PeepingMoon Exclusive: 'नकाब' एक्ट्रेस अंकिता चक्रवर्ती खुद को मानती हैं डायरेक्टर्स एक्टर, कहा- 'मेरा काम देख इंडस्ट्री को समझेगा की वो मुझे किसी भी शैली में ले सकते हैं'

By  
on  

बंगाली बाला अंकिता चक्रवर्ती को लोकप्रिय बंगाली धारावाहिक इष्टी-कुटम से मुन के नाम से जाना जाता है. उन्होंने इसके अलावा कई फिल्मों में भी काम किया है. उन्हें सबसे ज्यादा क्राइम थ्रिलर सीरीज ब्योमकेश बख्शी (ब्योमकेश फिरे एलो (2014) और ब्योमकेश बख्शी (2015)) में से एक में काम करने के लिए भी पसंद किया जाता है. ऐसे में अब अंकिता ने हिंदी एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री की तरफ अपना रुख किया है और उन्हें हम एमएक्स प्लेयर की वेब सीरीज 'नकाब' में अपने जलवे बिखेरते हुए देख सकते हैं. इसी बीच PeepingMoon को दिए अपने खास इंटरव्यू में अंकिता ने अपने हिंदी डेब्यू से लेकर अपने किरदार और आने वाले प्रोजेक्ट्स के बारे में खुलकर बातें की हैं.

बंगाली से हिंदी एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री की तरफ किस तरह से आपका आना हुआ?

मैं दरअसल बहुत दिन से ये सोच रही थी कि जैसे की मैं 2016 से यहाँ काम कर रही हूं. जैसे की ओरिजिनली कोलकाता में, इससे पहले मैंने थिएटर्स भी किये हैं, तो एक टाइम के बाद 2016 में मेरा एक शो खत्म हुआ और फिर मुझे लगा की इसे बाद क्या. जैसे की एक प्लेटफॉर्म ने अभी आप काम कर रहे हैं, तो आपके एम्बीशन्स ऐसे होंगे कि आप कुछ ऐसे ब्रांड के साथ आप जुड़ जाएं. तो एक एक्टर होने के नाते 2016 में मेरा शो खत्म हुआ तो मैंने सोचा इसके बाद क्या, सीरियल मुझे और करना नहीं था, क्योंकि एक ही रोल आप 3 साल 4 साल से करते होतो एक बोरडम आ जाती है और एक्टर्स के फैंस भी तो बहुत होते हैं न, बहुत कम एक्टर आपको दिखेंगे जिन्हे हर उम्र के हिसाब से काम मिलता है. जैसे हर कोई अमिताभ बच्चन नहीं हो सकता है, वो आज भी अपनी उम्र के हिसाब से काम कर रहे हैं. तो मेरे दिमाग में यह तब आया जब मेरा शो खत्म हुआ और मेरे पास थोड़ा टाइम था. तो जो कंपनीयों में काम करते हैं, वो दूसरी जगहों पर जाते हैं. तो मुझे दूसरे डाइमेंशन में जाना था, तो मेरे पास दो ही ऑप्शन था एक तो मुंबई और दूसरा चेन्नई, तो लैंग्वेज के हिसाब से मुंबई मेरे लिए सबसे पहले था, मुझे लगा की ये ज्यादा मुनासिब होगा. इस तरह से मै 2017 में यहां शिफ्ट हो गयी, और फिर 7-8 महीनों तक मैं ऐसे ही इंतजार करती रही, फिर मुझे फिल्म मिली और फिर काम करते-करते इस महामारी में मेरे पास नकाब के लिए ऑडिशन आया और फिर मैंने ऑडिशन दिया और सबको अच्छा लगा.

(PeepingMoon Exclusive: 'बड़े अच्छे लगते हैं 2' में ग्रे किरदार निभा रहे हैं एक्टर मनराज सिंह सरमा, कहा- 'मैं चाहता हूं कि लोग मेरे किरदार को देख मुझे हेट करें')

वेब सीरीज का नाम 'नकाब' है और इससे आपको समझता है कि हर किरदार एक राज के साथ सामने आने वाला है, तो कैसा होने वाला है आपको किरदार?

