्म उनके कैरियर की टर्निंग प्वाइंट फिल्म थी. इसी फिल्म के बात लोगों ने तापसी की एक्टिंग का लोहा माना था. 

2- मनमर्जियां (2018)
फिल्मकार अनुराग कश्यप की आधुनिक जीवन पर आधारित रोमांटिक ड्रामा फिल्म 'मनमर्जियां' में विक्की कौशल, तापसी पन्नू और अभिषेक बच्चन लीड रोल में थे. 'मनमर्जियां' कहानी है रूमी (तापसी पन्नू) की, जो एक बिंदास लड़की है. अपनी जिंदगी के फैसले खुद लेती है और अपनी पड़ोस के लड़के विक्‍की ( विक्‍की कौशल) से बेहद प्‍यार करती है. विक्‍की एक डीजे बनना चाहता है और एक दिलचस्‍प किरदार है. यह दोनों एक दूसरे से बेहद प्‍यार करते हैं लेकिन विक्‍की प्‍यार-मोहब्‍बत तो करना चाहता है पर शादी जैसे कमिटमेंट के लिए तैयार नहीं है. रूमी के घरवाले विक्‍की को उसके साथ देख लेते हैं और फिर बाद शुरू होती है शादी की. लेकिन विक्‍की, जो रूमी के बिना रह नहीं सकता, पर शादी की बात करने के लिए घर नहीं पहुंचता. वहीं एंट्री होती है रोबी ( अभिषेक बच्‍चन) की जो लंदन से अरेंज मैरेज करने अमृतसर अपने घर आता है. उसे रूमी का फोटो देखते ही उससे प्‍यार हो जाता है और यहीं से शुरू होता है यह लव ट्राएंगल. फिल्म में तापसी एक दम बिंदास अवतार में नजर आई थी. 

3- बदला (2019)
बॉलिवुड ऐक्ट्रेस तापसी पन्नू अपनी शानदार ऐक्टिंग के दम पर इंडस्ट्री में लगातार आगे बढ़ रही. फिल्म 'बदला' में तापसी पन्नू की शानदार एक्टिंग देखने को मिली थी. फिल्म में पहली बार तापसी निगेटिव रोल में दिखीं थी. फिल्म में अमिताभ बच्चन, अमृता सिंह और टोनी ल्यूक भी महत्वपूर्ण किरदार में थे. फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर अच्छी कमाई की थी. फिल्म की कहानी नैना (तापसी पन्नू) की है. नैना एक यंग आंत्रप्रेन्योर है. शादीशुदा और एक बच्चे की मां है. हालांकि वो अर्जुन नाम के एक शादीशुदा शख्स के साथ एक्स्ट्रामैरिटल अफेयर में भी है. दोनों एक दूसरे के परिवार वालों से छिप कर पैरिस में मिलते हैं. इसी बीच कहीं जाने के दौरान रोड एक्सिडेंट में नैना की कार से, सनी नाम के एक लड़के की मौत हो जाती है. जिसके बाद दोनों सनी की मौत का सबूत मिटाते हैं. लेकिन सनी की मौत को लेकर कोई दोनों को ब्लैकमेल करता है. पैसे की मांग करता है. दोनों ब्लैकमेलर को रकम देने एक होटल में पहुंचते हैं, यहीं से शुरू होता है कहानी में ट्विस्ट.फिल्म बहुत ही मजेदार थी और एंड तक बांधे रखने में कामयाब भी रहती हैं.

4- सांड की आंख (2019)
यूपी के बागपत के जोहरी गांव की शूटर दादियों, चन्द्रो और प्रकाशी तोमर की जिंदगी पर बनी ये फिल्म हमारे देशवासियों के लिए किसी मिसाल से कम नहीं थी. तोमर परिवार की बहू चन्द्रो और प्रकाशी तोमर की, जो अपनी जिंदगी में घर का काम करने, खाना पकाने, अपने पति की सेवा करने, खेत जोतने और भट्टी में काम करने के अलावा ज्यादा कुछ खास कर नहीं पाईं. उनके पति दिन भर हुक्का फूंकते और बड़ी-बड़ी बातें करते हैं. जिंदगी के 60 साल ऐसे ही जीवन निकाल देने एक बाद चन्द्रो और प्रकाशी को अचानक से अपने शूटिंग टैलेंट का पता चलता है. लेकिन शूटर बनने का सपना देखने लगी इन दोनों दादियों के सामने एक-दो नहीं बल्कि हजारों चुनौतियां हैं. इनमें से सबसे बड़ी है शूटिंग की ट्रेनिंग लेना और उससे भी बड़ी है टूर्नामेंट में जाकर खेलना. जो औरतें कभी अपने घर से बिना किसी मर्द के बाहर ना निकली हों, उन्होंने कैसे अपने इस सपने को ना सिर्फ पूरा किया बल्कि बाकी देशभर की महिलाओं को भी कर दिखाने की प्रेरणा कैसे दी यही इस फिल्म में दिखाया गया था. चन्द्रो तोमर के रोल में भूमि पेडनेकर और प्रकाशी तोमर के रोल में तापसी पन्नू की जितनी तारीफ की जाए कम थी. इन दोनों ही एक्ट्रेसेज ने बढ़िया काम करके दिखाया था और उतने ही प्यार से डायरेक्टर तुषार हीरानंदानी ने फिल्म को बनाया था. 

5- थप्पड़ (2020)
बस एक थप्पड़ ही तो था। क्या करूं? हो गया ना। ज्यादा जरूरी सवाल है ये है कि ऐसा हुआ क्यों? बस इसी ‘क्यों’ का जवाब तलाशती थी अनुभव सिन्हा की ये फिल्म थप्पड़. फिल्म थप्पड़ घरेलू हिंसा की कहानी है. जिसकी शुरुआत एक थप्पड़ के जरिए होती है. फिल्म में अमृता (तापसी पन्नू) कैसे अपने पति विक्रम के प्रति समर्पित है. उसके ख्वाबों को पूरा करने के लिए जी जान लगाए हुए है और फिर एक पार्टी में सबके सामने अचानक पति के थप्पड़ से उसके सारे सपने चकनाचूर हो जाते हैं. फिर एक औरत की जंग शुरू होती है एक ऐसे पति के साथ, जिसका कहना है कि मियां बीवी में ये सब तो हो जाता है . इतना बड़ा तो कुछ नहीं हुआ ना. लोग क्या सोचेंगे मेरे बारे में कि बीवी क्यों भाग गई? जिस औरत की सास उससे ये कहती है कि घर समेट कर रखने के लिए औरत को ही मन मारना पड़ता है. जिस लड़की की अपनी मां उससे तलाक लेने का फैसला सुनकर यह कहती है कि यही सुनना रह गया था कि बेटी तलाक लेगी? क्या गलती हो गई थी हमसे? आसपास ऐसे लोगों से घिरी अमृता की कहानी थी ये फिल्म. थप्पड़ अपने समय की बहुत महत्वपूर्ण फिल्म थी. तापसी पन्नू वैसे ही एक समर्थ अभिनेत्री हैं मगर ‘थप्पड़’ में उनका एक अलग ही आयाम सामने आया था. भिनय कि जिन ऊंचाइयों को वह छूआ था उस उच्च स्तर पर वह अभी तक नहीं गई थीं.

Recommended

Loading...
Share