किरदार कैसा होगा वो मैं आपको नहीं बता सकती, पर मैं इतना कह सकती हूं कि जब ये किरदार मुझे समझाया गया है, तब से ही मुझे पता था कि यह बहुत ही मुश्किल रोल है, क्योंकि वो एक एक्टर है, वो एक पीड़ित है, किरदार बायोकॉलर है. इस तरह से इसके बहुत सारे शेड्स हैं, विभा की भूमिका में बहुत सारे शेड्स हैं. जेनरली जैसे की मैंने दूसरे इंटरव्यूज में भी कहा है कि जेनरली हमारे पास ये ब्रीफ होता है कि ये किरदार है, इसका ये पास्ट है और इसके साथ ये होने वाला है और आप यहाँ से शुरू कर सकते हैं और ये क्रिसेस हैं, जो डायरेक्टर हमको समझा देते है और जो हमको स्क्रिप्ट मिलता है. तो इसमें सब कुछ ही मेरे पास था, आप जब ये सीरीज देखेंगे तब आपको समझ आएगा, की इतने सारे शेड्स हैं विभा में, क्योंकि हर एक सीन उसे अलग तरीके से निभाना पड़ता है. तो ये चैलेंजिंग और मुश्किल रोल है.

इसे जो लोग देखेंगे, वो अलग-अलग पैटर्न की एक्टिंग देखेंगे. मेरे लिए अच्छा है, क्योंकि जो क्रिटिकली देखेंगे, जो डायरेक्टर्स देखेंगे और हमारी इंडस्ट्री के लोग देखेंगे व्यूअर को छोड़कर मुझे यकीं है कि उन्हें समझ में आएगा कि किस रेंज में रेंज ऑफ एक्टिंग उनको देखने को मिलेगा. इस तरह से उन्हें समझ में आएगा कि वो मुझे किसी भी शैली में ले सकते हैं. 

इस सीरीज में आप ईशा गुप्ता और मल्लिका शेरावत के साथ स्क्रीन शेयर करती दिखाई देने वाली हैं, तो उनके साथ काम करने का एक्सपीरियंस कैसा था?

बहुत अच्छा था, मल्लिका के साथ शूट करना, ईशा और गौतम (रोड़े) के साथ मेरा डायरेक्टली सीन नहीं क्योंकि वो कॉप्स हैं. तो मल्लिका के साथ जैसा की मैंने सोचा था वैसा तो कुछ भी नहीं था, क्योंकि उनके साथ काम करना बहुत नार्मल था, वो बहुत ही हेल्पफुल हैं और वो बहुत इजी हैं. जैसे की मैं हूं, मैं डायरेक्टर की तरफ देखती हूं कि डायरेक्टर जो बोलेंगे वही करना है, क्योंकि मैं एक डायरेक्टर्स एक्टर हूं. क्योंकि यह उनका बेबी (कहानी) है और उन्हें इसके बारे में सब कुछ पता है, तो इस तरह से उन्हें पता है कि सीन में क्या चाहिए. तो मल्लिका का इंटरफेरेंस बहुत ही कम था, डायरेक्टर जो बोलते थे हम वही करते थे, तो मुझे लगता है कि वो भी डायरेक्टर्स एक्टर हैं. तो ऐसे मेरे अंदर एक्ससाइटमेंट बहुत था, जाहिर सी बात है क्योंकि मैं मल्लिका के साथ स्क्रीन शेयर कर रही थी, जब हमने शूट करना शुरू किया, तो चीजे बहुत ही नार्मल थीं, उनके साथ काम करना बहुत आसान था.

आने वाले डेज में और कौन से प्रोजेक्ट्स हैं, जिसमे हम आपको देखेंगे ?

एक मेरी रिलीज होने वाली है, जिसका पोस्ट (पोस्ट प्रोडक्शन का काम) चल रहा है अभी जो आने वाले 5-6 महीने में आ जानी चाहिए. तो ये मेरी पहली फिल्म है, मैंने जिसे में शूट किया है, इसकी शूटिंग महामारी से पहले हुई है, तो उसका काम चल रहा है. वो चल रहा है और एक वेब सीरीज आया है और कुछ काम की बातें भी चल रही हैं. महामारी की वजह से सभी चीजे स्लो है, लेकिन मुझे यकीं है कि नकाब के रिलीज के बाद मेरे पास और भी काम आने वाले हैं.

Recommended

Loading...
Share